Breaking News
Home / हस्तक्षेप / आपकी नज़र / माया-मुलायम-अखिलेश ने योगी आदित्यनाथ को ठीक उसी तरह बचाया जैसे कांग्रेस ने मोदी को
Lucknow: Samajwadi Party (SP) chief Akhilesh Yadav greets Bahujan Samaj Party (BSP) chief Mayawati on her 63rd birthday in Lucknow, on Jan 15, 2019. (Photo: IANS)

माया-मुलायम-अखिलेश ने योगी आदित्यनाथ को ठीक उसी तरह बचाया जैसे कांग्रेस ने मोदी को

भइया जी और बहन जी आखिर किस बात का अब डर जब भाजपा पूरा खेत चुग गई ?

राजीव यादव

कल 9 अगस्त को 2007 गोरखपुर साम्प्रदायिक हिंसा योगी अदित्यनाथ मामले की इलाहाबाद हाई कोर्ट में सुनवाई है.

आखिर अखिलेश-मायावती इस मामले पर चुप क्यों है. और हां अखिलेश के पिता जी भी.

क्या आप जानना नहीं चाहेंगे?

क्योंकि इन सभी ने योगी आदित्यनाथ को ठीक उसी तरह बचाया जैसे कांग्रेस ने मोदी को.

Rajeev Yadav

मायावती जी मेरे बहुजन हितों का सफरनामा में लिखती हैं कि योगी आदित्यनाथ की गतिविधियां राष्ट्र विरोधी हैं. और हाई कोर्ट में Parvez Parwaz और सामाजिक कार्यकर्ता Mohd Asad Hayat के गोरखपुर साम्प्रदायिक हिंसा में योगी की भूमिका को लेकर की गई रिट का विरोध करती हैं. जब वे खुद मानती हैं कि उनकी गतिविधियां गलत है तो फिर उनके खिलाफ करवाई का विरोध क्यों किया. ठीक यही काम अखिलेश यादव करते हैं कि पूरे कार्यकाल में इसको टालते रहते हैं. और अब आरोपी खुद नियंता बन गया है.

अब ये मत कह दीजिएगा की मामला कोर्ट में है. जब बिहार में भाजपा मामले को बना सकती है तो आप क्यों नहीं.

अखिलेश जी मायावती जी अभी मौका है.

और हां जो दोस्त भइया जी और बहन जी में आस्थावान हैं उन्हें तो जरूर पूछना चाहिए आप दोनों एक दूसरे पर इतना बोलते हो क्यों नहीं योगी पर कार्रवाई की और अब क्यों चुप हैं. आखिर किस बात का अब डर जब भाजपा पूरा खेत चुग गई.

राजीव यादव. लेखक स्वतंत्र पत्रकार, मानवाधिकार कार्यकर्ता, ऑपरेशन अक्षरधाम के लेखक व राज्य प्रायोजित आतंकवाद के विशेषज्ञ हैं.

About हस्तक्षेप

Check Also

Modi Air India

हाउडी मोदी में पीएम मस्त, न्यूयॉर्क टाइम्स बोला – अंडरवीयर से लेकर कारों तक, भारत की अर्थव्यवस्था चरमरा रही है

नई दिल्ली, 22 सितंबर 2019। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस समय अमेरिका यात्रा पर हैं। उनके …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: