Home / Tag Archives: छत्तीसगढ़

Tag Archives: छत्तीसगढ़

2014 से 2019 का फरक सबको दिखने लगा, व्हाई मोदी मैटर्स से “इंडिया’स डिवाइडर इन चीफ“ तक का सफर

Why Modi Matters to Indias Divider in Chief

Why Modi Matters to "India's Divider in Chief" : धर्म-जाति-भाषा और साम्प्रदायिकता फैलाकर मोदी देश को बांटना चाहते हैं

Read More »

छत्तीसगढ़ में नहीं खुलेगा भाजपा का खाता

छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता (Chhattisgarh Pradesh Congress Committee spokesman) धनंजय सिंह ठाकुर Dhannajay Singh Thakur

छत्तीसगढ़ में 11 लोकसभा सीटों पर कांग्रेस की जीत ऐतिहासिक मतों से होगी… भाजपा दोबारा सत्ता में आई तो बिक जाएंगे एयर इंडिया, पवन हंस, सहित 35 सरकारी कम्पनियां रायपुर/21 अप्रैल 2019। छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता (Chhattisgarh Pradesh Congress Committee spokesman) धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा है कि …

Read More »

भाजपा को हराने और केंद्र में वैकल्पिक धर्मनिरपेक्ष सरकार बनाने के लिए वोट देने की माकपा ने की अपील

CPIM भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी), Communist Party of India (Marxist)

माकपा ने आरोप लगाया है कि भाजपा सरकार देश के संविधान को बदलकर उसे 'हिन्दू-राष्ट्र' घोषित करने पर आमादा है, जहां हिन्दू वर्ण-व्यवस्था में शामिल निचली जातियों और गैर-हिंदुओं के साथ दोयम दर्जे का ही व्यवहार किया जाएगा. पार्टी ने कहा है कि अपनी विफलताओं और करतूतों की ओर से जनता का ध्यान भटकाने के लिए भाजपा सांप्रदायिक और छद्म-राष्ट्रवाद के मुद्दे उछाल रही है और राष्ट्रीय सुरक्षा व सेना के नाम पर वोटबटोरू घटिया राजनीति कर रही है.

Read More »

इन तीन राज्यों में आ सकता है बड़ा आर्थिक संकट, सरकार मस्त है

Environment and climate change

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh), ओडिशा (Odisha) और झारखण्ड (Jharkhand) जैसे बड़े कोयला उत्पादन सेक्टर वाले राज्यों (States with coal production sector) पर आ सकता है आर्थिक संकट (Economic Crisis,) कैबिनेट घोषणाओं के बावजूद कोयला बिजली क्षेत्र (Coal power field) में फंसे निवेश के लिए दीर्घकालिक चिंताएं

Read More »

‘न्याय’ : भाजपा की शंका के मुकाबले कांग्रेस के वायदे पर एतबार क्यों है ?

Lalit Surjan ललित सुरजन। लेखक वरिष्ठ पत्रकार, स्तंभकार व साहित्यकार हैं। देशबन्धु के प्रधान संपादक

न्यूनतम आय योजना एक व्यवहारिक कल्पनाशील योजना है जिससे देश में सिर्फ गरीबों को लाभ नहीं मिलेगा बल्कि कुल मिलाकर आर्थिक गतिविधियों का विस्तार होगा जिसका लाभ अंतत: सबको मिलेगा।

Read More »