Mahatma Gandhi murder

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के प्रपौत्र बोले – अगर गांधी की हत्या मामले में आज फैसला आता तो गोडसे हत्यारा लेकिन देशभक्त होता

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के प्रपौत्र बोले – अगर गांधी की हत्या मामले में आज फैसला आता तो गोडसे हत्यारा लेकिन देशभक्त होता

यहां जानिए महात्मा गांधी के परपोते तुषार गांधी ने अयोध्या टाइटल सूट पर सर्वोच्च न्यायालय के फैसले पर क्या प्रतिक्रिया दी।

Here’s how Mahatma Gandhi’s great-grandson Tushar Gandhi reacted to the Supreme Court verdict on the Ayodhya title suit.

नई दिल्ली, 10 नवंबर. राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के प्रपौत्र तुषार गांधी ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से ट्वीट किया,

‘अगर गांधी की हत्या मामले में सर्वोच्च न्यायालय आज फिर से सुनवाई करे तो फैसला यही होगा कि नाथूराम गोड्से एक हत्यारा था लेकिन वह देशभक्त भी था।’

अयोध्या में जमीन के मालिकाना हक से संबंधित मुकदमे पर सर्वोच्च न्यायालय के शनिवार को सुनाये गये फैसले पर महात्मा गांधी के प्रपौत्र तुषार गांधी ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए उन्होंने एक और ट्वीट किया,

‘हर किसी को खुश करना न्याय नहीं होता है, हर किसी को खुश करना राजनीति होती है।’

तुषार ने ट्वीट किया,

‘जब अयोध्या का फैसला सुना दिया गया है तो क्या हम उन वास्तविक मुद्दों की ओर लौट सकते हैं जिनसे हमारा देश त्रस्त है.’

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा कि

“यह न्याय होता अगर SC ने अयोध्या में मंदिर और मस्जिद दोनों के निर्माण के लिए एक निकाय की नियुक्ति की होती, दोनों के लिए एक ही निकाय जिम्मेदार होता।“

उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा आज एक नई श्रेणी को न्याय प्रणाली में भर्ती कराया गया है category ‘विश्वास का अपराध’ (‘Crime of Belief’.)।

SC के अयोध्या के फैसले को मानना पड़ेगा, जिसका पालन भी करना होगा। तब भी जब कोई इसका सम्मान नहीं करता है।

बता दें सर्वोच्च न्यायालय की संविधान पीठ ने शनिवार को सर्वसम्मति से अपने फैसले में अयोध्या में विवादित स्थल पर राम मंदिर निर्माण की राहें खोल दीं और उत्तर प्रदेश की धार्मिक नगरी में एक ‘प्रमुख’ जगह पर नयी मस्जिद के निर्माण के लिये इसके एवज में पांच एकड़ वैकल्पिक जमीन सुन्नी वक्फ बोर्ड को आवंटित करने का केंद्र को निर्देश दिया।

About हस्तक्षेप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.