Home » Latest » उप्र के औरैया में 24 प्रवासी मजदूरों की सड़क हादसे में मौत : राहुल ने जताया दुख, अखिलेश बोले – ये हादसा नहीं हत्या है
Ghar Se Door Bharat Ka Majdoor

उप्र के औरैया में 24 प्रवासी मजदूरों की सड़क हादसे में मौत : राहुल ने जताया दुख, अखिलेश बोले – ये हादसा नहीं हत्या है

24 migrant laborers died in road accident in Auraiya of UP: Rahul expressed grief, Akhilesh said – this is not an accident, a murder

नई दिल्ली. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक उत्तर प्रदेश के औरैया जिले में शनिवार को 24 प्रवासी मजदूरों (Migrant Workers) की एक सड़क हादसे में मृत्यु हो गई। हादसे पर पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) समेत कई नेताओं ने शोक जाहिर किया है. वहीं, समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) का कहना है कि औरैया में मजदूरों की मौत (Workers killed in Auraiya) हादसा नहीं हत्या है।

कोरोना संकट (Covid-19 Crisis) की वजह से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा साढ़े तीन घंटे के नोटिस पर अचानक  देश में 24 मार्च से लागू लॉकडाउन की मार प्रवासी मजदूरों और गरीबों पर ही पड़ी है। रोजी-रोटी छिनने और भोजन न मिलने के बाद भूख से बेहाल प्रवासी मजदूर अपने गांव और शहर लौटने को मजबूर हैं। सरकार की संवेदनहीनता के कारण ये मजदूर पैदल ही हजार-हजार किलोमीटर के सफर पर निकल पड़ रहे हैं। इस दौरान कई सड़क हादसों में जान भी गंवा रहे हैं।

औरैया में मजदूरों की मौत पर कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा,

‘औरैया में हुए सड़क हादसे में 24 मजदूरों की मौत और अनेक लोगों के घायल होने की खबर से आहत हूं। मृतकों के परिवारों के प्रति मैं अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं। घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूं।’

वहीं, उप्र के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने इसे हत्या करार दिया है।

अखिलेश यादव ने ट्वीट किया –

‘सब कुछ जानकर, सब कुछ देखकर भी, मौन धारण करने वाले हृदयहीन लोग और उनके समर्थक देखें कब तक इस उपेक्षा को उचित ठहराते हैं. ऐसे हादसे मृत्यु नहीं हत्या हैं.’

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने ट्वीट किया,

‘औरैया सड़क हादसे की खबर अत्यंत मर्माहत करने वाली है। हम सभी राज्यों को अपने राज्यों में पैदल चलने को मजबूर लोगों की मदद हेतु जानकारी एकत्र कर संबंधित राज्य को अग्रतर कार्यवाई हेतु साझा करनी होगी। श्रमिक देश के मुख्य स्तंभ हैं तथा इनकी सेवा और सुरक्षा हम सभी का प्रथम कर्तव्य।’

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

Women's Health

गर्भावस्था में क्या खाएं, न्यूट्रिशनिस्ट से जानिए

Know from nutritionist what to eat during pregnancy गर्भवती महिलाओं को खानपान का विशेष ध्यान …