Home » समाचार » देश » 69 दिन बाद खोला गया नोएडा से कालिंदी कुंज का रास्ता, पुलिस ने हटाई बैरिकेडिंग
Breaking news

69 दिन बाद खोला गया नोएडा से कालिंदी कुंज का रास्ता, पुलिस ने हटाई बैरिकेडिंग

69 days later, the road from Noida to Kalindi Kunj was opened, the police removed the barricades

शाहीन बाग : नोएडा से दिल्‍ली तक कौन-कौन से रास्‍ते खुले, मैप के जरिए आसानी से समझें

नई दिन 21 फरवरी 2020. नोएडा से कालिंदी कुंज का रास्ता 69 दिन बाद खोल दिया गया है।

निजी समाचार चैनल टीवी9 भारतवर्ष की खबर के मुताबिक उत्‍तर प्रदेश पुलिस ने नोएडा से दिल्‍ली के कालिंदी कुंज जाने वाली रोड खोल दी है। शुक्रवार (21 फरवरी) को पुलिस ने यहां से बैरिकेडिंग हटवा दी है। शाहीन बाग में जारी सीएए विरोधी प्रोटेस्‍ट के चलते यह सड़क पिछले 69 दिन से बंद थी।

शाहीन बाग के प्रदर्शनकारी लगातार यह बात कहते रहे हैं कि रास्ता पुलिस ने बंद किया हुआ है।

खबर के मुताबिक धरने के चलते नोएडा से कालिंदी कुंज की ओर यमुना पुल से आने वाले ट्रैफिक को रोक दिया गया था, ताकि दिल्ली के सरिता विहार, मथुरा रोड और शाहीन बाग के आसपास के इलाकों में ट्रैफिक मूवमेंट न गड़बड़ाए।

आप हस्तक्षेप के पुराने पाठक हैं। हम जानते हैं आप जैसे लोगों की वजह से दूसरी दुनिया संभव है। बहुत सी लड़ाइयाँ जीती जानी हैं, लेकिन हम उन्हें एक साथ लड़ेंगे — हम सब। Hastakshep.com आपका सामान्य समाचार आउटलेट नहीं है। हम क्लिक पर जीवित नहीं रहते हैं। हम विज्ञापन में डॉलर नहीं चाहते हैं। हम चाहते हैं कि दुनिया एक बेहतर जगह बने। लेकिन हम इसे अकेले नहीं कर सकते। हमें आपकी आवश्यकता है। यदि आप आज मदद कर सकते हैं – क्योंकि हर आकार का हर उपहार मायने रखता है – कृपया। आपके समर्थन के बिना हम अस्तित्व में नहीं होंगे। Paytm – 9312873760 Donate online – https://www.payumoney.com/paybypayumoney/#/6EBED60B33ADC3D2BC1E1EB42C223F29

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

akhilesh yadav farsa

पूंजीवाद में बदल गया है अखिलेश यादव का समाजवाद

Akhilesh Yadav’s socialism has turned into capitalism नई दिल्ली, 27 मई 2022. भारतीय सोशलिस्ट मंच …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.