Home / Uncategorized / शाजिया इल्मी को नेक सलाह-बेशर्मी का लबादा ओड़े रखो, कहीं भी बाल बाँका नहीं होगा।
Shazia Ilmi ke Ilm

शाजिया इल्मी को नेक सलाह-बेशर्मी का लबादा ओड़े रखो, कहीं भी बाल बाँका नहीं होगा।

शाजिया इल्मी को दो नेक सलाहें.

””””””””””””””””””””’
ना शाजिया ..ना ! ना प्यारी बच्ची।

ऐसा नहीं कहते कि मैं अब आजीवन इसी दल मे रहूँगी। अभी तुम तो कल ही इस दल में शामिल हुई हो. पता नहीं कल-परसों ही तुम्हारा मोहभंग हो या अन्य दल से तुम्हे मोह हो जाये, या दल ही तुम्हे मक्खी की तरह बाहर कर दे। सुनते हैं ‘बिगबास’ नाराज हैं। बाहर भी लोग बड़े ज़ालिम हैं। लिखेंगे-थूक कर चाट लिया/तुम्हारे सारे ट्विट रीट्विट होंगे/बस चुप रहो।

वैसे दूसरी नेक सलाह है कि मेरी पहली सलाह पर बिलकुल ध्यान मत देना। बेशर्मी का लबादा ओड़े रखो,कहीं भी बाल बाँका नहीं होगा।

बाहर देखो कितनी ठंड है। जया प्रदा अमरसिंह अंदर आने के लिये क़तार में लबादा ओड़े खड़े हैं।

जसबीर चावला

About हस्तक्षेप

Check Also

Punya Prasun Bajpai

पुण्य प्रसून प्रकरण और प्रतिष्ठित पत्रकारिता के संकट पर एक सोच

पुण्य प्रसून वाजपेयी (Punya Prasun Bajpai) ने जबसे मोदी सरकार की कमियों और घोटालों(Modi Government’s scandals and …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: