उप्र के औरैया में 24 प्रवासी मजदूरों की सड़क हादसे में मौत : राहुल ने जताया दुख, अखिलेश बोले – ये हादसा नहीं हत्या है

24 migrant laborers died in road accident in Auraiya of UP: Rahul expressed grief, Akhilesh said – this is not an accident, a murder

नई दिल्ली. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक उत्तर प्रदेश के औरैया जिले में शनिवार को 24 प्रवासी मजदूरों (Migrant Workers) की एक सड़क हादसे में मृत्यु हो गई। हादसे पर पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) समेत कई नेताओं ने शोक जाहिर किया है. वहीं, समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) का कहना है कि औरैया में मजदूरों की मौत (Workers killed in Auraiya) हादसा नहीं हत्या है।

कोरोना संकट (Covid-19 Crisis) की वजह से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा साढ़े तीन घंटे के नोटिस पर अचानक  देश में 24 मार्च से लागू लॉकडाउन की मार प्रवासी मजदूरों और गरीबों पर ही पड़ी है। रोजी-रोटी छिनने और भोजन न मिलने के बाद भूख से बेहाल प्रवासी मजदूर अपने गांव और शहर लौटने को मजबूर हैं। सरकार की संवेदनहीनता के कारण ये मजदूर पैदल ही हजार-हजार किलोमीटर के सफर पर निकल पड़ रहे हैं। इस दौरान कई सड़क हादसों में जान भी गंवा रहे हैं।

औरैया में मजदूरों की मौत पर कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा,

‘औरैया में हुए सड़क हादसे में 24 मजदूरों की मौत और अनेक लोगों के घायल होने की खबर से आहत हूं। मृतकों के परिवारों के प्रति मैं अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं। घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूं।’

वहीं, उप्र के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने इसे हत्या करार दिया है।

अखिलेश यादव ने ट्वीट किया –

‘सब कुछ जानकर, सब कुछ देखकर भी, मौन धारण करने वाले हृदयहीन लोग और उनके समर्थक देखें कब तक इस उपेक्षा को उचित ठहराते हैं. ऐसे हादसे मृत्यु नहीं हत्या हैं.’

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने ट्वीट किया,

‘औरैया सड़क हादसे की खबर अत्यंत मर्माहत करने वाली है। हम सभी राज्यों को अपने राज्यों में पैदल चलने को मजबूर लोगों की मदद हेतु जानकारी एकत्र कर संबंधित राज्य को अग्रतर कार्यवाई हेतु साझा करनी होगी। श्रमिक देश के मुख्य स्तंभ हैं तथा इनकी सेवा और सुरक्षा हम सभी का प्रथम कर्तव्य।’

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations