Tag Archives: ख़ुमारी

धूल भरे मौसमों की ख़ुमारी पर दो बूँद की बारिश….

Ishq

धूल भरे मौसमों की ख़ुमारी पर दो बूँद की बारिश…. सौंधी महक से बौराई.. फ़िज़ां में…. शबनमी अल सुबहा के जोगिया लशकारे.. दरख़्तों के चेहरों से सरकते हैं.. तो.. अलसाये मजबूत काँधो वाले आबनूसी जिस्म.. उठाकर बाज़ुओं को अंगडाईयाँ.. लेने लगते हैं… इक मनचली शाख़.. उंगलियों में लपेट-लपेट कर कभी खोलें.. कभी बाँधे सिरे… अटका के सुबह को पहलू से …

Read More »