Wheel chair at airport photo tweeted by Anand Mahindra

क्या हो गया है व्हीलचेयर घोटाला ? आनंद महिंद्रा के ट्वीट पर क्या क्या बोले लोग

क्या हो गया है व्हीलचेयर घोटाला ? आनंद महिंद्रा के ट्वीट पर क्या क्या बोले लोग

भारतीय यात्रियों को व्हीलचेयर की इतनी जरूरत क्यों? : आनंद महिंद्रा

नई दिल्ली, 03 नवंबर। महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा (Mahindra Group Chairman Anand Mahindra) ने शनिवार को एक ट्वीट में आश्चर्य जताते हुए कहा कि क्या भारतीय यात्रियों द्वारा हवाई अड्डों पर व्हीलचेयर (Wheelchairs at airports) की जरूरत को झूठमूठ में बताया जाता है। इस प्रश्न के बाद से उनके फॉलोअर्स के बीच बहस छिड़ गई है।

महिंद्रा ने ट्वीट कर कहा,

“अधिकांश हवाईअड्डों पर केवल भारत से आने-जाने वाली फ्लाइट्स में काफी संख्या में व्हीलचेयर प्री-ऑर्डर किए गए हैं। यह जानने की कोशिश कर रहा हूं क्यों?”

उन्होंने कहा,

“1) क्या बुजुर्ग भारतीय अन्य लोगों से अधिक यात्रा करते हैं? 2) हमारे पास अधिक कमजोर/अयोग्य व्यक्ति हैं? 3) क्या हम सिर्फ जुगाड़ू हैं, जो व्हीलचेयर का इस्तेमाल तेजी से पहुंचने के लिए करते हैं।”

इसके जवाब में, कुछ यूजर्स ने जहां एक ओर इन व्हीलचेयर को भारतीयों द्वारा किया गया ‘घोटाला’ करार दिया, वहीं अन्य लोगों ने कहा कि व्हीलचेयर सहायता उन बच्चों के माता-पिता के लिए एक वरदान है जो देश के बाहर बसे हैं।

बाद में आनंद महिंद्रा की दिमाग की बत्ती जल गई, जब Dimag Ki Batti @batti_ki नामक यूजर ने ट्वीट किया कि,

“इनमें से अधिकांश पश्चिम में बसे लोगों के माता-पिता हैं और कई बार हवाई अड्डों पर नेविगेट करने में पारंगत नहीं होते हैं, उनके बच्चे इसलिए व्हीलचेयर सहायता मांगते हैं ताकि उनसे कनेक्टिंग फ्लाइट्स छूट न जाएं। यह एयरलाइंस के लिए इस कम्प्लीमेंट्री से कमाई का अवसर है।”

महिंद्रा ने इस ट्वीट का उत्तर देते हुए लिखा,

“ यह नहीं सोचा था…”

जब वरिष्ठ पत्रकार चित्रा सुब्रमण्यम (Chitra Subramaniam) ने कहा कि

“अंतर्राष्ट्रीय एयरलाइन कंपनियां मजाक में इसे IAS – भारतीय असिस्टेड सर्विस कहती हैं। यह भी आम है कि लोग ड्यूटी फ्री में घूमते हैं और फिर अपनी कुर्सियों पर वापस आते हैं। वास्तविक मामले दुर्लभ हैं। हम हंसी का पात्र हैं।“

तो महिंद्रा ने इस ट्वीट का उत्तर देते हुए लिखा,

“दुख की बात है, अगर सच है …”

वैसे अगर आप गूगल पर “Wheelchairs at airports”  सर्च करें तो About 8,49,000 रिजल्ट्स आते हैं, जिससे यह साबित होता है कि समस्या इतनी भी आसान नहीं है। इससे संबंधित लोगों ने जो सर्च किया है उनमें how to request wheelchair at airport in india, how to request wheelchair at airport in india, indigo wheelchair assistance charges, how to get wheelchair assistance at airport, how does wheelchair assistance work, airport wheelchair assistance tip, how to request wheelchair assistance at airport, how to get wheelchair assistance at airport spicejet, how to request wheelchair at airport in india, प्रमुख हैं। लगता है आनंद महिंद्रा को ट्वीट करने से पहले एक बार गूगल सर्च कर लेना चाहिए था।

Why do Indian travelers need wheelchairs so much? : Anand Mahindra

About हस्तक्षेप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.