Breaking News
Home / समाचार / देश / उप्र : तीसरे चरण में भाजपा की बत्ती हो सकती है गुल, मुख्य मुकाबला सपा-बसपा गठबंधन और कांग्रेस के बीच
Lok sabha election 2019

उप्र : तीसरे चरण में भाजपा की बत्ती हो सकती है गुल, मुख्य मुकाबला सपा-बसपा गठबंधन और कांग्रेस के बीच

नई दिल्ली, 24अप्रैल। लोकसभा चुनाव 2019 के तीसरे चरण (Third phase of Lok Sabha election 2019) में मंगलवार को उत्तर प्रदेश में जिन 10 सीटों पर मतदान हुआ है, उनमें से भारतीय जनता पार्टी को अपने चार सीट गंवाने का खतरा हो सकता है और अगर 2014 की वोटिंग का ही पैटर्न इस बार दोहराया तो वह समाजवादी पार्टी (सपा) से तीन सीट खींचने में समर्थ नहीं हो सकता है।

इन 10 सीटों में से पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा सात सीटों पर जीत हासिल करने में कामयाब रही थी, जबकि तीन सीटें सैफई राजवंश की झोली में गई थीं।

अगर सपा (Samajwadi Party) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) को 2014 में मिले मतों को जोड़ दिया जाए तो भाजपा के लिए कम से सात सीटों में से कम से कम चार सीटों पर जीत हासिल करने में काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है। दरअसल, इस बार सपा और बसपा (Bahujan samaj party) के बीच गठबंधन है।

वोटों के अंकगणित को देखें तो गठबंधन से अलग चुनाव लड़ रही कांग्रेस भी भाजपा के लिए मुश्किल खड़ी करेगी।

भाजपा को जिन चार सीटों पर कड़ी चुनौती मिल रही है उनमें रामपुर, संभल, मुरादाबाद और आंवला शामिल हैं।

रामपुर में नेपाल सिंह ने सपा, बसपा और कांग्रेस को शिकस्त देकर 2014 में 3,58,616 वोट हासिल किया था। उनके निकटतम प्रतिद्वंद्वी सपा के नसीर अहमद खान को 3,35,181 मत मिले थे, जबकि बसपा प्रत्याशी अकबर हुसैन को 81,006 मत मिले थे।

अगर, बसपा और सपा के मतों को जोड़ दिया जाए तो भाजपा को मिले मतों से ज्यादा हो जाता है, जबकि कांग्रेस के नवाब काजीम अली खान को 1,56,466 वोट मिले थे।

इस बार रामपुर में तीनों दलों ने अपने नए उम्मीदवार उतारे हैं। भाजपा ने सपा की सांसद रह चुकी जयाप्रदा को रामपुर से अपना प्रत्याशी बनाया है जिनका मुकाबला महागठबंधन के उम्मीदवार आजम खान से है। वहीं, कांग्रेस ने इस सीट से संजय कपूर को चुनाव मैदान में उतारा है।

संभल में भी कहानी कुछ ऐसी ही है, जहां भाजपा के सत्यपाल सिंह को 2014 में 3,60,242 मत मिले थे और वह बहुत कम अंतर से चुनाव जीते थे। दूसरे स्थान पर रहे सपा के शफीक-उर-रहमान बराक को 3,55,068 मत मिले थे, जबकि बसपा के अकील-उर-रहमान खान को 2,52,640 मत मिले थे।

मुरादाबाद में भाजपा के कुंवर सर्वेश कुमार को 4,85,224 मत मिले थे और उन्होंने सपा के एस. टी. हसन को पराजित किया था जिनको 3,97,720 मत मिले थे। बसपा के हाजी मुहम्मद याकूब को भी 1,60,945 मत, जबकि कांग्रेस की बेगम नूर बानो उर्फ मेहताब को सिर्फ 19,732 मत मिले थे।

इस बार भाजपा और सपा ने क्रमश: सर्वेश कुमार और एस.टी. हसन को दोबारा चुनाव मैदान में उतारा है।

आंवला में भाजपा के धर्मेद्र कुमार 4,09,907 मत हासिल कर 2014 में विजयी रहे थे, जबकि सपा के कुंवर सर्वराज सिंह को 2,71,478 मत मिले थे। वहीं, बसपा की सुनीता शाक्य को 1,90,200 मत मिले थे। दोनों को मिलाने से उनके मतों की संख्या भाजपा के मुकाबले काफी अधिक हो जाती है।

उधर, मैनपुरी, फिरोजाबाद और बदायूं में सपा का पलड़ा भारी है। ये तीनों सीटें मुलायम सिंह परिवार के गढ़ हैं।

About देशबन्धु Deshbandhu

Check Also

कर्नाटक से राज्यसभा सदस्य और मनमोहन सिंह सरकार में ग्रामीण विकास और पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय संभाल चुके प्रसिद्ध अर्थशास्त्री जयराम रमेश

जयराम रमेश ने की मोदी की तारीफ, तो सवाल उठा आर्थिक मंदी, किसानों की बदहाली और बेरोजगारी के लिए कौन जिम्मेदार

नई दिल्ली, 23 अगस्त। कर्नाटक से राज्यसभा सदस्य और मनमोहन सिंह सरकार में ग्रामीण विकास …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: