Breaking News
Home / Tag Archives: भाजपा

Tag Archives: भाजपा

जवाब तो आपको ही देना है मोटा भाई, क्योंकि कश्मीर में पहली गोली चलने के 25 साल पहले, नेहरू मर चुके हैं

Chittorgarh: BJP chief Amit Shah addresses during a public meeting in Chittorgarh, Rajasthan, on Dec 3, 2018

जवाब तो आपको ही देना है मोटा भाई, क्योंकि कश्मीर में पहली गोली चलने के 25 साल पहले, नेहरू मर चुके हैं

Read More »

तो क्या लड़ना भूल गयी है कांग्रेस ? विपक्ष की भूमिका में भाजपा कल भी सर्वश्रेष्ठ थी और आज भी है

bjp vs congress

So what is the Congress forgetting to fight? In the role of the Opposition BJP was the best and even today

Read More »

सत्तर साल कांग्रेस ने लूटा ! पर ईमानदार भाजपा ने चुनाव में झोंक दिए 27,000 करोड़ यानी भारत के रक्षा बजट का दस प्रतिशत।

bjp vs congress

सत्तर साल कांग्रेस ने लूटा ! पर ईमानदार भाजपा ने चुनाव में झोंक दिए 27,000 करोड़ यानी भारत के रक्षा बजट का दस प्रतिशत।

Read More »

एक स्वयंसेवक ने खोला राज, वामपंथी कैसे भाजपा की मदद करते हैं !

Shri Ram Tiwari श्रीराम तिवारी

अब तो 'संघ' ने मजदूर किसानों के मजबूत संगठन बना लिये हैं, और धार्मिक आस्था का मजाक उड़ाने वाले वामपंथी जब अपनी जमानत नहीं बचा पाते तो क्रांति क्या खाक करेंगे? जय जय सियाराम!

Read More »

दिग्विजय ही करेंगे बेड़ा पार !

digvijaya singh

भारतीय हिंदुत्व का रासायनिक समीकरण बनाकर उसे राजनीति में इस्तेमाल करने का अगर किसी के पास हुनर है तो वह एकमात्र दिग्विजय सिंह हैं।

Read More »

2014 से 2019 का फरक सबको दिखने लगा, व्हाई मोदी मैटर्स से “इंडिया’स डिवाइडर इन चीफ“ तक का सफर

Why Modi Matters to Indias Divider in Chief

Why Modi Matters to "India's Divider in Chief" : धर्म-जाति-भाषा और साम्प्रदायिकता फैलाकर मोदी देश को बांटना चाहते हैं

Read More »

खजुराहो में कांग्रेस से अपना गढ़ बचाने में भाजपा की सांस फूली

bjp vs congress

भोपाल, 5 मई। मध्य प्रदेश के खजुराहो संसदीय क्षेत्र (Khajuraho parliamentary area of Madhya Pradesh) में इस बार मुकाबला बहूरानी बनाम जमाई (Bahurani vs Jamai) के मुद्दे पर आकर ठहर गया है। यहां की समस्याओं से दूर राजनीतिक दल मतदाताओं को भावनात्मक रूप से लुभाने की हर संभव कोशिश में …

Read More »

सुबह-सुबह राहुल का मोदी पर हमला, पीएम ने अर्थव्यवस्था नष्ट कर दी, चौकीदार चोर है, सच्चाई है

Rahul Gandhis press conference

कांग्रेस की न्याय योजना नोटबंदी का जवाब है। मोदी ने नोटबंदी में पैसे लिए थे हम न्याय से पैसे देंगे। चौकीदार चोर है, सच्चाई है…

Read More »

धर्मयुद्ध के समक्ष हिन्दू हृदय सम्राट दिग्विजय सिंह !

Sadhvi Pragya Thakur Digvijaya Singh

लगातार बाउंसर और बीमर फेंककर खिलाडी को आउट नहीं कर पाने से जिस तरह फ़ास्ट बॉलर थक जाते हैं, कुछ वही हाल साध्वी प्रज्ञा का हो गया है. साध्वी को थकाने के बाद अब दिग्गी राजा धर्मयुद्ध की पिच पर स्कोर करना शुरू कर दिए हैं

Read More »

क्या भाजपा ने नैतिक पराजय स्वीकार कर ली है ?

BJP Logo

2019 के आमचुनाव चल रहे हैं और परिणाम तो दूर अभी बाकी के चरणों के चुनाव बाकी हैं तब जय पराजय की बात वैसे नहीं की जा सकती, जैसी कि परिणाम आने के बाद की जाती है। किंतु 1971 के आम चुनावों की हार के बाद अटल बिहारी वाजपेयी ने …

Read More »

चुनावी माहौल में छापेमारी का मतलब ?

Kamal Nath in Chhindwada

छापेमारी को लेकर भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय द्वारा किया गया एक ट्वीट भी सवालों के घेरे में है, दिलचस्प बात यह है कि बरामद किये गये इस रकम के बारे में उन्होंने यह जानकारी आयकर विभाग से दस घंटे पहले ही दे दी थी.

Read More »

नेहरू ने कितना परेशान किया मोदीजी को!

How much of Nehru troubled Modi

जवाहरलाल नेहरू, आधुनिक भारत के निर्माता थे और आईआईटी, एम्स, सीएसआईआर, भाभा परमाणु अनुसंधान केन्द्र व सार्वजनिक क्षेत्र के दर्जनों बड़े संस्थान इसका प्रमाण हैं। नेहरू ने न केवल वैश्विक स्तर पर भारत को स्वीकार्यता और सम्मान दिलवाया वरन् उन्होंने देश को उस दीन-हीन स्थिति से उबारा जिसमें अंग्रेज उसे छोड़ गए थे। भाजपा यह अच्छी तरह से जानती है कि नेहरू ने ही आधुनिक, औद्योगिक भारत की नींव रखी थी और वह यह भी जानती है कि उसे नेहरू की निंदा करने के लिए झूठ का सहारा लेना ही पड़ेगा। और यही वह कर रही है। 

Read More »

अब समय शुरू होता है मतदाताओं की आज़माइश का

Yameen Ansari - डॉ. यामीन अंसारी (लेखक उर्दू अख़बार इंकलाब के रेजीडेंट एडिटर हैं।)

यह चुनाव तय कर देंगे कि देश किस दिशा में जाएगा। आने वाले चुनाव परिणाम बताएंगे कि भारतीय जनता आखिर क्या चाहती है। अगले कुछ दिनों में यह भी तय हो जाएगा कि सत्ता के शिखर पर घृणा, हिंसा और वैमनस्य फैलाने वाली शक्तियां विराजमान होंगी या फिर देश को भय और आतंक के वातावरण से निकालने वाली शक्तियां सत्ता संभालेंगी।

Read More »

मोदी की मनोदशा और भाजपा के लिये उसके अशनि संकेत

Chowkidar Narendra Modi

मोदी जिस प्रकार से बिना सोचे-समझे अपने सब लोगों को चौकीदार बनाने में लग गये हैं, मनोविश्लेषण की भाषा में इसे जुनूनी विक्षिप्तता (obsessional neurotic) कहते हैं। और, जब नेता विक्षिप्त हो जाए तो देश और उसके दल के अघटन की सीमा की क्या कोई कल्पना कर सकता है ! —अरुण माहेश्वरी जब …

Read More »

शिवसेना अध्यक्ष को कड़क आवाज में डाँट दिया शेष जी ने

Shesh Narain Singh शेष नारायण सिंह

वसीम अकरम त्यागी क्या सांसदों को ऐसा करना चाहिये थे ? क्या उन्हें इसकी सजा मिलेगी ? यही सवाल था ABP न्यूज की एंकर नेहा का, जिस पर भाजपा के सुधांशु मित्त्ल ने बेहद काबिले कबूल बयान दिया हालांकि उनका झुकाव पानी की तरह झील की ओर रहा। लेकिन वीएचपी के प्रकाश आग बबूला हुऐ बैठे थे, उन्होंने उस बहस को हास्यास्पद करार दिया, जिसकी वजह से संसद ठप्प रही, जिसकी वजह से 20 करोड़ मुसलमानों के साथ तमाम दूसरे धार्मिक लोगों की भावनाओं को भी ठेस पहुंची। इतना ही नहीं प्रकाश ने इस ABP को साफ– साफ कहा कि धिक्कार है इस चैनल पर, और कई बार आपा खो बैठे। मगर इस बहस का सबसे बेहतरीन पहलू था शान्त से दिखने वाले मगर लेखनी में सरकारों की बखिया उधेड़ने वाले वरिष्ठ पत्रकार शेष नारायण सिंह का। शेष सर अपने साथ संविधान की किताब लेकर स्टूडियो में बैठे थे। उन्होंने कहा कि इस बहस में एसे अयोग्य को बुला लिया गया जिन्हें बात करने का सलीका ही नहीं है। इस पर शिवसेना के अध्यक्ष आग बूबला होते। शेष सर ने कड़क आवाज में कहा "..... सुनिये आप .... बात सुनिये...."। खैर आखिर में वही हुआ जिसकी वीएचपी से उम्मीद की जा सकती। वीएचपी के प्रकाश ने कहा कि कांग्रेस और दूसरे सैक्यूलर दलों को अपना रजिस्ट्रेशन पाकिस्तान या बंग्लादेश में करा लेना चाहिये, क्योंकि इन्हें सिर्फ देश के 12 करोड़ मुस्लिमों की फिक्र है। यह मानसिकता है तथाकथित राष्ट्रवादियों की। उन्हें इससे सरोकार नहीं कि जिस देश में रोजेदारों के सम्मान में गैरमुस्लिम रोजा इफ्तार पार्टी का आयोजन कराते हों, जिस देश में रोजेदार के सामने कोई गैर मुस्लिम सिगरेट पीने में भी शर्म इसलिये महसूस करता हो कि कहीं इससे मेरे मुस्लिम दोस्त की धार्मिक भावना को ठेस न पहुंच जाये, उस देश में एक सांसद, जिसके ऊपर लेबल लगा है कि वह जनप्रतिनिधि है, एक गरीब वेटर का रोजा जबरन तुड़वा देता है। लेकिन इस संगठन के लोगों को इस पर बजाय शर्म के बजाय माफी मांगने के उल्टे इस कुकर्म की वकालत की पड़ी है। देश की छवि विश्व स्तर पर खराब करने में यह संगठन कोई कमी नहीं छोड़ रहा है। मुनव्वर राना ने कहा था कि ... ए सियासत तेरा मेयार न गिरने पाये मेरी मस्जिद है ये मीनार न गिरने पाये इतना ही ग़ज़ल और बढ़ती है, और उसका एक शेर गुरद्वारे की चौखटों से टकराकर कुछ यूं कह देता है कि मिलता जुलता है सभी चेहरों से मां का चेहरा गुरद्वारे की भी दीवार न गिरने पाये। मगर ये सियासी लोग जिन्हें सियासत करने का मौका सिर्फ इस वजह से मिल गया क्योंकि उन्होंने धार्मिक सद्भाव की ऐसी तैसी की थी। वे उन अल्फाज को क्यों पढ़ेंगे ? क्यों जानेंगे ? क्यों समझेंगे कि God Is One ? [author image="http://www.hastakshep.com/wp-content/uploads/2014/01/Wasim-Akram-Tyagi.jpg" ]वसीम अकरम त्यागी, लेखक साहसी युवा पत्रकार हैं।[/author]

Read More »