Home » Latest » लखनऊ में 30 प्रतिशत स्वास्थ्यकर्मी कोरोना पॉजिटिव
Corona virus COVID19, Corona virus COVID19 image

लखनऊ में 30 प्रतिशत स्वास्थ्यकर्मी कोरोना पॉजिटिव

30 percent health workers in Lucknow corona positive

लखनऊ,19 अप्रैल 2021. एक खबर के मुताबिक उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ (Lucknow, capital of Uttar Pradesh) में लगभग 30 प्रतिशत स्वास्थ्यकर्मी कोरोना पॉजिटिव हुए। इनमें प्रमुख कोविड अस्पतालों के डॉक्टर, नर्स, तकनीशियन, वार्ड बॉय और प्रशासनिक अधिकारी शामिल हैं।

इससे विभिन्न अस्पतालों में कोविड की सेवाएं पर काफी असर पड़ा रहा है।

खबर के मुताबिक किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (King George Medical University) के एक वरिष्ठ चिकित्सक ने कहा यहां एक दिन में 40 डॉक्टरों कोरोना पॉजिटिव हुए। यह बीमारी इतनी संक्रामक है कि हर बार एक टीम 14-दिवसीय कोविड ड्यूटी पर जाती है, जिनमें से लगभग एक-चौथाई उनके साथ पॉजिटिव होकर लौटते हैं।

उन्होंने कहा कि उनमें से कई होम आइशोलेशन में हैं, जबकि कुछ अस्पताल में भर्ती हैं।

Ram Manohar Lohia Institute of Medical Sciences also has at least 600 employees Corona positive

राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में भी 2,000 कर्मचारियों में से कम से कम 600 कर्मचारियों कोरोना पॉजिटिव है।

खबर के मुताबिक आरएमएलआईएमएस के प्रवक्ता डॉ श्रीकेश सिंह ने कहा करीब 30 फीसदी स्टाफ संक्रमित हैं। वहीं गैर-कोविड टीम कोविड पेशेंट की पहचान करते हुए भी संक्रमित हो रही है।

उन्होंने आगे कहा,

“हमने अपने कर्मचारियों को लगभग पूरी तरह से टीका लगाया है और काम करते समय उन्हें और सुरक्षित रहने को भी कहा है।”

इसी तरह की स्थिति बलरामपुर अस्पताल में भी है, जहां पिछले 72 घंटों में, 15 डॉक्टरों सहित कम से कम 24 स्टाफ सदस्य कोरोना पॉजिटिव हो गए।

बलरामपुर अस्पताल में कोविड फैसिलिटीज के नोडल अधिकारी डॉ वी के पांडे ने कहा कि टेस्टिंग यूनिट को स्वच्छता के लिए 48 घंटे के लिए बंद कर दिया गया है।

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

badal saroj

कृषि कानूनों का निरस्तीकरण : गाँव बसने से पहले ही आ पहुँचे उठाईगीरे

क़ानून वापसी के साथ-साथ कानूनों की पुनर्वापसी की जाहिर उजागर मंशा किसानों ने हठ, अहंकार …

Leave a Reply