Facebook Logo. (File Photo: IANS)
Facebook Logo. (File Photo: IANS)

एफबीआई निदेशक ने चेतावनी दी कि फेसबुक ‘चाइल्ड पोर्नोग्राफर’ का मंच बन सकता है

एफबीआई प्रमुख बोले फेसबुक एन्क्रिप्शन चाइल्ड पोर्नोग्राफी को बढ़ाने में मदद करेगा

नई दिल्ली, 5 अक्तूबर। फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टीगेशन (एफबीआई) के निदेशक क्रिस्टोफर वरे (FBI Director Christopher Wray) ने कहा है कि फेसबुक यदि अपने डेटा एन्क्रिप्शन प्रोजेक्ट को जारी रखता है, तो यह बिना किसी नियंत्रण के सोशल नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म पर सिर्फ चाइल्ड पॉर्नोग्राफरों को फलने-फूलने में मदद करेगा। अमेरिकी न्याय विभाग में दिए एक भाषण में शुक्रवार को वरे ने कहा, “जब बच्चों की सुरक्षा की बात आती है, तो हम एक वास्तविक लचीले बिंदु पर होते हैं और हम चट्टान से गिरने का जोखिम उठाते हैं।”

सीएनएन की खबर FBI director claims encryption plan would make Facebook a ‘dream come true’ for child pornographers में क्रिस्टोफर वरेके हवाले से कहा कि प्लेटफॉर्म पर यदि कम्युनिकेशन एन्क्रिप्ट किया गया है, तो फेसबुक पर दुरुपयोग करने वालों के बीच कारोबार किए गए चाइल्ड पॉर्नोग्राफी की इमेज और वीडियो खो सकते हैं।

निदेशक क्रिस्टोफर वरे ने कहा, “यदि ऐसा होता है तो फेसबुक बाल शोषण को मुख्य रूप से सप्लाई करने वाले शिकारियों और चाइल्ड पॉर्नोग्राफरों के लिए एक सपने के सच होने के समान होगा।”

उन्होंने कहा, “फिर यह एक ऐसा मंच होगा, जो उन्हें बच्चों और समान विचारधारा वाले अपराधियों को ढूढ़ने और उनसे जुड़ने की अनुमति प्रदान करेगा।”

फेसबुक की योजना 2020 तक एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन के साथ व्हाट्सएप, मैसेंजर और इंस्टाग्राम के बीच चैट को एकीकृत करने की है।

आयरिश डेटा प्रोटेक्शन कमीशन (डीपीसी) ने फेसबुक को चैट सेवाओं के अपने नियोजित एकीकरण पर भी चेतावनी दी है।

डीपीसी ने सोशल मीडिया दिग्गज के प्रस्तावों पर ‘तत्काल ब्रीफिंग’ प्रदान करने के लिए कहा है। फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने हालांकि दोहराया है कि मैसेजिंग में एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन प्रमुख है।

अमेरिका के अटॉर्नी जनरल विलियम बर (US Attorney General William Barr) और ब्रिटेन व ऑस्ट्रेलिया के शीर्ष अधिकारियों ने शुक्रवार को फेसबुक को अपने एन्क्रिप्शन प्रोजेक्ट (encryption project) को छोड़ने के बाबत एक पत्र लिखा है।

पत्र में कहा गया है,

“जहां जीवन और हमारे बच्चों की सुरक्षा दांव पर लगाती हो, ऐसे में कंपनियां काम नहीं कर सकती हैं और अगर जुकरबर्ग के पास वास्तव में फेसबुक के दो अरब से अधिक यूजर्स की रक्षा करने की एक विश्वसनीय योजना है, तो यह समय है कि वह हमें इससे अवगत कराएं कि यह क्या है।”

About हस्तक्षेप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.