Education, Engineering, Science, Research, शिक्षा, इंजीनियरिंग, विज्ञान, अनुसंधान,

जिंदल स्टेनलेस के सहयोग से आईआईटी खड़गपुर में शुरू होंगे मेटलर्जिकल एवं मटीरियल्स इंजीनियरिंग के नए पाठ्यक्रम

नई दिल्ली, 26 अप्रैल। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (Indian Institute of Technology) आईआईटी खड़गपुर (IIT Kharagpur)) के मेटलर्जिकल एवं मटीरियल्स इंजीनियरिंग विभाग में अंडर ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट पाठ्यक्रमों (Undergraduate and Post Graduate Courses in Metallurgical and Materials Engineering Department)) में स्टेनलेस स्टील और एडवांस्ड फेरस अलॉयज (Stainless steel and advanced ferrous alloys) पर आधारित तीन क्रेडिट कोर्स शुरू करने के लिए संस्थान और जिंदल स्टेनलेस स्टील (Jindal Stainless Steel) के बीच साझेदारी हुई है।

यह जानकारी जिंदल स्टेनलेस स्टील की ओर से दी गई।

कंपनी ने एक बयान में कहा कि इस पाठ्यक्रम के तहत स्टेनलेस स्टील और इसकी विभिन्न श्रेणियों की विशिष्टता, व्यावहारिक एवं आकार संबंधी (बिहेवियरल एवं फॉमिर्ंग) विशेषताओं, जीवन-चक्र लागत के निर्धारण और विभिन्न प्रकार के एप्लीकेशन के बारे में समझ के साथ-साथ एडवांस्ड फेरस अलॉयज का अध्ययन भी शामिल होगा।

पाठ्यक्रम की शुरुआत संस्थान में जुलाई-नवंबर 2019 अर्धवार्षिक कार्यक्रम के दौरान ऐच्छिक विषय के तौर पर होगी और आरंभिक बैच में 50-60 छात्र होंगे।

आईआईटी खड़गपुर के मेटलर्जिकल एवं मटीरियल्स इंजीनियरिंग विभाग और स्कूल ऑफ नैनो-साइंस एंड टेक्नोलॉजी के प्रमुख डॉ. राहुल मित्रा ने कहा,

“हमें आईआईटी खड़गपुर की सेनेट द्वारा इस ऐच्छिक पाठ्यक्रम को शुरू करने की मंजूरी मिल गई है। यह पाठ्यक्रम स्टेनलेस स्टील और फेरस अलॉयज के विभिन्न आयामों के विस्तृत अध्ययन पर ध्यान केन्द्रित करेगा।”

जिंदल स्टेनलेस के प्रबंध निदेशक, अभ्युदय जिंदल ने कहा,

“आईआईटी खड़गपुर के सहयोग से यह पाठ्यक्रम छात्रों में नवोन्मेष की भावना पैदा करेगा और उन्हें भविष्य में वहनीय समाधान अपनाने के लिए प्रेरित करेगा। पर्यावरण के अनुकूल धातु के तौर पर स्टेनलेस स्टील इस पहल के लिए उचित साधन होगा।”

About हस्तक्षेप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.