Home » Latest » आत्मनिर्भर भारत में अच्छे दिन : कैंसर ग्रस्त गैस पीड़ितों का इलाज नहीं करेंगे अस्पताल,
Health News

आत्मनिर्भर भारत में अच्छे दिन : कैंसर ग्रस्त गैस पीड़ितों का इलाज नहीं करेंगे अस्पताल,

Achchhe Din in self-reliant India: Hospitals will not treat cancer victims in Bhopal

भोपाल समाचार : वरिष्ठ पत्रकार एल एस हरदेनिया की मांग, कैंसर ग्रस्त गैस पीड़ितों का इलाज हर हालत में जारी रहे

भोपाल, 24 जनवरी 2021. वरिष्ठ पत्रकार एल एस हरदेनिया ने बताया है कि ‘टाईम्स ऑफ इंडिया‘ में  यह समाचार छपा है कि भोपाल के कैंसर का इलाज करने वाले अस्पताल इस रोग से ग्रस्त गैस पीड़ितों का इलाज शीघ्र बंद करने वाले हैं। इन गैस पीड़ितों के इलाज का खर्च सरकार वहन करती है।

श्री हरदेनिया के मुताबिक समाचार में यह बताया गया है कि सरकार ने लंबे समय से इन अस्पतालों द्वारा किए गए व्यय का भुगतान नहीं किया है। बताया गया है कि अकेले जवाहरलाल नेहरू अस्पताल को 28 करोड़ रूपये देना है।

वरिष्ठ पत्रकार ने कहा कि उनकी राय है कि सरकार की आर्थिक स्थिति कितनी ही खस्ता क्यों न हो इन कैंसर पीड़ितों का इलाज एक क्षण के लिए भी रूकना नहीं चाहिए। गैस पीड़ितों की स्थिति वैसे भी अत्यधिक गंभीर है। इस पर यदि वे कैंसर पीड़ित हैं तो उनकी पीड़ा की सिर्फ कल्पना ही की जा सकती है।

श्री हरदेनिया के कहा,

“मैं अपनी ओर से और जिन संगठनों से मैं जुड़ा हुआ हूं, उनकी ओर से शासन से अपील करता हूं कि इन अस्पतालों को देय रकम का तुरंत भुगतान किया जाए ताकि कैंसर ग्रस्त गैस पीड़ितों का इलाज जारी रहे।“

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

Rajeev Yadav

गुंडा नियंत्रण (संशोधन) विधेयक और सम्पत्ति विरूपण निवारण विधेयक : सरकारी गुंडागर्दी का नया आधार- रिहाई मंच

गुंडा नियंत्रण (संशोधन) विधेयक और सम्पत्ति विरूपण निवारण विधेयक : विरोधियों (लोकतांत्रिक आवाजों) के दमन …

Leave a Reply