Home / समाचार / दुनिया / विश्व रक्तदाता दिवस पर स्वैच्छिक रक्तदान शिविर लगाएगा ‘यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, कौशाम्बी’

विश्व रक्तदाता दिवस पर स्वैच्छिक रक्तदान शिविर लगाएगा ‘यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, कौशाम्बी’

गाजियाबाद, 11 जून 2019. यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, कौशाम्बी, गाजियाबाद के प्रबंध निदेशक एवं वरिष्ठ समाजसेवी डॉ. पी एन अरोड़ा ने बताया कि विश्व रक्तदाता दिवस पर 14 जून 2019 (World Blood Donor Day 14 June 2019) को  ‘यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, कौशाम्बी’ हॉस्पिटल परिसर में एक स्वैच्छिक रक्तदान शिविर (Voluntary blood donation camp) लगाएगा। डॉ. अरोड़ा ने कहा कि कार्ल लैंडस्टेनर (एक महान वैज्ञानिक जिन्होंने एबीओ रक्त समूह तंत्र के अपने महान खोज के लिये नोबल पुरस्कार प्राप्त किया है) के जन्मदिवस को याद करने के लिये साथ ही साथ राष्ट्रीय और वैश्विक स्तर पर इसको मनाने के लिये सभी रक्तदाताओं को एक अनमोल मौका प्रदान करने के लिये विश्व रक्तदाता दिवस लाता है।

डॉ. अरोड़ा ने बताया कि 14 जून को पूरे विश्व के बहुत सारे देशों में लोगों के द्वारा हर वर्ष विश्व रक्तदाता दिवस मनाया जाता है। रक्तदाता इस दिन एक मुख्य भूमिका में होता है क्योंकि वो जरूरतमंद व्यक्ति को जीवन बचाने वाला रक्त दान करते हैं। यदि स्वैच्छिक रक्दाता नियमित रूप से रक्तदान करते रहें तो किसी भी मरीज की जान ब्लड की कमी से नहीं जा सकती।

उन्होंने कहा कि इन सब का एक मात्र उपाय है स्वैच्छिक रक्तदान शिविर, इस शिविर के माध्यम से हॉस्पिटल का मकसद है कि वह हर इंसान के अंदर रक्तदान की भावना पैदा करें, और ज्यादा से ज्यादा संख्या में लोग रक्तदान कर सकें जिससे जरूरतमंदों को समय पर ब्लड की उपलब्धता होगी और उनकी जान बच सकेगी।

यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल की ब्लड बैंक प्रभारी डॉ. नलिनी सिंह ने बताया कि दान दिये गये रक्त का इस्तेमाल गंभीर रुप से रक्त की कमी से जूझ रही महिला, बच्चे, दुर्घटना के दौरान अत्यधिक खून बह जाने के बाद पीड़ित को, सर्जिकल मरीज को, कैंसर पीड़ित को, थैलेसीमिया (Thalassemia) मरीज को, हीमोफीलिया (Hemophilia) से पीड़ित लोग, लाल खून की कोशिका की कमी, खून की गड़बड़ी, खून का थक्के की गड़बड़ी से जूझ रहे लोगों को दिया जाता है।

वरिष्ठ पैथोलॉजिस्ट डॉ प्रशांत सिंह बताते हैं कि उचित दान के लिये पर्याप्त रक्त के प्रबंधन के दौरान बहुत सारे जीवन के खतरों की चुनौतियों का सामना एक पर्याप्त रक्त आपूर्ति से रहित जगह करती है। खून की पर्याप्त आपूर्ति और इसके उत्पादों को स्व-प्रेरित, बिना भुगतान वाले और स्वैच्छिक रक्तदाताओं के द्वारा नियमित और सुरक्षित दान के द्वारा ही केवल पूरा किया जा सकता है।

हॉस्पिटल के महाप्रबंधक डॉ. सुनील डागर ने सभी स्वैच्छिक रक्दाताओं से 14 जून को बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेने की अपील की साथ ही डॉ. राहुल शुक्ला, मेडिकल डायरेक्टर ने सभी डॉक्टरों से अनुरोध किया कि वह ज्यादा से ज्यादा लोगों को रक्दान के लिए प्रोत्साहित करें तथा साथ ही बैनर और पोस्टरों के माध्यम से लोगों को रक्तदान के लिए जागरूक करने का अभियान प्रारम्भ किया, इस अवसर पर यशोदा हॉस्पिटल कौशाम्बी के ब्लड बैंक के अधिकारी कैलाश पपनोई, मनी कुमार, पूजा चौधरी, गौरव भार्गव भी मौजूद थे।

‘Yashoda Super Specialty Hospital, Kaushambi’ will organize ‘Voluntary Blood Donation Camp’ on World Blood Donor Day

About हस्तक्षेप

Check Also

Health News

सोने से पहले इन पांच चीजों का करें इस्तेमाल और बनें ड्रीम गर्ल

आजकल व्यस्त ज़िंदगी (fatigue life,) के बीच आप अपनी त्वचा (The skin) का सही तरीके से ख्याल नहीं रख पाती हैं। इसका नतीजा होता है कि आपकी स्किन रूखी और बेजान होकर अपनी चमक खो देती है। आपके चेहरे पर वक्त से पहले बुढ़ापा (Premature aging) नजर आने लगता है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: