Breaking News
Home / समाचार / दुनिया / सेहत : बढ़ते अंधेपन का प्रमुख कारण है विटामिन ए की कमी, भारत में ही इससे दो लाख बच्चे पीड़ित
eyes

सेहत : बढ़ते अंधेपन का प्रमुख कारण है विटामिन ए की कमी, भारत में ही इससे दो लाख बच्चे पीड़ित

हाल ही में एक पैडेट्रीशियन (Pediatrician) ने मुझे एक बच्चो को देखने के लिए बुलाया था. वह बच्चा कुछ दिन पहले उस पैडेट्रीशियन के पास डायरिया के इलाज (Treatment of diarrhea) के लिए आया था. उसका पिछला रिकार्ड देखते ही मैं समझ गई कि बच्चा अवश्य ही विटामिन ए की कमी (Vitamin A deficiency) और अपर्याप्त पोषण (Poor nutrition) से जूझ रहा है. बच्चो को देख कर मैं खुद को बेबस महसूस करने लगी क्यों कि विटामिन ए की कमी के कारण उसे केराटोमेलेशिया (keratomalacia meaning in hindi कोर्निया का पिघलना – Melting of the cornea ) नामक बीमारी हो गई थी और वह सदा के लिए अपनी आखों की दृष्टि खो चुका था.

Vitamin A deficiency is a major cause of increased blindness in children.

आज के समय में विटामिन ए की कमी बच्चों में बढ़ते अंधेपन का एक बहुत बड़ा कारण है. साथ ही इससे कई अन्य बीमारियां जैसे डायरिया और मीसल्स आदि होने की भी अधिक संभावना रहती है, जिससे मौत का खतरा बढ़ जाता है.

शरीर में विटामिन ए की पर्याप्त मात्रा नार्मल दृष्टि, हड्डियों का विकास, हैल्दी स्किन, पाचन के म्यूकस मेम्ब्रेन की सुरक्षा, श्वास प्रणाली और यूरेनरी टै्रक्ट को संक्रमित होने से बचाता है.

विटामिन ए की कमी से होने वाले रोग Vitamin A deficiency diseases

विटामिन ए की कमी 118 देशों में एक सार्वजनिक समस्या बन चुकी है खासकर दक्षिणी पूर्वी एशिया में, जहां इसका निशाना बन रहे हैं-छोटे छोटे बच्चे. हालांकि बहुत से लोग ये जानते हैं कि विटामिन ए की कमी से लोग अंधेपन की चपेट में आ सकते हैं. लेकिन बहुत से लोगों को इस बात की जानकारी नहीं है कि ऐसे बच्चे जिनमें विटामिन ए की कमी होती है उनमें अंधेपन की शुरुआत होने से पहले ही कई और बीमारियां जैसे मीसल्स, डायरिया और मलेरिया आदि से मौत का खतरा 25 प्रतिशत तक बढ़ जाता है.

विटामिन ए की कमी के लक्षण Symptoms of vitamin a deficiency

इसका शुरुआती लक्षण हैं – आँखों की रोशनी कम होना. आप को लगेगा कि रात में आप बहुत साफ नहीं देख पाते (जैसे रात में गाड़ी चलाना मुश्किल लगे, बाथरूम तक जाने का रास्ता आसानी से न ढूंढ पायें या शाम में जल्दी रोशनी जलाने की जरूरत महसूस हो).

विटामिन ए की कमी का मुख्य लक्षण है, आंख की रौशनी जाना या अंधापन.

अंधेपन की शुरूआत आमतौर पर अंधेरे में देख पाने की कम होना या रतौंधी (Night blindness,) से होती है. रतौंधी पीड़ित अंधेरे में ठीक से नहीं देख पाते हैं, लेकिन पर्याप्त रोशनी हो तो वे सामान्य तरीके से देख सकते हैं. जैसे-जैसे विटामिन ए कमी बढ़ती है आंखों की सफेद झिल्ली जो आपकी आंखों को नम रखती है, वह सूख जाती है और जख्म उभरने लगते हैं. इसकी कमी से आखिरकार आंखों की रोशनी चली जाती है और आदमी अंधा हो जाता है.

ड्राई आइज या आंखों का पानी सूखने (Eye water drying) से बाहरी परत पर कीच जमा होने लगती है क्योंकि आंखें आंसू नहीं बना पाती हैं जो आम तौर पर कीच को बाहर निकाल देती हैं. इस कीच के कारण अंधापन या कोई संक्रमण आसानी से हो सकता है.

विटामिन ए की कमी से आंखों में जलन – सूजन (Eye irritation – swelling) भी होती है. इससे पलकें और आंखों के आसपास के उत्तक प्रभावित होते है. कॉर्निया में भी जलन या सूजन की शिकायत हो सकती है.

बाकी अन्य लक्षण हैं-

आंखों में बेहद सूखापन.

आंखों में सिकुडन.

बढ़ता धुंधलापन.

कोर्निया में रूखापन आना.

विटामिन ए की कमी के निरंतर बढने से आंखों के सफेद भाग के मेम्ब्रेन में सिल्वर-ग्रे रंग का सूखे से झाग का जमाव। सही इलाज न कराने पर कोर्निया का रूखापन बढ़ता ही जाता है, जिससे कॉर्नियल संक्रमण (Corneal infection), रप्चर व कुछ ऐसे टिश्यू बदलाव होते हैं जिससे मरीज अक्सर अंधेपन का शिकार हो जाता है.

विटामिन ए की कमी के चिन्ह

रूखी स्किन और रूखे बाल.

साइनस, श्वास संबंधी, यूरेनरी और पाचन में संक्रमण.

वजन न बढना, स्किन सोर्स.

कोर्निया का हल्का होना (क्सेरोफ थाल्मिया).

नर्वस डिसऑर्डर.

रात में कम दिखना.

थकावट, दस्त.

मुख में दाने निकलना.

घाव धीरे और देर से भरना.

विश्व स्तर पर इसका मैनेजमेंट

विश्व स्वास्थ्य संगठन का लक्ष्य है, पूरे विश्व में विटामिन ए की कमी और इसके दुष्प्रभाव को जड़ से उखाडना. अच्छे व स्वस्थ जीवन की नींव है-स्वस्थ बचपन, जिसके लिए विटामिन ए एक बेहद आवश्यक तत्व है.

मां का दूध mother’s milk

मां का दूध विटामिन ए का एक प्राकृतिक स्रोत (Natural source of vitamin a) होता है. विटामिन ए की कमी को खत्म करने के लिए सबसे बेहतर तरीका है कि बच्चों को मां का दूध पिलाया जाए.

विटामिन ए के स्रोत Sources of vitamin a

बच्चों को विटामिन ए की भरपूर खुराक देने से उनका अतिजीवन बढ़ता है, अन्य बीमारियों का खतरा कम होता है, बच्चों का स्वास्थ्य अच्छा रहता है और हेल्थ सिस्टम व अस्पताल का दबाव भी कम हो जाता है. अब यह प्रमाणित किया जा चुका है कि छः महीने से लेकर पांच साल तक के बच्चों को एक साल तक विटामिन ए के दो हाई डा$ेज सुरक्षित और कोस्ट इफेक्टिव हैं. विटामिन ए की कमी को समाप्त करने के लिए यह एक बेहतर नीति है. दूध पिलाने वाली माताओं को विटामिन ए की खुराक देना भी बच्चों के लिए बेहद आवश्यक है.

विटामिन ए दूध, लिवर, अंडे, मछली, लाल और नारंगी फल, हरी पत्तेदार सब्जियों आदि में पाया जाता है. जिन खाद्य पदार्थों में विशेष तौर पर विटामिन ए पाया जाता है, वे हैं-अखरोट, फिश लिवर, फिश लिवर आयल, लहसुन, पपीता, नारंगी, सीताफल, पालक, शकरकंदी आदि.

फूड फोर्टिफिकेशन क्या है, What is food fortification.

Dr Ritika Sachdev, Additional Director of the Center for Site, New Delhi
Dr Ritika Sachdev, Additional Director of the Center for Site, New Delhi

विटामिन ए की कमी को पूरा करने के लिए फूड फोर्टिफिकेशन भी एक बेहतर नीति है जिसे अब कई देशों में अपनाया जा रहा है और इसका भविष्य भी बेहद सुनहरा है. विश्व के कई भागों में, प्रधान खाद्य पदार्थ जैसे शक्कर, मैदा और बनावटी मक्खन को विटामिन ए और बाकी अन्य माइक्रोन्यूयूट्रिएंट्स के साथ फोर्टिफाइ किया जाता है. विटामिन ए की कमी के केसों में मरीज को ओरल या फिर इंजेक्टेबल विटामिन ए के डोज दिए जाते हैं.

पूरे विश्व में विटामिन ए की कमी बढ़ते अंधेपन का एक बहुत बड़ा कारण बन गया है खासकर विकासशील देशों में तो यह एक बहुत बड़ी समस्या है. भारत में ही इससे पीड़ित दो लाख बच्चे हैं। यह समस्या अक्सर तीन से छः साल के बच्चों को ज्यादा होती है. इसका बेहतर बचाव यही है कि व्यक्तिगत तौर पर इसकी रोकथाम की जाए. इस लिए हमेशा ध्यान रखिए और यह सुनिश्चित कीजिए कि आप का बच्चे खूब सारी हरी सब्जियां और फल खाए, रोजाना दूध पीए ताकि वह विटामिन ए की कमी से मीलों दूर रहे.

डॉ. रितिका सचदेव

एडिशनल डायरेक्टर

सेंटर फॉर साइट, नई दिल्ली

(सम्प्रेषण)

About हस्तक्षेप

Check Also

Modi go back

मोदी को अमरीका जाने के लिए पाकिस्तान नहीं देगा एयरस्पेस, बदमाश पाकिस्तान ने मोदी को फिर आंख दिखाई

मोदी को अमरीका जाने के लिए एयरस्पेस देने का भारत का अनुरोध पाकिस्तान ने ठुकराया, …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: