Breaking News
Home / समाचार / तकनीक व विज्ञान / रेटिनोब्लास्टोमा : लक्ष्मण, मूडी, पठान और अन्य ऐस क्रिकेटर्स ‘WHITATHON 2019 ’की टी-शर्ट और पदक का अनावरण करेंगे
Health news

रेटिनोब्लास्टोमा : लक्ष्मण, मूडी, पठान और अन्य ऐस क्रिकेटर्स ‘WHITATHON 2019 ’की टी-शर्ट और पदक का अनावरण करेंगे

हैदराबाद 15 अप्रैल। बच्चों में घातक आंख के कैंसर का प्रमुख कारण रेटिनोब्लास्टोमा के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए वीवीएस लक्ष्मण, टॉम मूडी, यूसुफ पठान, सिद्धार्थ कौल और हैदराबाद सीपी अंजनी कुमार, मंगलवार को ‘WHITATHON 2019 ’के टी-शर्ट और पदक का अनावरण करेंगे।

19 मई को है विश्व रेटिनोबलास्टी जागरूकता सप्ताह

प्राप्त जानकारी के अनुसार एल वी प्रसाद आई इंस्टीट्यूट (L V Prasad Eye Institute) ‘WHITATHON 2019 ’का आयोजन कर रहा है, ताकि 19 मई को होने वाले विश्व रेटिनोबलास्टी जागरूकता सप्ताह (World Retinoblastoma Awareness Week) के उपलक्ष्य में बच्चों में नेत्र कैंसर (रेटिनोब्लास्टोमा) का जल्द पता लगाने के लिए जागरूकता बढ़ाई जा सके। इस अवसर पर WHITATHON 2019 के टी-शर्ट और पदक का अनावरण आईपीएल सनराइजर्स हैदराबाद के ऐस क्रिकेटर्स वीवीएस लक्ष्मण, टॉम मूडी, यूसुफ पठान, सिद्धार्थ कौल द्वारा किया जाएगा।

इस अवसर पर श्री अंजनी कुमार, आईपीएस पुलिस आयुक्त, हैदराबाद उपस्थित रहेंगे।

‘WHITATHON 2019’ का आयोजन मंगलवार 16 अप्रैल, 2019 को सुबह 11.45 बजे एल वी प्रसाद आई इंस्टीट्यूट पटोदिया ऑडिटोरियम – 6 ठी स्तर) बंजारा हिल्स में किया जाएगा।

रेटिनोब्लास्टोमा क्या है, रेटिनोब्लास्टोमा के लक्षण

What is Retinoblastoma

विज्ञप्ति के मुताबिक रेटिनोब्लास्टोमा बच्चों में घातक आंख के कैंसर का प्रमुख कारण है। यह तीन साल से कम उम्र के शिशुओं में विकसित होता है और संभावित रूप से जीवन के लिए खतरा होता है। भारत में लगभग 1400 – 2200 बच्चों को हर साल रेटिनोब्लास्टोमा आंख के कैंसर का पता चलता है, लेकिन 1000 से कम बच्चों को उपचार प्राप्त होता है। समय पर उपचार 95% से अधिक बच्चों को बीमारी से बचाने में मदद कर सकता है और 75% मामलों में बच्चे की दृष्टि को भी बचा सकता है। चिंता की बात यह है कि रेटिनोब्लास्टोमा के लक्षणों के बारे में जागरूकता की कमी से दृष्टि की हानि और यहां तक ​​कि बच्चों की मृत्यु भी होती है।

About हस्तक्षेप

Check Also

Obesity News in Hindi

गम्भीर समस्या है बचपन का मोटापा, स्कूल ऐसे कर सकते हैं बच्चों की मदद

एक खबर के मुताबिक भारत में लगभग तीन करोड़ लोग मोटापे से पीड़ित हैं, लेकिन …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: