World Pneumonia Day, विश्व निमोनिया दिवस,

विश्व निमोनिया दिवस 12 नवंबर 2019, एक साल में आठ लाख से ज्यादा बच्चों को लील जाता है निमोनिया

विश्व निमोनिया दिवस 12 नवंबर 2019, एक साल में आठ लाख से ज्यादा बच्चों को लील जाता है निमोनिया

वर्ष 2009 से हर साल 12 नवंबर को विश्व निमोनिया दिवस (World Pneumonia Day) मनाया जाता है।

विश्व निमोनिया दिवस का उद्देश्य (Objective of World Pneumonia Day) है –

5 वर्ष से कम आयु के बच्चों के दुनिया के प्रमुख संक्रामक हत्यारे निमोनिया के बारे में जागरूकता बढ़ाना;

निमोनिया से बचाव, रोकथाम और उपचार के लिए हस्तक्षेप को बढ़ावा देना और अतिरिक्त संसाधनों और ध्यान की आवश्यकता में सिद्ध दृष्टिकोणों और समाधानों को उजागर करना;

निमोनिया और अन्य सामान्य (फिर भी कभी-कभी घातक) बचपन की बीमारियों से निपटने के लिए दान जुटाना है।

हालांकि निमोनिया आसानी से रोका जा सकता है और उपचार योग्य है, इसके बावजूद पांच साल से कम उम्र के बच्चों में होने वाली मौतों के प्रमुख कारणों में से एक है।

यद्यपि टीके और अन्य निवारक प्रयास निमोनिया बीमारी के बोझ को कम कर रहे हैं, फिर भी बहुत अधिक काम करने की आवश्यकता है।

गरीब समुदायों में रहने वालों को निमोनिया का सबसे अधिक खतरा है। निमोनिया बच्चों और परिवारों को हर जगह प्रभावित करता है, लेकिन दक्षिण एशिया और उप-सहारा अफ्रीका ( South Asia and sub-Saharan Africa) में इसका प्रकोप ज्यादा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि प्रत्येक बच्चा, चाहे वे जहाँ भी पैदा हुआ हो, वह जीवन रक्षक टीकों और दवाओं तक पहुँच का हकदार है। निमोनिया दुनिया भर में बच्चों की मृत्यु का सबसे बड़ा संक्रामक कारण है। 2017 में 5 साल से कम उम्र के 808694 बच्चों की मौत हो गई, जो पांच साल से कम उम्र के बच्चों की हुई मौतों का 15% है ।

क्या है निमोनिया (Pneumonia in Hindi)

निमोनिया फेफड़ों का एक संक्रमण है जो वायरस या बैक्टीरिया के कारण सबसे अधिक होता है। ये संक्रमण आमतौर पर संक्रमित लोगों के सीधे संपर्क से फैलते हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन की एक फैक्ट शीट के मुताबिक निमोनिया तीव्र श्वसन संक्रमण (acute respiratory infection) का एक रूप है जो फेफड़ों को प्रभावित करता है। फेफड़े एल्वियोली नामक छोटे थैली (called alveoli) से बने होते हैं, जो एक स्वस्थ व्यक्ति के सांस लेने पर हवा से भर जाते हैं। जब किसी व्यक्ति को निमोनिया होता है, तो एल्वियोली मवाद और तरल पदार्थ से भर जाती है, जो सांस लेने में दर्दनाक बनाता है और ऑक्सीजन का सेवन सीमित करता है।

The gold standard for diagnosis of community-acquired pneumonia

eMediNexus के एडिटर-इन-चीफ पद्मश्री डॉ. केके अग्रवाल (Editor-in-Chief eMediNexus – Dr KK Aggarwal) के मुताबिक,

समुदाय-अधिग्रहित निमोनिया के निदान के लिए प्रमुख मानक में एक मरीज में सादे छाती के एक्स-रे में निमोनिया के लक्षण (खांसी, बुखार, फुफ्फुसीय छाती में दर्द, डिस्नेनीया, थूक, घटी हुई या ब्रोन्कियल सांस की आवाज) हैं।

डॉ. केके अग्रवाल के मुताबिक निमोनिया का संदेह होने पर याद रखने के लिए प्रमुख पांच बिंदु हैं :

सादे छाती के एक्स-रे में रिसाव की उपस्थिति नैदानिक है।

चेस्ट एक्स-रे (पीए) और पार्श्व दृश्य पर्याप्त हैं (Chest x-ray (PA) and lateral views are adequate)।

सीटी स्कैन में छाती के एक्स-रे की तुलना में अधिक संवेदनशीलता और सटीकता होती है।

वॉल्यूम में कमी शुरू में नकारात्मक रेडियोग्राफ़ का उत्पादन कर सकती है (Volume depletion may produce an initially negative radiograph)।

पहले 24 घंटों में एक्स-रे सामान्य हो सकता है। यदि आपको निमोनिया की आशंका है, तो एम्पिरिक एंटीबायोटिक्स (empiric antibiotics) शुरू करें और 24 से 48 घंटों में छाती का एक्स-रे (the chest x-ray) दोहराएं या एचआर सीटी स्कैन या फेफड़ों का अल्ट्रासाउंड (HR CT scan or lung ultrasound) करें।

विश्व स्वास्थ्य संगठन की एक फैक्ट शीट के मुताबिक निमोनिया को टीकाकरण, पर्याप्त पोषण और पर्यावरणीय कारकों को संबोधित करके रोका जा सकता है।

बैक्टीरिया के कारण होने वाले निमोनिया का इलाज (Treatment of pneumonia) एंटीबायोटिक दवाओं से किया जा सकता है, लेकिन निमोनिया से पीड़ित बच्चों में से केवल एक तिहाई को ही एंटीबायोटिक दवाएं मिल पाती हैं।

About हस्तक्षेप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.