Breaking News
Home / Tag Archives: लोकतंत्र

Tag Archives: लोकतंत्र

शेष नारायण सिंह का आलेख – कांग्रेस को सशक्त विपक्ष की भूमिका अदा करनी ही पड़ेगी

Shesh Narain Singh शेष नारायण सिंह

कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी (Congress President Rahul Gandhi) इस्तीफा दे चुके हैं, उनको मनाने की कोशिशें अब तक नाकाम रही हैं लेकिन अब कौन कांग्रेस पार्टी का अध्यक्ष हो, …

Read More »

मॉब लिंचिंग के शिकार तबरेज़ अंसारी को श्रद्धांजलि देने पर योगीराज में रोक

शांतिपूर्ण आयोजन पर रोक तानाशाही मॉब लिंचिंग को लेकर राष्ट्रपति को भेजा गया पांच सूत्री ज्ञापन डुमरियागंज (उत्तर प्रदेश) 01 जुलाई 2019.  झारखंड में तबरेज़ अंसारी की भीड़ द्वारा की …

Read More »

भारत में लोकतंत्र का भविष्य

Election Commission of India. (Facebook/@ECI)

देश के उदारवादी तबके के बुद्धिजीवी और प्रगतिशील लोगों के साथ साथ आमजनों का भी बहुत बड़ा तबका है जो भारत में लोकतंत्र के भविष्य (future of democracy in India) …

Read More »

राष्ट्रवाद की धारणा लोकतन्त्र के आस्तित्व के लिये घातक है : प्रो0 जगदीश्वर

Jagadishwar Chaturvedi

लोकतन्त्र बचाना है तो व्यक्ति के चरित्र को गिरने से बचाना होगा – प्रो0 जगदीश्वर भूपिन्दर पाल सिंह बाराबंकी, 04 नवंबर। देश के प्रखर साहित्यकार व स्तम्भकार प्रो0 जगदीश्वर चतुर्वेदी …

Read More »

मोदी का विकास मॉडल वस्तुतः विकास विरोधी, सामाजिक विभाजनकारी और संवैधानिक संस्थान विरोधी मॉडल है

Sikar: Prime Minister and BJP leader Narendra Modi addresses during a public meeting in Rajasthan's Sikar, on Dec 4, 2018. (Photo: IANS)

बिहार विधानसभा चुनाव का मिथभंजन और यथार्थ Myths and realities of Bihar assembly elections नरेन्द्र मोदी के विकास मॉडल से भिन्न बिहार की विकास दर निश्चित तौर पर आकर्षित करने वाली …

Read More »

बिनायक सेन को उम्र कैद देने वाला ‘बनाना रिपब्लिक’

Binayak Sen is an Indian paediatrician, public health specialist and activist. He is the national Vice-President of the People's Union for Civil Liberties. He is the recipient of several awards including the Jonathan Mann Award, the Gwangju Prize for Human Rights, and the Gandhi International Peace Award. Wikipedia

आनंद प्रधान (Anand Pradhan) लोकतंत्र, न्याय और मानवाधिकारों का इससे बड़ा मजाक और क्या हो सकता है “और, तब मुझे प्रतीत हुआ भयानकगहन मृतात्माएँ इसी नगर कीहर रात जुलूस में …

Read More »