Breaking News
Home / क्या है बड़ी आंत के कैंसर का इलाज में प्रयोग होने वाली टारगेटेड थेरेपी और इम्यूनोथेरेपी

क्या है बड़ी आंत के कैंसर का इलाज में प्रयोग होने वाली टारगेटेड थेरेपी और इम्यूनोथेरेपी

टारगेटेड थेरेपी, इम्यूनोथेरेपी से सम्भव है बड़ी आंत के कैंसर का इलाज

नई दिल्ली, 24 दिसम्बर। टारगेटेड थेरेपी यानी लक्षित चिकित्सा और इम्यूनोथेरेपी यानी प्रतिरोधी चिकित्सा, बड़ी आंत के कैंसर (कोलोरेक्टल कैंसर) में उपचार के नए तथा असरकारी तरीके हैं। टारगेटेड थेरेपी में दवाएं कैंसर वाली जगह को लक्ष्य बनाती हैं और पारंपरिक कीमोथेरेपी की दवाओं के साथ दी जाती हैं ताकि कैंसर की अधिक कोशिकाएं मर जाएं और रोगी के बचने की संभावना बढ़ जाए।

 

राजीव गांधी कैंसर संस्थान एवं अनुसंधान केंद्र (आरजीसीआईएंडआरसी) में मेडिकल ऑन्कोलॉजी के निदेशक डॉ. विनीत तलवार के मुताबिक टारगेटेड थेरेपी और इम्यूनोथेरेपी ने बड़ी आंत के कैंसर के इलाज को असरकारी बना दिया है।

 

डॉ. तलवार ने इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए), पानीपत तथा आरजीसीआईएंडआरसी के संयुक्त तत्वावधान में कैंसर विज्ञान (ऑन्कोलॉजी) पर आयोजित कॉन्टिन्यूइंग मेडिकल एजूकेशन (सीएमई) कार्यक्रम में यह बात कही।

उन्होंने कहा, "प्रतिरक्षा चिकित्सा (इम्यूनोथेरेपी) की दवाएं शरीर के प्रतिरक्षा तंत्र को ताकत देती हैं और प्रतिरक्षा तंत्र स्वयं ही कैंसर की कोशिकाओं से लड़ता है, जिससे दुष्प्रभाव लगभग खत्म हो जाते हैं।"

 

डॉ. तलवार ने बताया कि केवल कीमोथेरेपी से रोगियों के बचने की दर कम थी, लेकिन टारगेटेड थेरेपी और इम्यूनोथेरेपी के साथ बचने की दर बढ़ गई है।

कोलोरेक्टल कैंसर के उपचार में रेडिएशन की भूमिका

Role of radiation in the treatment of colorectal cancer

कोलोरेक्टल कैंसर के उपचार में विकिरण यानी रेडिएशन की भूमिका पर आरजीसीआईएंडआरसी के रेडिएशन ऑन्कोलॉजी निदेशक डॉ. मुनीश गैरोला ने कहा,

"निस्संदेह बड़ी आंत के कैंसर में उपचार के लिए सर्जरी ही चुनी जाती है, लेकिन रेडिएशन ट्यूमर के आकार को कम करने में मदद करता है, जिससे सर्जन को ऑपरेशन करने में आसानी होती है और बीमारी फैलने की आशंका कम हो जाती है। इससे बचने की संभावना बहुत बढ़ जाती है।"

कीमोथेरेपी रेडिएशन के प्रभाव को बढ़ा देती है

Chemotherapy increases the effect of radiation

डॉ. गैरोला के मुताबिक,

"कीमोथेरेपी रेडियो सेंसिटाइजर की तरह काम कर रेडिएशन के प्रभाव को बढ़ा देती है, जिससे रेडिएशन ऊतकों में गहराई तक पहुंच जाता है। रेडिएशन में काफी प्रगति हो चुकी है। पहले रेडिएशन के बहुत दुष्प्रभाव होते थे लेकिन अब रेडिएशन की ज्यादा केंद्रित तकनीक 'कन्फॉर्मल रेडिएशन' हैं, जिनके जरिये हम रेडिएशन को ट्यूमर की आकृति के मुताबिक सीमित कर सकते हैं।"

Causes of large intestine cancer

Causes of colorectal cancer

भारत में बड़ी आंत का कैंसर सबसे ज्यादा होने वाले 10 प्रकार के कैंसर में शामिल हैं। मोटापे और कम मोटे अनाज वाली खुराक को इस प्रकार के कैंसर का कारण माना जाता है। कुछ मामलों में यह आनुवंशिक भी होता है।

 

इससे बचने के लिए लोगों को रेशे की अधिक मात्रा वाला भोजन लेना चाहिए और अल्कोहल तथा धूम्रपान से दूर रहना चाहिए। चिकित्सकों ने कहा कि सुस्त और गतिहीन जीवनशैली भी बड़ी आंत के कैंसर का कारण है।

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

<iframe width="901" height="507" src="https://www.youtube.com/embed/bRVsg9G8uTQ" frameborder="0" allow="accelerometer; autoplay; encrypted-media; gyroscope; picture-in-picture" allowfullscreen></iframe>

Targeted Therapy, Immunotherapy, Treatment of Large Intestine Cancer, stomach cancer, colon cancer symptoms, colon cancer, oncology, cancer treatment, बड़ी आंत के कैंसर का इलाज, टारगेटेड थेरेपी, इम्यूनोथेरेपी, कोलोरेक्टल कैंसर, राजीव गांधी कैंसर संस्थान एवं अनुसंधान केंद्र, कैंसर विज्ञान, प्रतिरक्षा चिकित्सा, कीमोथेरेपी, कोलोरेक्टल कैंसर, colorectal cancer,

About हस्तक्षेप

Check Also

Madhya Pradesh Progressive Writers Association

विचार के बिना अधूरी होती है रचना

प्रलेसं के एक दिवसीय रचना शिविर में कविता, कहानी, लेखन पर हुआ विमर्श वरिष्ठ रचनाकारों …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: