प्रगति के बावजूद मलेरिया से मरने वालों की संख्या में भी भारत टॉप 11 में

प्रगति के बावजूद मलेरिया से मरने वालों की संख्या में भी भारत टॉप 11 में विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा जारी नई विश्व मलेरिया रिपोर्ट 2018 के अनुसार, मलेरिया के मामलों में कटौती वैश्विक स्तर पर कई वर्षों की गिरावट के बाद बंद हो गई है। मलेरिया से होने वाली मौतों की रोकथाम करने और रोग …
 | 

प्रगति के बावजूद मलेरिया से मरने वालों की संख्या में भी भारत टॉप 11 में

विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा जारी नई विश्व मलेरिया रिपोर्ट 2018 के अनुसार, मलेरिया के मामलों में कटौती वैश्विक स्तर पर कई वर्षों की गिरावट के बाद बंद हो गई है।

मलेरिया से होने वाली मौतों की रोकथाम करने और रोग का प्रसार रोकने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने अपने साझीदारों के साथ नया कार्यक्रम शुरू किया है।

डब्ल्यूएचओ द्वारा लगातार दूसरे वर्ष तैयार वार्षिक मलेरिया रिपोर्ट से मलेरिया प्रभावित लोगों की संख्या का खुलासा होता है: 2017 में, मलेरिया के अनुमानित 219 मिलियन मामले थे, जो पिछले साल 217 मिलियन थे। लेकिन पिछले कुछ वर्षों में, वैश्विक स्तर पर मलेरिया से निपटने वाले लोगों की संख्या लगातार बढ़ रही थी, 2010 में 239 मिलियन से 2015 में 214 मिलियन हो गई थी।

क्यों होता है मलेरिया

Why malaria occurs

डब्ल्यूएचओ के मुताबिक मलेरिया प्लाज्मोडियम परजीवी (Plasmodium parasites) के कारण होता है। परजीवी संक्रमित मादा एनोफेलेस मच्छरों (female Anopheles mosquitoes) जिन्हें "मलेरिया वैक्टर" कहा जाता है, के काटने के माध्यम से लोगों को फैलता है। 5 परजीवी प्रजातियां (parasite species) हैं जो मनुष्यों में मलेरिया का कारण बनती हैं, और इन प्रजातियों में से 2 – पी. फाल्सीपेरम (P. falciparum) और पी. विवाक्स (P. vivax) सबसे बड़ा खतरा पैदा करते हैं।

जहां मलेरिया सबसे ज्यादा मार कर रहा है

2017 में, सभी मलेरिया मामलों में से लगभग 70% (151 मिलियन) और मृत्यु (274000) 11 देशों में केंद्रित थीं: इनमें से 10 अफ्रीका में (बुर्किना फासो, कैमरून, कांगो का लोकतांत्रिक गणराज्य, घाना, माली, मोजाम्बिक, नाइजर, नाइजीरिया , युगांडा और तंजानिया के संयुक्त गणराज्य) और ग्यारहवां भारत। पिछले वर्ष की तुलना में 2017 में इन 10 अफ्रीकी देशों में 3.5 मिलियन अधिक मलेरिया के मामले सामने आए थे, जबकि भारत ने अपने बीमारी के बोझ को कम करने में प्रगति दिखाई।

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

<iframe width="1347" height="489" src="https://www.youtube.com/embed/HqTLqhrqBsA" frameborder="0" allow="accelerometer; autoplay; encrypted-media; gyroscope; picture-in-picture" allowfullscreen></iframe>

 

logo ko malaria ke bare me batan, changes in locality due to malaria and dengue,

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription