Home / समाचार / तकनीक व विज्ञान / अल्जाइमर्स के जोखिम की कर सकता है पहचान स्मार्टफोन गेम
Health news

अल्जाइमर्स के जोखिम की कर सकता है पहचान स्मार्टफोन गेम

नई दिल्ली, 26 अप्रैल। एक विशेष रूप से डिजायन स्मार्टफोन गेम लोगों में अल्जाइमर्स के जोखिम विकसित होने की पहचान कर सकता है। ऐसा शोधकर्ताओं का कहना है। इस गेम का नाम सी हीरो क्वेस्ट (Sea Hero Quest) है। इसे दुनिया भर में 43 लाख लोगों द्वारा डाउनलोड किया गया है और खेला जा रहा है। यूनिवर्सिटी ऑफ ईस्ट एंगलिया – University of East Anglia (यूईए) के शोधकर्ताओं को इसकी मदद से डिमेंशिया (dementia) को समझने में मदद मिली कि मस्तिष्क स्थानिक नेविगेशन को लेकर किस प्रकार से काम करता है (How brain works in relation to spatial navigation.)।

Smartphone game can make the risk of Alzheimer‘s identity

इस खेल को ड्यूस टेलेकोम (Deutsche Telekom) ने अलजाइमर्स रिसर्च यूके (Alzheimer’s Research UK), यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन (University College London) -यूसीएल और यूनिवर्सिटी ऑफ ईस्ट एंगलिया के साथ मिलकर विकसित किया है।

मुख्य शोधार्थी माइकल होर्नबर्गर (Michael Hornberger), नोरविच मेडिकल स्कूल में एप्लाइड डिमेंशिया रिसर्च के प्रोफेसर, इनोवेशन के एसोसिएट डीन, मेडिसिन और हेल्थ साइंसेज के फैकल्टी और साथ ही नॉरफॉक एंड सफोल्क मेंटल हेल्थ ट्रस्ट में एजिंग रिसर्च के निदेशक हैं। उनका शोध मनोभ्रंश (dementia) में निदान, रोग प्रगति पर नज़र रखने और लक्षण प्रबंधन में सुधार पर केंद्रित है। माइकल मूल रूप से जर्मनी के रहने वाले हैं, वह इंग्लैंड चले गए, जहां उन्होंने कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में काम करने से पहले यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन में पीएचडी की।

माइकल के मुताबिक,

“डिमेंशिया से साल 2050 तक दुनिया भर में 13.5 करोड़ लोग प्रभावित होंगे। हमें लोगों में डिमेंशिया के जोखिम विकसित होने से रोकने के लिए इसकी पहचान करने की जरूरत है।”

इस शोध (Toward personalized cognitive diagnostics of at-genetic-risk Alzheimer’s disease)को पीएनएएस जर्नल  में प्रकाशित किया गया है। शोध दल में 27,108 ब्रिटिश खिलाड़ियों के डेटा के विश्लेषण के बाद यह निष्कर्ष निकाला है, जिनकी उम्र 50-75 साल की थी। इस उम्र समूह के लोग ही डिमेंशिया से पीड़ित होते हैं।

About हस्तक्षेप

Check Also

Health News

सोने से पहले इन पांच चीजों का करें इस्तेमाल और बनें ड्रीम गर्ल

आजकल व्यस्त ज़िंदगी (fatigue life,) के बीच आप अपनी त्वचा (The skin) का सही तरीके से ख्याल नहीं रख पाती हैं। इसका नतीजा होता है कि आपकी स्किन रूखी और बेजान होकर अपनी चमक खो देती है। आपके चेहरे पर वक्त से पहले बुढ़ापा (Premature aging) नजर आने लगता है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: