राहुल गांधी ने जीता हिन्दुस्तानियों का दिल

लखनऊ से तौसीफ़ क़ुरैशी। वैसे तो गांधी परिवार (Gandhi family) की हिन्दुस्तान की जनता (People of india) में अलग ही क़द्र है क्योंकि जिस तरह से गांधी परिवार ने देश के लिए क़ुर्बानियाँ (Sacrifice for country) दी हैं और इस देश का नवनिर्माण किया है, सुई से लेकर परमाणु तक बनाने में सफलता प्राप्त की, इसमें कोई शक नहीं है। यही कारण है कि हिन्दुस्तान की अवाम गांधी परिवार को अपने प्यार से नवाज़ती आ रही है। इतिहास यही बताता है, लेकिन आजकल देश के सियासी हालात पर धर्म की आड़ लेकर सियासत करने वाले हावी हो चले थे, परन्तु राहुल गांधी ने धर्म का चोला पहन कर सियासत करने वालों के बीच में रह कर ही अपनी जगह बनाई और पार्टी को खड़ा करने में सफल होते दिखाई दे रहे हैं।

राहुल गांधी ने जब कांग्रेस की कमान सँभाली थी तो पार्टी बहुत बुरे दौर से गुज़र रही थी। हर तरफ़ हार ही हार का सामना करना पड़ रहा था। साम्प्रदायिक पार्टी एक के बाद एक राज्यों पर भगवा फहराती जा रही थी, लेकिन राहुल गांधी ने हार नही मानी और लगे रहे अपनी और पार्टी की विचारधारा को समझाने में कि यह देश सबको साथ लेकर चलेगा न कि नफ़रतों की दीवार खड़ी करने से। आख़िरकार राहुल गांधी की इसी सोच पर हिन्दी भाषी तीन राज्यों की जनता ने अपनी मोहर लगाई और कांग्रेस मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ व राजस्थान जीतने में कामयाब रही। बस यहीं से साम्प्रदायिक पार्टी भाजपा के पतन की शुरूआत मानी जा रही है, क्योंकि पन्द्रह-पन्द्रह साल से इन राज्यों पर स्वयंभू भगवा पार्टी का राज था। हालाँकि कांग्रेस को 2014 में देश की अवाम ने सबसे कम सीटें दी थी, लेकिन राहुल गांधी ने उन्हीं कम सीटें के साथ सकारात्मक विपक्ष की भूमिका निभाई, जब लगा कि सरकार भ्रष्टाचार की दलदल में जाकर किसी को फ़ायदा पहुँचाने की कोशिश कर रही है तो वह मज़बूती के साथ अड़ गए कि यह नही होने देंगे। राफ़ेल पर हुए भ्रष्टाचार पर जिस तरह राहुल अकेले ही अडे रहे और अब लगने भी लगा है कि राफ़ेल में ज़रूर कुछ न कुछ गड़बड़ है, क्योंकि जिस तरह से एक के बाद एक ख़ुलासे हो रहे हैं कि किस तरह उद्योगपति अनिल अंबानी को फ़ायदा पहुँचाया गया। द हिन्दू अख़बार ने कई ख़ुलासे किए जो इसी ओर इशारा कर रहे हैं कि चौकीदार चोर है। ख़ैर ये तो जाँच का विषय है कि चौकीदार चोर है या नहीं, परन्तु सरकार जाँच से भाग रही है, न जेपीसी करने को तैयार, न हो रहे ख़ुलासे पर सही बोलने को तैयार है, झूठ बोलने में माहिर एक के बाद एक झूठ बोल रही है, जो मोदी और सरकार को कटघरे में खड़ा करता है। लेकिन उसी राहुल गांधी ने जब सरकार के साथ खड़े होने की ज़रूरत महसूस की तो तनिक भी देर नहीं की।

कश्मीर के पुलवामा में आतंकी घटना के बाद जिसमें पचास सैनिक शहीद हो गए थे, राहुल गांधी ने दुनिया को और ख़ासकर पाकिस्तान को यह संदेश देने की कोशिश की कि हम देश की सेना और सरकार के साथ हैं। सरकार कोई भी कड़ा फ़ैसला ले, वो हर क़दम पर सरकार के साथ हैं।

आमतौर पर देखा जाता है कि जब भी देश में कोई आतंकी घटना होती है तो विपक्ष सरकार की आलोचना करता है, जैसे पूर्व में होता था। मनमोहन सिंह सरकार के दौरान नरेन्द्र मोदी ख़ूब मज़ाक़ बनाया करते थे। ऐसी संवेदनशील स्थिति में भी मोदी ने देश के साथ खड़े होने के बजाय सरकार की आलोचना की थी, लेकिन राहुल गांधी ने सबसे अलग शुरूआत करने की पहल की है। यूपीए की चेयरमैन सोनिया गांधी पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह सरीखे नेता सरकार के साथ खड़े हैं। जो आज सरकार में हैं वह जब विपक्ष में हुआ करती थीं तो आलोचनाओं के अलावा कुछ नहीं करती थी, लेकिन जो आज विपक्ष में हैं वह सरकार की आलोचनाएँ भी करती हैं और जब साथ खड़े होने की ज़रूरत होती है तो साथ भी खड़ी होती है। राहुल गांधी यह फ़र्क़ महसूस कराने में कामयाब रहे कि कांग्रेस और भाजपा में यह फ़र्क़ है। केन्द्र सरकार ने अपने कार्यकाल में पहली बार ऐसी घटना के बाद सर्वदलीय बैठक बुलाई जो मोदी के अंहकारी होने को साबित करता है, लेकिन राहुल गांधी के द्वारा लिए गए इस फ़ैसले की चारों ओर चर्चा है कि राहुल गांधी एक ज़िम्मेदार विपक्ष की भूमिका निभा रहे हैं, जिससे उन्होंने देश की अवाम का दिल जीत लिया है। इसे कहते हैं सियासत, जो सबके दिलो पर राज करें।

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

<iframe width="900" height="506" src="https://www.youtube.com/embed/j0hTGp6j3Ls" frameborder="0" allow="accelerometer; autoplay; encrypted-media; gyroscope; picture-in-picture" allowfullscreen></iframe>

 

About हस्तक्षेप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.