Home » Latest » जाने-माने नागरिक अधिकार कार्यकर्ता चितरंजन सिंह के निधन पर माले ने शोक प्रकट किया
Chitranjan singh

जाने-माने नागरिक अधिकार कार्यकर्ता चितरंजन सिंह के निधन पर माले ने शोक प्रकट किया

The CPI (ML) mourns the death of noted civil rights activist Chittaranjan Singh.

अन्त्येष्टि शनिवार को बलिया के पैतृक गांव में होगी

लखनऊ, 26 जून। भाकपा (माले) की राज्य इकाई ने जाने-माने नागरिक अधिकार कार्यकर्ता चितरंजन सिंह के निधन पर गहरा शोक प्रकट किया है। लंबी बीमारी के बाद लगभग 67 वर्ष की उम्र में उनका निधन शुक्रवार को हो गया। उनकी अन्त्येष्टि शनिवार को सुबह बलिया में उनके पैतृक गांव सुल्तानपुर (मनियर) में होगी।

भाकपा (माले) के राज्य सचिव सुधाकर यादव ने बताया कि मधुमेह से गंभीर रूप से पीड़ित होने पर उन्हें बीएचयू के अस्पताल में लाया गया था। उनके दोनों गुर्दों ने काम करना बंद कर दिया था। वहां से वापस उनको घर ले जाया गया और आज उनका निधन हो गया।

वे छात्र जीवन से ही भाकपा (माले) के सदस्य थे और आजीवन सदस्य बने रहे। वे मुश्किल समयों में भी पार्टी के साथ अडिग रूप से खड़े रहे। आइपीएफ (इंडियन पीपुल्स फ्रंट) में सक्रिय रहे और बाद को वे पीयूसीएल (पीपुल्स यूनियन फॉर सिविल लिबर्टीज) में राष्ट्रीय स्तर के पदाधिकारी के रूप में सक्रिय रहे। वे मानवाधिकारों के लिए लड़ने वालों की अगली कतार में हमेशा खड़े रहे।

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! 10 वर्ष से सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 
 भारत से बाहर के साथी पे पल के माध्यम से मदद कर सकते हैं। (Friends from outside India can help through PayPal.) https://www.paypal.me/AmalenduUpadhyaya

राज्य सचिव ने कहा कि पार्टी ने आज अपना एक सच्चा साथी खो दिया है। यह और भी दुखद है कि जीवन पर्यंत लोकतांत्रिक अधिकारों के लिए संघर्ष करने वाला अग्रिम पंक्ति का योद्धा आपातकाल दिवस पर ही हम लोगों को छोड़कर चला गया। मौजूदा दौर में ऐसे साथी का जाना लोकतांत्रिक आंदोलनों के लिए अपूर्णीय क्षति है। उन्होंने कहा कि माले की राज्य कमेटी पार्टी के प्रति आजीवन निष्ठावान बने रहे अपने साथी के प्रति अपनी शोक श्रद्धांजलि अर्पित करती है।

उन्होंने कहा कि बलिया में कमरेड चितरंजन सिंह की अन्त्येष्टि से पहले उनके पार्थिव शरीर पर पार्टी का झंडा दिया जाएगा। कामरेड चितरंजन सिंह को लाल सलाम!

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

Novel Coronavirus SARS-CoV-2 Credit NIAID NIH

कोविड-19 से बचाव के लिए वैक्सीन : क्या विज्ञान पर राजनैतिक हस्तक्षेप भारी पड़ रहा है?

Vaccine to Avoid COVID-19: Is Political Intervention Overcoming Science? भारत सरकार के भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसन्धान …