Home » Latest » बंद करो बकवास..,,, बातों से भूख शांत होती नहीं है।
How many countries will settle in one country

बंद करो बकवास..,,, बातों से भूख शांत होती नहीं है।

मज़दूर दिवस  पर सभी मज़दूरों को समर्पित एक रचना।

A poem dedicated to all workers on Labor Day

बंद करो बकवास,

श्रम से चूता पसीना,

मोती नहीं है।

बहुत दिल बहलाये,

क्या पाए ?

पेट की भूख और सूद की संज्ञा,

हमें ख़ूबसूरत नाम नहीं,

खुरदुरी हक़ीक़त चहिये,

सदियों से घटतौले,

पसीने की क़ीमत चाहिए

ख्वाबों से भूख शांत होती नहीं है

बंद करो बकवास,

श्रम….,,,,,

नग्नता का स्वाद हम बहुत चख चुके हैं,

तपेंद्र प्रसाद, लेखक अवकाश प्राप्त आईएएस अधिकारी व पूर्व कैबिनेट मंत्री हैं। वह सम्यक पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं।
तपेंद्र प्रसाद, लेखक अवकाश प्राप्त आईएएस अधिकारी व पूर्व कैबिनेट मंत्री हैं। वह सम्यक पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं।

दरसन संतोष का हम बहुत गुन चुके हैं।

इस सूखी, जर्जर कंकाल मात्र काया को,

अब और रोमांटिक न बनाओ ।

इस पर झूठे तारीफ़ का मुलम्मा न चढ़ाओ,

इससे दधीचि की नहीं, मेरी अपनी बताओ ।

गाओ गाओ गाओ

कुछ मेरे अंदर का भी दर्द गाओ।

हम भी हैं मानव,

हमें मानव बनाओ।

बातों से भूख शांत होती नहीं है।

बंद करो बकवास..,,,

तपेन्द्र प्रसाद

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

ऑल इंडिया पीपुल्स फ्रंट के राष्ट्रीय प्रवक्ता और अवकाशप्राप्त आईपीएस एस आर दारापुरी (National spokesperson of All India People’s Front and retired IPS SR Darapuri)

प्रयागराज का गोहरी दलित हत्याकांड दूसरा खैरलांजी- दारापुरी

दलितों पर अत्याचार की जड़ भूमि प्रश्न को हल करे सरकार- आईपीएफ लखनऊ 28 नवंबर, …