Breaking News
Home / समाचार / दुनिया / हाउडी मोदी : जस्टिस काटजू बोले ह्यूस्टन एनआरआई पर शर्म, कुछ नेता समझते हैं कि भारतीय मूर्ख हैं जो उनके लिए हर झूठ को निगल लेंगे।
Howdy Modi is just a gimmick - Justice Markandey Katju on Howdy Modi

हाउडी मोदी : जस्टिस काटजू बोले ह्यूस्टन एनआरआई पर शर्म, कुछ नेता समझते हैं कि भारतीय मूर्ख हैं जो उनके लिए हर झूठ को निगल लेंगे।

नई दिल्ली, 23 सितंबर 2019.प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अमेरिका के ह्यूस्टन में आयोजित कथित चुनाव प्रचार रैली हाउडी मोदी पर सर्वोच्च न्यायालय के अवकाश प्राप्त न्यायाधीश जस्टिस मार्कण्डेय काटजू ने कहा है कि कुछ राजनीतिक नेताओं को वास्तव में विश्वास है कि भारतीय मूर्ख हैं जो उनके लिए हर झूठ को निगल लेंगे।

जस्टिस काटजू ने अपने सत्यापित फेसबुक पेज (Justice Katju Facebook) पर लिखा –

“ह्यूस्टन एनआरआई पर शर्म आती है.

यह नाज़ी प्रोपेगंडा मिनिस्टर डॉ. गोएबल्स की उक्ति थी कि जितना बड़ा झूठ, उतनी ही आसानी से निगल लिया जाएगा।

जब भारतीय अर्थव्यवस्था डूब रही है, विनिर्माण क्षेत्र डुबकी लगा रहा है और रिकॉर्ड और बढ़ती बेरोजगारी के साथ, यह कहना कि भारत में सब कुछ ठीक है (और यह भी कि कई भाषाओं में), बिल्कुल उसी तरह है जैसे गोएबल्स कहता था कि जर्मनी युद्ध जीत रहा है जब हर कोई जानता था कि वह हार रहा था। या इराकी सूचना मंत्री मुहम्मद सईद अल-सहाफ (जिसे बगदाद बॉब या कॉमिक अली के नाम से जाना जाता है) की तरह तब भी यह कहना कि सद्दाम युद्ध जीत रहा है, जब अमेरिकी सेना बगदाद के नजदीक थी।

कुछ राजनीतिक नेताओं को वास्तव में विश्वास है कि भारतीय मूर्ख हैं जो उनके लिए हर झूठ को निगल लेंगे।

और वहां इकट्ठे हुए 50,000 मसखरों में से किसी के पास भी खड़े होने की हिम्मत नहीं थी और ‘श्रीमान प्रधानमंत्री, यह सच नहीं है’।

ह्यूस्टन एनआरआई पर शर्म आती है।“

यह भी पढ़ें – 

हाउडी मोदी : भारतीय मूल के अमेरिकियों ने बताया वो ह्यूस्टन में मोदी और भारत विरोधी नस्लवादी ट्रम्प की जय-जयकार क्यों नहीं कर रहे

हाउडी मोदी : मोदी के कार्यक्रम स्थल के बाहर हजारों ने लगाए “मोदी वापस जाओ” के नारे

हाउडी मोदी : विदेशी मीडिया बोला मोदी को ज्यादा समय घर पर बिताना चाहिए, क्योंकि वो घूमते हैं और इकोनॉमी डूबती है

About हस्तक्षेप

Check Also

Madhya Pradesh Progressive Writers Association

विचार के बिना अधूरी होती है रचना

प्रलेसं के एक दिवसीय रचना शिविर में कविता, कहानी, लेखन पर हुआ विमर्श वरिष्ठ रचनाकारों …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: