Breaking News
Home / समाचार / दुनिया / पाक-भारत तनाव : इमरान, मोदी की फिर से दोस्ती कराएंगे ट्रंप, 27 सितंबर को हो सकती है तीनों की मुलाकात
Donald Trump Narendra Modi
Donald Trump Narendra Modi Photo IANS

पाक-भारत तनाव : इमरान, मोदी की फिर से दोस्ती कराएंगे ट्रंप, 27 सितंबर को हो सकती है तीनों की मुलाकात

नई दिल्ली, 18 सितंबर। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा है कि वह अगले कुछ दिनों में पाकिस्तान के प्रधान मंत्री इमरान खान और भारतीय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी से मिलेंगे और दावा किया कि दोनों परमाणु-सशस्त्र पड़ोसियों के बीच बढ़ते तनाव को फैलने से रोकने में “प्रगति हो रही है”।

सोमवार को वाशिंग्टन में मीडिया से बात करते हुए, अमेरिकी राष्ट्रपति ने पुष्टि की कि वह मोदी के लिए ह्यूस्टन में भारतीय प्रवासी द्वारा आयोजित की जा रही एक रैली में भाग लेंगे और कहा: “मैं पीएम मोदी से मिलूंगा – हम भारत और पाकिस्तान के साथ बैठक करेंगे।”

ट्रम्प ने जम्मू-कश्मीर में कश्मीर की स्वायत्त स्थिति के निरसन के बाद दोनों देशों के बीच वर्तमान तनाव में वृद्धि का उल्लेख करते हुए जोर दिया कि “और मुझे लगता है कि वहां बहुत प्रगति हो रही है, बहुत सारी प्रगति हो रही है,”

पीएम मोदी और पाक पीएम इमरान खान, दोनों आगामी 27 सितंबर को संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करने वाले हैं और अगले सप्ताह न्यूयॉर्क में होंगे। अमेरिकी राष्ट्रपति और पाकिस्तानी पीएम के बीच एक बैठक होने की उम्मीद है।

व्हाइट हाउस ने कहा कि ट्रम्प दो नेताओं और देशों के बीच संबंध के प्रतीकात्मक शो में ह्यूस्टन में भारतीय-अमेरिकियों की एक विशाल सभा में मोदी के साथ शामिल होंगे।

हालांकि ट्रम्प के इस वक्तव्य को भारत के अंदरूनी मामलों में हस्तक्षेप माना जा रहा है, लेकिन मोदी सरकार की तरफ से अभी तक इस पर खामोशी बरती गई है। भारत का 1947 से स्पष्ट रुख रहा है कि जम्मू-कश्मीर भारता का अन्दरूनी मसला है और इस पर पाकिस्तान या अन्य किसी तीसरे देश को दखल देने का अधिकार नहीं है। ट्रम्प के बयान से लगता है कि वाशिंगटन में कुछ खिचड़ी पक रही है और ट्रम्प दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों के बीच सुलह कराने के लिए प्रयासरत हैं। अब देखना यह है कि क्या पीएम मोदी ट्रम्प के इस हस्तक्षेप का स्वागत करते हैं या फिर याद गिलाते हैं कि कश्मीर भारत का अन्दरूनी मामला है।

About हस्तक्षेप

Check Also

Madhya Pradesh Progressive Writers Association

विचार के बिना अधूरी होती है रचना

प्रलेसं के एक दिवसीय रचना शिविर में कविता, कहानी, लेखन पर हुआ विमर्श वरिष्ठ रचनाकारों …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: