सामने आया कोरोनावायरस का नया रूप, पहले से काफी ज्यादा है खतरनाक, डब्ल्यूएचओ भी आया हरकत में

कोरोनावायरस का नया वैरिएंट 'नियंत्रण से बाहर' है। यह खबर आते ही सऊदी अरब और कई यूरोपीय देशों- इटली, बेल्जियम, फ्रांस और नीदरलैंड ने यूके की फ्लाइट्स पर प्रतिबंध लगा दिया।

A new form of coronavirus has surfaced, much more dangerous than before, WHO also came into action

ब्रिटेन में कोविड के नए वैरिएंट की उत्पत्ति को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय की बैठक

Corona virus In India

नई दिल्ली, 21 दिसंबर 2020. भारत के केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय (Union Ministry of Health of India) ने ब्रिटेन में मिले कोरोनावायरस के नए वैरिएंट की उत्पत्ति (Origin of new variant of Coronavirus found in Britain) पर चर्चा करने के लिए सोमवार को अपने शीर्ष सलाहकारों की एक आपात बैठक बुलाई है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कोविड-19 वायरस के इस नए प्रकार के दक्षिण-पूर्व इंग्लैंड और लंदन में मामलों में भारी वृद्धि देखी गई है।

संयुक्त निगरानी समूह की अध्यक्षता स्वास्थ्य सेवा महानिदेशक करेंगे। इस आपातकालीन बैठक में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स), भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर), विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के प्रतिनिधि और अन्य लोग हिस्सा लेंगे।

बता दें कि 19 दिसंबर को ब्रिटिश प्रधान मंत्री बोरिस जॉनसन ने घोषणा की थी कि वायरस के नये वैरिएंट के फैलने की क्षमता 70 प्रतिशत ज्यादा हो सकती है। उनके स्वास्थ्य सचिव मैट हैनकॉक ने कहा कि नया वैरिएंट ‘नियंत्रण से बाहर’ है।

यह खबर आते ही सऊदी अरब और कई यूरोपीय देशों- इटली, बेल्जियम, फ्रांस और नीदरलैंड ने यूके से आने और जाने वाली फ्लाइट्स पर प्रतिबंध लगा दिया।

डब्ल्यूएचओ ने शनिवार को ट्वीट किया कि वह

“कोविड-19 वायरस के नए वैरिएंट को लेकर ब्रिटेन के अधिकारियों के साथ निकट संपर्क में है। साथ ही वादा किया कि उसे जितनी जानकारी मिलेगी, वह सरकारों और लोगों को इसकी जानकारी देगा।”

डब्ल्यूएचओ ने कहा इस बीच, वह लोगों को # COVID19 वायरस के प्रसार को रोकने और राष्ट्रीय अधिकारियों के मार्गदर्शन का पालन करने के लिए सभी सुरक्षात्मक उपाय करने की सलाह देता रहेगा।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations