Home » Latest » क्या आपको भी है चीनी खाने की लत ? आपके काम की है ये ख़बर
Health News

क्या आपको भी है चीनी खाने की लत ? आपके काम की है ये ख़बर

चीनी छोड़ने पर ये 5 चीज़े आपके साथ हो सकती हैं| 5 Things That Can Happen To Your Body When You Quit Sugar

क्या आप चीनी खाने के आदी (Addicted to sugar) हैं? क्या आप चीनी के बिना रह नहीं सकते? मगर सवाल यह उठता है कि अगर आप चीनी खाना पूरी तरह बंद कर दें, तो क्या आप स्वस्थ रह सकते हैं ? … इस लेख में बताया गया है कि आपके शरीर के साथ क्या होता है अगर आप चीनी छोड़ते हैं (What happens when you stop eating sugar)..जानिए

woman blowing on coffee with whipped cream
Photo by Sam Lion on Pexels.com

हमें बचपन से ही हमेशा शराब, सिगरेट और ड्रग्स से दूर रहने की शिक्षा दी जाती रही है। यह एक ऐसी लत है जो आपके शरीर को बहुत नुकसान पहुंचा सकती है। लेकिन, क्या हमें इस बारे में बताया गया है कि चीनी भी आपके शरीर के लिए कैसे नशीली और हानिकारक हो सकती है?

मधुमेह, मोटापा और दिल की बीमारियों के बढ़ते मामलों का मूल कारण है चीनी. इन बिमारियों की बढ़ती संख्या की वजह से आज हमें पहले से कहीं अधिक इस विषय में सोचना होगा।

क्या सभी शुगर खराब हैं? Are All Sugars Bad?

सबसे पहले, हम समझते हैं कि सभी किस्म की चीनी खराब नहीं हैं। स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करने के लिए हमें सभी प्रकार की चीनी को रोकने की आवश्यकता नहीं है। हमें बस अपने आहार से खराब शुगर को खत्म करना होगा।

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार, चीनी दो प्रकार की होती है – प्राकृतिक शुगर, जो फलों, शहद, दूध, प्राकृतिक गुड़ आदि में पाई जाती है। यह विटामिन और मिनरल्स से भरी होती है जो आपके शरीर के लिए स्वस्थ होती है, अगर आपको मधुमेह जैसी कोई स्वास्थ्य स्थिति न हो।

और फिर परिष्कृत शुगर (रिफाइंड शुगर) होती है जो गन्ने के रस से संसाधित होती है। ये रासायनिक रूप से संसाधित होती है और इसके शून्य पोषण लाभ होते हैं। ये इन दिनों अधिक लोकप्रिय है और फ़िज़ी पेय, पैकेज्ड जूस, चॉकलेट, बिस्कुट आदि में पाए जाते हैं।

तो, रिफाइंड शुगर खराब शुगर होता है और इसे आपके समग्र स्वास्थ्य की बेहतरी के लिए आपके आहार से समाप्त करने की आवश्यकता है।

क्या चीनी वास्तव में नशे की लत है? Is Sugar Really Addictive?

हाँ, निश्चित रूप से चीनी नशे की लत है। समझाती हूँ कैसे।

क्या आपने कभी शक्कर की वस्तु खाने की अचानक से लालसा हुई है? क्या आप किसी विशेष समय में चॉकलेट के लिए तरसते हैं? या आपको हर खाने के बाद कुछ मीठा चाहिए ? ये सभी शुगर की लत के संकेत हैं।

विभिन्न शोधों के अनुसार, मनुष्य शक्कर पर बहुत अधिक निर्भर हो सकता है, जिसमें विभिन्न प्रकार के नशे के लक्षण दिखाई देते हैं जैसे कि क्रेविंग, निकासी और बिंज ईटिंग।

कई विशेषज्ञों का मानना ​​है कि चीनी के अत्यधिक सेवन से डोपामाइन का स्तर ठीक उसी तरह बढ़ जाता है जिस तरह से ड्रग्स करते हैं।

डोपामाइन क्या है

डोपामाइन एक हैप्पी हार्मोन है जो शरीर द्वारा तब जारी किया जाता है जब आप किसी चीज के बारे में अच्छा या तृप्त महसूस करते हैं। और फिर आपको वही आनंद की लालसा करते हो.. बार-बार।

इसलिए, शक्कर छोड़ना या इसके उपयोग को प्रतिबंधित करना जितना आसान काम पढ़ने में लगता है, उसकी तुलना में काफी कठिन काम है। लेकिन एक बार जब आप अपना मन बना लेते हैं, तो इसके साथ कई तरह के लाभ भी होते हैं।

आइए देखें वे शीर्ष 5 स्वास्थ्य लाभों को जो आप शक्कर छोड़ने या इसके सेवन को कम करने के बाद अनुभव करने की संभावना रख सकते हैं।

1.  लंबा जीवन | Long Life

smiling ethnic lady standing with surfboard in town
Photo by Daniel Torobekov on Pexels.com

रिसर्च ने साबित किया है कि शक्कर को कम करने से यह पूरी तरह से छोड़ने पे कई हृदय रोगों के जोखिम का खतरा कम हो जाता है। आपका रक्तचाप नियंत्रण में रहता है। इसके अलावा, उच्च शर्करा की खपत डायबिटीज के खतरे से जुड़ी होती है। इसलिए, रिफाइंड शुगर के सेवन को कम करके हम न केवल दिल की बीमारियों और मधुमेह के खतरे से दूर हो सकते हैं बल्कि शरीर से जुडी काफी स्वास्थ्य परेशानियों से पीछा छुड़ा सकते हैं.

2. खुशहाल जीवन | Happier Life

अध्ययनों ने मनुष्यों में डिप्रेशन और तनाव के बढ़ते स्तर के लिए चीनी के अत्यधिक उपयोग को जोड़ा है। एक अध्ययन में पाया गया है कि कुछ महिलाएं जो अधिक चीनी का सेवन करती हैं, वे उन लोगों की तुलना में तनावग्रस्त होने की अधिक संभावना रखती हैं, जिन्होंने शक्कर का सेवन कम या बिल्कुल नहीं किया हो। कोई आश्चर्य वाली बात नहीं है कि जब आप उदास होते हैं तो आप हमेशा अधिक चॉकलेट और आइकॉल्स का सेवन करते हैं!

3. जल्दी वजन कम करना | Quicker Weight Loss

crop slim sportswoman with colorful hula hoop
Photo by Karolina Grabowska on Pexels.com

हमने कितनी बार पोषण विशेषज्ञों को यह कहते हुए सुना है कि वजन कम करने वाली आहार योजना में सबसे पहले चीनी का सेवन कम करना है। उच्च शर्करा वाले आहार लंबे समय तक ऊंचे रक्त शर्करा और इंसुलिन प्रतिरोध में योगदान करते हैं, – ये दोनों वजन बढ़ाने और अतिरिक्त शरीर में वसा से जुड़े होते हैं। इसके अलावा, चीनी कैलोरी में अधिक होती है इसलिए इसका अधिक सेवन करने का मतलब होगा अधिक कैलोरी का सेवन करना जिससे वजन बढ़ता है।

4. प्रतिरक्षा (इम्युनिटी) में सुधार | Improved Immunity

कुछ अध्ययनों से यह साबित हुआ हे कि शक्कर के अधिक सेवन से श्वेत रक्त कोशिकाओं की कार्यकुशलता में आधे से ज़्यादा कमी होती है। इसलिए, निश्चिंत रहें कि केवल अपने चीनी सेवन को कम करके आप अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार कर सकते हैं और आम सर्दी, फ्लू, मुँहासे आदि को अलविदा कह सकते हैं।

5. बेहतर नींद | Better Sleep

चीनी में उच्च कैलोरी का मतलब ऊर्जा का उच्च प्रतिशत है जिसके परिणामस्वरूप हल्की और अशांत नींद हो सकती है। कुछ शर्करा वाले खाद्य पदार्थों में कैफीन भी होता है जो नींद के शासन में बाधा का कारण बनता है।

निष्कर्ष

यदि आप समग्र रूप से एक स्वस्थ जीवन की तलाश कर रहे हैं, तो सबसे आसान और झटपट परिवर्तन जो आप कर सकते हैं, वो है अपने चीनी सेवन पर कटौती करना। सरल, पर उतना ही प्रभावी!

रिफाइंड शुगर को प्राकृतिक शक्कर से बदलें। कम चीनी का उपयोग सीधे आपके बढ़े हुए प्रतिरक्षा, बेहतर दिल के स्वास्थ्य, कम तनाव और एक समग्र स्वस्थ और खुशहाल जीवन का प्रचार है।

बस इसे 21 दिनों तक छोड़ने की कोशिश करें और अपने आप में एक सकारात्मक अंतर देखें। मुझे नीचे टिप्पणी में अपने इन 21 दिनों का अनुभाग ज़रूर बताएं।

ये मेरा व्यक्तिगत अनुभव और अटूट विश्वास है कि सिर्फ इस एक परिवर्तन से आपका जीवन स्वस्थ, खुशहाल और फिट हो जाएगा।

Author’s Note:

नमस्कार! मैं एक स्वास्थ्य और फिटनेस उत्साही हूं और आप सभी की तरह एक स्वस्थ जीवन शैली चाहती हूँ। इसी कारण एक स्वस्थ जीवन को पाने के लिए काफी कुछ सीखा है मैंने जिसे मैं आप सब के साथ साझा करना चाहती हूँ. TopPaanch एक हिंदी ब्लॉग है जो प्रभावी पोषण और फिटनेस टिप्स प्रदान करता है जो आपको एक संपूर्ण स्वस्थ जीवन शैली बनाए रखने में मदद कर सकता है। मुझे उम्मीद है कि आपको यह लेख पसंद आया होगा। नीचे टिप्पणी में आप सब की अनुभव सुनने की में उम्मीद रखती हूँ।

Sweta Kishore

नोट – यह समाचार किसी भी हालत में चिकित्सकीय परामर्श नहीं है। यह समाचारों में उपलब्ध सामग्री के अध्ययन के आधार पर जागरूकता के उद्देश्य से तैयार की गई अव्यावसायिक रिपोर्ट मात्र है। आप इस समाचार के आधार पर कोई निर्णय कतई नहीं ले सकते। स्वयं डॉक्टर न बनें किसी योग्य चिकित्सक से सलाह लें।) 

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

Rajeev Yadav

गुंडा नियंत्रण (संशोधन) विधेयक और सम्पत्ति विरूपण निवारण विधेयक : सरकारी गुंडागर्दी का नया आधार- रिहाई मंच

गुंडा नियंत्रण (संशोधन) विधेयक और सम्पत्ति विरूपण निवारण विधेयक : विरोधियों (लोकतांत्रिक आवाजों) के दमन …

Leave a Reply