Home » Latest » और बीस साल बाद … मिट ही गई नवाजुद्दीन सिद्दीकी की खुजली, लेकिन …
Director sudhir mishra and Bollywood actor Nawazuddin Siddiqui

और बीस साल बाद … मिट ही गई नवाजुद्दीन सिद्दीकी की खुजली, लेकिन …

What a story! A story of two seriously talented men. #SeriousMen! Coming soon on Netflix India

Nawazuddin Siddiqui new movie online | नवाजुद्दीन सिद्दीकी न्यू फिल्म | Nawazuddin Siddiqui New Series

नवाजुद्दीन सिद्दीकी संघर्ष कहानी

नई दिल्ली, 04 सितंबर 2020. नवाजुद्दीन सिद्दीकी का शुमार वर्तमान दौर के सफल बॉलीवुड अभिनेताओं में होता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि नवाजुद्दीन सिद्दीकी 20 साल तक एक खुजली से पीड़ित रहे हैं और उनकी यह खुजली मिटी जरूर है, लेकिन बड़े पर्दे पर नहीं, नेटफ्लिक्स पर। पढ़िए खुद नवाजुद्दीन सिद्दीकी की खुजली (Nawazuddin Siddiqui’s itching) के बारे में, जो उन्होंने ट्विटर पर शेयर की है –

“सन 2000 में फिल्म CALCUTTA MAIL की शूटिंग के दौरान, आखिरकार एक Assistant Director ने वादा किया कि वो मुझे उस फिल्म के डायरेक्टर सुधीर मिश्रा से मिलवा देगा। उसने मुझसे कहा था कि “सेट पर आ जाना, लेकिन पास में तभी आना जब मैं हाथ उठाऊंगा।”

वादे के मुताबिक मैं सेट पर पहुंच गया, और दूर CROWD में खड़ा इस इंतजार में कि कब वो Assistant हाथ उठाए और मैं धमक पड़ूँ, मिश्रा जी से मिलने।

करीब एक घंटे बाद उसने हाठ उठाया और मैं CROWD को चीरता हुआ ASSISTANT की कुर्सी तक जा पहुंचा, पास में मिश्रा जी भी बैठे थे। ASSISTANT की नज़र मुझपे पड़ी, उसने पूछा, “क्या है?” मैंने कहा “हाथ उठाया था आपने तो मैं आ गया,” उसने कहा, “अबे मैंने खुजलाने के लिए हाथ उठाया था, जा वापस जा और जब मैं हाथ उठाऊंगा, तभी आना।”

मैं फिर CROWD में चला गया।

लेकिन इस बार मैं पैनी नज़रें गढ़ाए हुए था कि हाथ खुजाने के लिए उठाएगा या बुलाने के लिए।

काफी देर इंतजार किया, लेकिन ना तो उसका हाथ उठा, ना ही उसको खुजली हुई।

खैर वो सब शूटिंग में BUSY हो गए और मैं हर रोज़ की तरह Mumbai की भीड़ में, इस सपने के साथ कि ASSISTANT ने तो हाथ उठाकर अपनी वखुजली मिटा ली, लेकिन मेरी सुधीर मिश्रा के साथ काम करने की खुजली कब मिटेगी ?

वो मिटी 20 साल बाद…

#SeriousMen”

 

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

Opinion, Mudda, Apki ray, आपकी राय, मुद्दा, विचार

कीचड़ को कीचड़ से साफ नहीं किया जा सकता

जो वोट बटोरने के लिए हमारे समाज में नफरत (Hate in society) फैला रहे हैं, …

Leave a Reply