Home » Latest » ब्रेन पावर बढ़ाने के लिए 10 पौष्टिक आहार
nutritious food

ब्रेन पावर बढ़ाने के लिए 10 पौष्टिक आहार

दिमाग को भी है बेहतर आहार की आवश्यकता

10 nutritious diet to increase brain power

हम सब जानते हैं कि अच्छा खाना-पीना सुखी जीवन का आधार है। यदि हम खाने पीने पर ध्यान दें तो बीमारियां हमारे पास फटकेंगी भी नहीं। हमारे शरीर में पौष्टिक तत्वों की कमी को पूरा करने के लिए तो हम बहुत प्रयास करते हैं कि ऐसा खाएं जिससे शरीर को सुचारु ढ़ंग से काम करने के लिए ताकत व ऊर्जा मिलती रहे। साथ ही शरीर में पौष्टिक तत्वों की पूर्ति होती रहे। लेकिन क्या हम दिमाग के लिए आहार (Diet for the brain) के बारे में सोचते हैं-नहीं।

दिमाग तेज करने के लिए क्या-क्या खाना चाहिए

गुड़गांव स्थित मेदांत-द मेडसिटी हास्पिटल में न्यूरोवेस्कुलर इंटरवेंशन सेंटर के इंटरवेंशनल न्यूरो रेडियोलॉजी सर्जरी विभाग के प्रमुख डा. विपुल गुप्ता (Dr. Vipul Gupta, Head of Interventional Neuro Radiology Surgery Department of Neurovesicular Intervention Center at Medanta-The Medcity Hospital, Gurgaon.) का कहना है कि हम यह भूल जाते हैं कि दिमाग जो कि शरीर का नियंत्रक है, उसके सुचारू रूप से काम करने के लिए हमें दिमाग को भी उसकी आवश्यकतानुसार भोजन देना होगा।

आइए जानें दिमाग रूपी भोजन के बारे में :-

अनाज | Whole grains

साबुत अनाज को शरीर के लिए तो अच्छा माना जाता ही है लेकिन ये दिमाग के लिए भी उतने ही अच्छे होते हैं। साबुत गेहूं, ब्राउन चावल में फोलेट की उच्च मात्रा (High amounts of folate in brown rice) होती है जो कि दिमाग के कार्यप्रणाली को तेज करते हैं।

अन्य अनाज जैसे ओटमील, ब्राउन ब्रेड, जवार, बाजरा आदि का सेवन भी दिमाग के लिए अच्छा माना जाता है। इनमें विटामिन बी 6 व थियामिन भी प्रचुर मात्रा में उपलब्ध है जो कि मेमोरी बढ़ाने के लिए एक आवश्यक तत्व माना जाता है। यदि आप इनका सेवन करते हैं तो साठ सत्तर की उम्र तक पहुंचते-पहुंचते आप की मेमोरी कम नहीं होती है।

चाय | tea

अपनी सुबह की शुरुआत काफी की बजाय चाय से करें। ग्रीन या ब्लैक टी में कैटेचिन नामक ऐसे तत्व (Ingredients called catechin in green or black tea) होते हैं जो कि दिमाग को ताकत देते हैं। यदि कभी आप थका हुआ व ऊर्जारहित महसूस करते हैं तो समझिए कि दिमाग में कैटेचिन की कमी हो रही है। दिमाग को तरोजाजा रखने के लिए कैटेचिन बहुत आवश्यक होते हैं। ये दिमाग को आराम करने व दिमागी थकावट दूर करने में भी मदद करते हैं। ऐसे में सुबह सुबह ग्रीन या ब्लैक टी लेने से दिमाग को भी अच्छी शुरुआत मिलती है।

अण्डे | Eggs

जैसे-जैसे हमारी उम्र बढ़ने लगती है, वैसे-वैसे एक प्रक्रिया जिसे ब्रेन अट्रोफी (Brain atrophy) के नाम से जाना जाता है, के कारण हमारा दिमाग भी धीरे-धीरे सिकुड़ने लगता है। हालांकि बहुत से लोग सिकुड़ते हुए शरीर यानी छरहरी काया की चाहत तो जरूर रखते होंगे लेकिन सिकुड़ते दिमाग की कल्पना कोई भी करना नहीं चाहता है। इस प्रक्रिया से बचने के लिए अण्डों का सेवन फायदेमंद होता है। अण्डे में विटामिन बी 12 व लेसाथिन पाया जाता है। विटामिन बी 12 दिमाग को सिकुड़न से बचाता है। अण्डों में कोलीन नामक तत्व भी होता है जो कि दिमाग की नसों के बिल्डिंग ब्लाक को बनने में सहायक होता है। 

मसाला | Spice

मसालेदार भोजन ग्रहण करने से आप अपने दिमाग को भी मसालेदार बना सकते हैं। दरअसल करी पाउडर में करक्युनिन नामक तत्व होता है जो कि एंटी आक्सीडेंट से भरा होता है। एंटी आक्सीडेंट दिमाग की बढ़ती उम्र को तो रोकता ही है, साथ ही दिमाग व शरीर में रेडिकल्स बनने की प्रक्रिया को भी कम करते हैं जो कि शरीर व दिमाग दोनों के लिए ही हानिकारक होते हैं।

बेरी | The berry

यदि आप शाकाहारी हैं तो फलों व सब्जियों से भी आप दिमाग को संपूर्ण आहार दे सकते हैं जैसे ब्लूबेरी (blueberry)। इसे बेरियों में दिमाग के लिए सर्वश्रेष्ठ माना जाता है क्यों कि इससे मेमोरी बढ़ने में सहायता मिलती है। बेरी जैसे ब्लूबेरी, ब्लैकबेरी व रसबेरी आदि में एंटी आक्सीडेंट होते हैं जो कि दिमाग के विकास के लिए बेहतर माने जाते हैं। दिन में एक बार इन बेरियों को खाने से आप शरीर को बुढापे की ओर जाने से भी रोक सकते हैं।

सूखे मेवे | dry fruits

यदि आप दिमाग के लिए कोई स्नैक्स लेना चाहते हैं तो सूखे मेवों व बीजों से बढ़कर कुछ नहीं हो सकता है। उदाहरण के लिए सभी सूखे मेवे दिमाग के लिए पुष्टिकर होते हैं जैसे मूंगफली, काजू, बादाम, पिस्ता, किसमिस, खरबूज के बीज, तरबूज के बीज आदि। इनमें ओमेगा 3, ओमेगा-6, फोलेट ,विटामिन ई व विटामिन बी-6 की प्रचुर मात्रा होती है। इससे आप को सोचने की ताकत मिलती है।

ओमेगा 3, ओमेगा-6 में एंटीडिप्रेसेंट चलिटी होती है जो कि अवसाद को दूर करने में मदद करती है। साथ ही इनसे दिमाग को पोषण भी मिलता है।

हरी पत्तेदार सब्जियां | Green leafy vegetables

पालक, पत्तागोभी जैसी पत्तेदार सब्जियां बच्चों को पसंद नहीं आती हैं जबकि दिमागी विकास के लिए ये आवश्यक हैं। इनसे भूलने की क्षमता कम होती है। इनमें विटामिन बी6, बी 12, फोलेटव आयरन आदि होता है जो कि मेमोरी को तेज करने में मदद करता है। बच्चों में तो खासकर इनसे याद करने की क्षमता बढ़ती है।

मछली | fish

मछली खाना पूरे शरीर के लिए फायदेमंद माना जाता है।इसमें ओमेगा-3 होता है जो कि शरीर के लिए बेहद लाभदायक है। सप्ताह में एक बार मछली खाने से अल्जाइमर होने का खतरा (Alzheimer’s Risk) कम हो जाता है। इससे दिमाग को पुरानी जानकारी खुद रखने के साथ-साथ नई जानकारी ग्रहण करने में आसानी होती है। इससे दिमाग को सही मात्रा में ऑक्सीजन मिलता है।

चॉकलेट | Chocolate

हालांकि बच्चों का अधिक चाकलेट खाने के लिए मना किया जाता है। लेकिन चॉकलेट में मौजूद कोकोआ (Cocoa present in chocolate) दिमाग के लिए बहुत ही अच्छा होता है। यह दिमाग के लिए बेहद पौष्टिक होता है। कोकोआ के दो या तीन चम्मच में ही बहुत सारा एंटी आक्सीडेंट होता है। इसमें मौजूद मुख्य एंटी आक्सीडेंट फ़्लेवनोल्स (compounds called flavanols) के नाम से जाना जाता है, जो कि दिमाग में रक्तप्रवाह को तेज करता है। इसलिए अगली बार जब भी खाएं, डार्क चाकलेट ही खाएं।

दही | Eating curd is also considered good for the mind and body.

दही का सेवन भी दिमाग व शरीर के लिए अच्छा माना जाता है। विशेषकर गर्मियों में। इसमें विटामिन व प्रोटीन होता है जो कि दिमाग व शरीर की नसों के बीच कम्यूनीकेशन को बढ़ावा देने में मदद करते हैं।

सूखा ओरीगेनो | dry oregano in hindi

इसमें एंटी आक्सीडेंट की बहुत अधिक मात्रा पाई जाती है। एक शोध के अनुसार इसमें सेब से 40 गुणा ज्यादा, आलू से 30 गुणा ज्यादा, संतरों से 12 गुणा और ब्लूबेरी से 4 गुणा ज्यादा एंटी आक्सीडेंट होता है जो कि दिमाग के लिए बेहद आवश्यक तत्व माना जाता है।

सोनी राय

(स्रोत – देशबन्धु में प्रकाशित एक पुराना समाचार)

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

dr. bhimrao ambedkar

65 साल बाद भी जीवंत और प्रासंगिक बाबा साहब

Babasaheb still alive and relevant even after 65 years क्या सिर्फ दलितों के नेता थे …

Leave a Reply