Home » Latest » भाई-बहन के रिश्ते को दर्शाती है एमएक्स प्लेयर की सीरीज “स्वीट एन सोर”
"स्वीट एन सोर" Sweet n Sour -

भाई-बहन के रिश्ते को दर्शाती है एमएक्स प्लेयर की सीरीज “स्वीट एन सोर”

MX players ‘Sweet n Sour’ explores the new highs and lows of Sibling tussle

मुंबई, 19 जुलाई 2020 (न्यूज़ हेल्पलाइन). “स्वीट एन सोर” दो सिबलिंग कबीर और ईशा की कहानी है। शायद ऐसा पहली बार है जब वेब सीरीज में दो सिबलिंग के जीवन और उनके रिश्ते की कहानी दिखाई गई है।

स्वीट एन सोर की कहानी बहुत ही यूनिक है, और साथ ही इस कहानी में भाई-बहन अपने खूबसूरत रिश्ते की पड़ताल करते नजर आ रहे हैं। दिलचस्प बात तो ये है कि इस वेब सीरीज को लॉकडाउन के दौरान शूट किया गया था। इस महामारी के कारण लॉकडाउन की वजह से दोनों भाई-बहनों का जीवन काफी बदल जाता है, एक-दूसरे के प्रति उनके नजरिए भी बदल जाते हैं।

तकनीकी रूप से इसकी शूटिंग वीडियो कॉल और मोबाइल फोन के जरिए की गई है, लेकिन इस सीरीज की कहानी जिस तरह से दिखाई गई है उसमें मोबाइल फोन का अपना महत्व है।

“स्वीट एन सोर” वेब सीरीज में संभव जैन ने मुख्य किरदार निभाया है और इसके अलावा इस सीरीज के जरिए संभव ने राइटर, डायरेक्टर और प्रोड्यूसर के फील्ड में भी कदम रखा है।

संभव जैन को गलीबॉय और गुड न्यूज़ जैसी फिल्मों में उनके किरदार के लिए भी जाना जाता है।

“स्वीट एन सोर” वेब सीरीज इस समय ओटीटी प्लेटफार्म एमएक्स प्लेयर पर स्ट्रीम कर रही है।

स्वीट एन सोर की कहानी की बात करें को ईशा और कबीर, दोनों बिलकुल चाक और पनीर की तरह है। वे दोनों आपस में बात नहीं करते हैं, लड़ाई नहीं करते हैं, और यहाँ तक कि एक-दूसरे की लाइफ में क्या चल रहा है वो भी नहीं जानते।

 पाठकों सेअपील - “हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

जहां एक तरफ कबीर एक्सट्रोवर्ट है तो वही ईशा शांत और समझदार है। एक अच्छा स्टुडेंट होने के कारण कबीर को स्कूल की तरफ से स्कॉलरशिप मिलने की वजह से उसके माता पिता ने उसका एडमीशन पॉचवी क्लास से बोर्डिंग स्कूल में कराया था और जब वो घर वापस आया तो भाई-बहन के साथ रिश्ते पहले जैसे नहीं रहे।

ईशा को पहले से ही लगता था कि उसके माता-पिता कबीर को अधिक महत्व देते है, या तो उसके होशियार होने के कारण या फिर उसके इतने लंबे समय तक दूर रहने के कारण।

वो दोनों आपस में कुछ भी शेयर नहीं करते थे और ना ही कभी महसूस किया कि करना चाहिए। रक्षाबंधन का भी उनके जीवन में उतना महत्व नहीं था। ऐसा नहीं था कि वे एक-दूसरे से नफरत करते थे, लेकिन बहुत पसंद भी नहीं करते हैं।

लेकिन ये लॉकडाउन उनके जीवन में बहुत बदलाव लाता है। 5 एपिसोड के दौरान, कैसे दोनों एक-दूसरे की मदद करते हैं और करीब आते हैं यह देखने लायक है ।

इस वेब सीरीज को संभव जैन ने प्रोड्यूस किया है। इसकी कहानी को लिखा और डायरेक्ट किया है गरिमा मारवाह और संभव जैन ने। इसमें लेख प्रजापति, संभव जैन, चैतन्य पुरी और सपना जैन जैसे कलाकार है। और एडिटिंग अक्षय कक्कड़ द्वारा किया गया है।

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

उनके राम और अपने राम : राम के सच्चे भक्त, संघ के राम, राम की सनातन मूरत, श्रीराम का भव्य मंदिर, श्रीराम का भव्य मंदिर, अयोध्या, राम-मंदिर के लिए भूमि-पूजन, राममंदिर आंदोलन, राम की अनंत महिमा,

मर्यादा पुरुषोत्तम राम को तीसरा वनवास

Third exile to Maryada Purushottam Ram राम मंदिर का भूमि पूजन या हिंदू राष्ट्र का …