Breaking News
Home / समाचार / कानून / रिहाई मंच ने ‘गोडसे अमर रहें’ कहने वालों को गिरफ्तार करने की माँग की
NathuRam Godse

रिहाई मंच ने ‘गोडसे अमर रहें’ कहने वालों को गिरफ्तार करने की माँग की

Rihai Manch letter to UP DGP- रिहाई मंच ने गोडसे अमर रहें कहने वालों पर यूपी डीजीपी से मुकदमा दर्ज करने की मांग की, पुलिस क्या नहीं मानती महात्मा गांधी के हत्यारे को महिमामंडित करना अतिवाद है

लखनऊ, 06 अक्तूबर 2019. रिहाई मंच ने ‘गोडसे अमर रहें’ कहने वालों पर यूपी डीजीपी से मुकदमा दर्ज करने की मांग करते हुए सवाल किया है कि क्या उत्तर प्रदेश पुलिस महात्मा गांधी के हत्यारे को महिमामंडित करना अतिवाद नहीं मानती है।

मंच महासचिव राजीव यादव ने यूपी के डीजीपी को पत्र लिखकर कहा है कि, “इंटरनेट के जरिए कुछ लोग देश के निवासियों में दुर्भावना फैलाकर महात्मा गांधी के मानने वालों पर हमलावर हैं और उन्हें आतंकित करने में लगे हैं। 2 अक्टूबर 2019 को अजय दीप झंग के ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया कि #गोडसेअमररहें, हम सभी आपके गुनाह गार हैं आपकी अस्थियां आज तक विसर्जित नहीं हो पाई, आपने एक राष्ट्र की कल्पना की थी। विनम्र श्रद्धांजलि। दीपक कुमार नाम के हैंडल से ट्वीट किया गया है- बापु नोट पर हो इसलिए दिमाग में हो वरना दिल में तो #गोडसे है! #गोडसेअमररहें। ठाकुर साहब नाम के हैंडल से ट्वीट किया गया अगर #भगतसिंह को फांसी नही होती तो #भारत उसी वक़्त #आज़ाद हो जाता। लेकिन किसी को #credit जो चाहिए थी आजादी की। समझ गए न सब? #गोडसेअमररहें। गांधी जी की हत्या में गोडसे को सजा हुई।“

श्री यादव ने पत्र में कहा है कि

“शांति और अहिंसा के पुजारी के हत्यारे को महिमा मंडित कर कुछ असामाजिक तत्व देश में अस्थिरता फैलाने के उद्देश्य से महात्मा गांधी के मानने वालों को आतंकित कर रहे हैं। यही शक्तियां गोडसे के नाम पर देश में अतिवाद और आतंकवाद फैला रही हैं। उत्तर प्रदेश पुलिस ने अतिवाद के रास्ते पर जाने वालों को रोकने के लिए डी-रेडिकलाईजेशन का अभियान चलाया लेकिन उसका प्रयोग #गोडसेअमररहें जैसा कहने वाले अतिवादियों के लिए नहीं है। इस कारण यह अतिवाद भयावह रूप ले रहा है। गांधी जी पर इस प्रकार का ट्वीट करने वाले लोगों ने जो अपराध कारित किया है, वह धारा 505.1.¼ख) भारतीय दंड संहिता के अंतर्गत एक दंडनीय अपराध है।“

उन्होंने डीजीपी से अनुरोध किया है कि गोडसे अमर रहें कहने वाले अपराधियों के विरुद्ध मुकदमा पंजीकृत कराकर उन्हें दंडित करवाने और उन्हें अतिवादी रास्ते पर जाने से रोकने के लिए व्यापक अभियान चलाया जाए।

Rihai Manch demands arrest of those who say ‘Godse Amar Rahe’

About हस्तक्षेप

Check Also

Two books of Dr. Durgaprasad Aggarwal released and lecture in Australia

हिन्दी का आज का लेखन बहुरंगी और अनेक आयामी है

ऑस्ट्रेलिया में Perth, the beautiful city of Australia, हिन्दी समाज ऑफ पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया, जो देश …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: