Home » 2020 » अगस्त

Monthly Archives: अगस्त 2020

बेबाक और बेखौफ शायर थे राहत इन्दौरी

Rahat Indori

राहत इन्दौरी को श्रद्धांजलि | Tribute to Rahat Indori खामोश हो गई मुशायरों में गूंजने वाली दमदार आवाज कोरोना संक्रमित होने के अगले ही दिन देश के प्रख्यात शायर राहत इन्दौरी 70 साल की आयु में दुनिया छोड़कर चले गए और मुशायरों में गूंजने वाली दमदार आवाज हमेशा के लिए खामोश हो गई। तबीयत बिगड़ने पर वे 10 अगस्त को …

Read More »

राम मंदिर से आगे ! संतों ने किया अगली लड़ाई का शंखनाद !

एच.एल. दुसाध (लेखक बहुजन डाइवर्सिटी मिशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं.)  

प्रख्यात शिक्षाविद प्रो. अजय तिवारी को समर्पित ! 5 अगस्त को बहुप्रतीक्षित राम मंदिर का भूमि पूजन होने के संग-संग ही एक खास सवाल बुद्धिजीवियों के मध्य उठने लगा था, वह यह कि तीन तलाक के खिलाफ कानून बनने, अनुच्छेद 370 हटने और राम मंदिर का निर्माण का भूमि पूजन होने के बाद आगे क्या ? टीवी चैनलों पर इस …

Read More »

इंडिया बनाम भारत : एक तरफ बहुलता है तो दूसरी तरफ अभाव

India vs Bharat : On one side there is multiplicity, on the other there is lack दो सौ साल की लंबी गुलामी के बाद सन् 1947 में हमारा देश स्वतंत्र हुआ, सन् 1950 में हमने अपना संविधान अपना लिया और हम गणतंत्र बन गए। उसके बाद से भारतवर्ष ने प्रगति के कई पड़ाव पार किये हैं। देश में भारी कल-कारखाने …

Read More »

मर्यादा पुरुषोत्तम राम को तीसरा वनवास

उनके राम और अपने राम : राम के सच्चे भक्त, संघ के राम, राम की सनातन मूरत, श्रीराम का भव्य मंदिर, श्रीराम का भव्य मंदिर, अयोध्या, राम-मंदिर के लिए भूमि-पूजन, राममंदिर आंदोलन, राम की अनंत महिमा,

Third exile to Maryada Purushottam Ram राम मंदिर का भूमि पूजन या हिंदू राष्ट्र का शिलान्यास Bhoomi Poojan of Ram temple or the foundation stone of Hindu nation ‘‘पांव सरयू में अभी राम ने धोये भी न थे कि नजर आए वहां खून के गहरे धब्बे पांव धोये बिना सरयू के किनारे से उठे राम ये कहते हुए अपने दुआरे …

Read More »

वैक्सीन की तरह संदेह भरी मजदूरों की जिंदगी

Lockdown, migration and environment

Life of laborers with suspicion like vaccine कोरोना से निजात पाने के लिए सबको एक अदद वैक्सीन की दरकार है। दुनिया को लग रहा है कि इससे वो सुरक्षित हो जाएगी। हांलाकि इसे पहले वैज्ञानिक स्तर पर जांचा परखा जाता है। फिर उसे जनता को उपलब्ध कराया जाता है। जिसमें कम समय के साथ लंबा वक्त भी लग सकता है। …

Read More »

मौलाना हसरत मोहानी का कृष्ण प्रेम : हिन्दू और मुसलमान कट्टरपंथियों को दुख होगा

Maulana Hasrat Mohani's love for Krishna

Maulana Hasrat Mohani’s Krishna Love: Hindu and Muslim fundamentalists will be sad कृष्ण जन्माष्टमी पर हिन्दू और मुसलमान कट्टरपंथी जो हमारे देश को हिन्दू और मुसलमानों के बीच एक मैदान-ए-जंग मानते हैं उन्हें यह नज़्म पढ़ कर यक़ीनन दुःख होगा! ON JANMASHTAMI Hindutva and Islamist zealots who believe that India has been a battleground for Hindus & Muslims must be …

Read More »

सांस्कृतिक सृजनकार काल की पुकार! – मंजुल भारद्वाज

Manjul Bhardwaj

12 अगस्त थिएटर ऑफ़ रेलेवंस सूत्रपात दिवस ! देश और दुनिया आज सांस्कृतिक रसातल में है. तकनीक के बल पर संचार माध्यम में सारा विश्व लाइव है त्रासद यह है की तकनीक लाइव है आदमी मरा हुआ है. मरी हुए दुनिया को तकनीकी संचार लाइव कर रहा है. कमाल का विकास है व्यक्ति,परिवार,समाज, देश और दुनिया मरे हुए और तकनीक …

Read More »

राहत इन्दौरी की गज़लें फिसलती नहीं थीं अपितु कील की तरह ठुकती थीं

Rahat Indori

राहत इन्दौरी और उनकी शायरी की लोकप्रियता | Popularity of Rahat Indori and his poetry राहत इन्दौरी के निधन (Death of Rahat Indori) के बाद उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करने के साथ उनकी शायरी को याद करने वालों की बाढ सी आ गयी। ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि उनके शे’रों ने हर एक को गुदगुदाया था और वे शे’र उनकी स्मृतियों में …

Read More »

जानिए क्या है आदर्श आचार संहिता

Vote

आदर्श आचार संहिता : सावधानी एवं जवाबदारी | Model Code of Conduct – Election Commission of India: Caution and Accountability | लोकतंत्र में निष्पक्षता के साथ नई सरकार का चयन (Selecting new government with fairness in democracy) हो सके इसके लिए आदर्श आचार संहिता (Model Code of Conduct) लागू की जाती है। आमतौर पर सरकारें आसन्न चुनावों के मद्देनजर पहले …

Read More »

नई शिक्षा नीति और नई चुनौतियां : अब किसी लॉर्ड क्लाइव की जरूरत नहीं

narendra modi flute

नई शिक्षा नीति और नई चुनौतियां : अब किसी लॉर्ड क्लाइव की जरूरत नहीं है, सारे सिराजुद्दौला भी मीर जाफर बन गए हैं New education policy and new challenges: No Lord Clive is needed anymore, all Siraj-ud-daulas have also become Mir Jafar ज्ञान, शिक्षा और वर्चस्व (भाग 1) | New education policy and new challenges “हर ऐतिहासिक युग में शासक …

Read More »