Dr. Karan Singh, डॉ. कर्ण सिंह जम्मू एवं कश्मीर के राजघराने के सदस्य व पूर्व सदर-ए-रियासत,
Dr. Karan Singh, डॉ. कर्ण सिंह जम्मू एवं कश्मीर के राजघराने के सदस्य व पूर्व सदर-ए-रियासत,

महाराजा कश्मीर के बेटे ने कहा, संसद भवन को छोड़कर नए मकान में नहीं ले जाया जाए, क्योंकि “ऐसा ढांचा हम फिर कभी नहीं बना पाएंगे।”

संसद को नए भवन में न ले जाएं : कर्ण सिंह

नई दिल्ली, 28 अक्टूबर 2019. महाराजा कश्मीर के बेटे और वरिष्ठ कांग्रेस नेता डॉ. कर्ण सिंह ने सोमवार को उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू को पत्र लिखकर अपील की कि इतना ‘खूबसूरत, अनोखा, गोलमोल’ संसद भवन को छोड़कर नए मकान में नहीं ले जाया जाए, क्योंकि “ऐसा ढांचा हम फिर कभी नहीं बना पाएंगे।”

राजपथ और संसद भवन को फिर से बनाए जाने पर राय Opinion on rebuilding Rajpath and Parliament House

राजपथ और संसद भवन को फिर से बनाए जाने के प्रस्ताव पर अपने विचार प्रकट करते हुए उन्होंने अपने पत्र में कहा,

“मेरी स्पष्ट राय है कि ‘खूबसूरत, अनोखा, गोलमोल संसद भवन को हमें किसी कीमत पर नहीं छोड़ना चाहिए, क्योंकि ऐसा ढांचा हम फिर कभी नहीं बना पाएंगे। इसे आधुनिक भवन में ले जाए जाने से हम पुराने भवन के विशेष परिवेश से वंचित हो जाएंगे।”

Unnecessary things and offices should be moved from Parliament House

उन्होंने कहा,

“मेरी राय में, हमारे लिए यह संभव है कि मौजूदा इमारत से गैरजरूरी चीजों व दफ्तरों को दूसरी जगह ले जाया जाए, और हॉलों का विस्तार कर उसमें और सदस्यों के बैठने लायक जगह बनाई जाए।”

Lok Sabha should be moved to the Central Hall

जम्मू एवं कश्मीर के राजघराने के सदस्य व पूर्व सदर-ए-रियासत, डॉ. सिंह ने सुझाव दिया कि लोकसभा को केंद्रीय कक्ष में ले जाया जाए, जहां दोनों सदनों का संयुक्त अधिवेशन वर्षो से होता रहा है।

Rajya Sabha can be moved to Lok Sabha Room

उन्होंने कहा कि राज्यसभा को लोकसभा कक्ष में ले जाया जा सकता है और पुराने हॉल का उपयोग सदस्यों के लिए सेंट्रल हॉल जैसे विनोद कक्ष के रूप में किया जा सकता है।

About हस्तक्षेप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.