जस्टिस काटजू ने लताड़ा, कथित ‘दंगाइयों ’की संपत्ति जप्त करना अवैध, सुप्रीम कोर्ट रोक लगाए नहीं तो आ जाएगा भारत में नाजी युग

Justice Markandey Katju

Action of UP authorities against anti CAA agitators is illegal : Justice Markandey Katju

नई दिल्ली, 27 दिसंबर 2019. उत्तर प्रदेश में सीएए विरोधी आंदोलनके दौरान कथित हिंसा पर कथित दंगाइयों की संपत्ति जप्त करने के यूपी सरकार के आदेश की खबरों पर सर्वोच्च न्यायालय के अवकाश प्राप्त न्यायाधीश जस्टिस मार्कण्डेय काटजू ने यूपी की योगी सरकार को लताड़ लगाते हुए कहा है कि उसका यह कृत्य अवैध है और सर्वोच्च न्यायालय को इसका संज्ञान लेकर इस पर रोक लगानी चाहिए अन्यथा वह दिन दूर नहीं जब भारत नाजीवाद की चपेट में  जाएगा।

जस्टिस काटजू ने अपने सत्यापित फेसबुक पेज पर लिखा कि भारतीय दंड संहिता की धारा 147 में कहा गया है कि जो कोई भी दंगा करने का दोषी है, उसे या तो दो साल के कारावास से दंडित किया जाएगा या कारावास व जुर्माना दोनों के साथ हो सकता है।

उन्होंने कहा कि कथित दंगाइयों की संपत्ति को तत्काल सील करने या जब्त करने का कोई कानूनी प्रावधान नहीं है और वह भी बिना किसी मुकदमे के जिसमें अभियुक्तों को आपराधिक प्रक्रिया कोड के प्रावधानों के अनुसार वकील की सहायता से अपना बचाव करने का अवसर मिलता है। इसलिए, जबकि मुझे उन लोगों के साथ कोई सहानुभूति नहीं है, जिन्होंने हाल ही में यूपी के शहरों में नागरिकता संशोधन अधिनियम के खिलाफ आंदोलन में संपत्ति को नुकसान (Damage to property in agitation against Citizenship Amendment Act) पहुंचाया और क्षतिग्रस्त किया, मेरी राय में यूपी अधिकारियों की कार्रवाई पूरी तरह से अवैध है।

जस्टिस काटजू ने लिखा कि बताया गया है कि मुजफ्फरनगर जिले में कथित ‘दंगाइयों ’की 50 दुकानें सील कर दी गई हैं। यह कार्रवाई पूरी तरह से अवैध है क्योंकि अभियुक्तों के विरुद्ध कोई भी मुकदमा नहीं चलाया गया था, और ऐसा करने के लिए अदालत का कोई आदेश नहीं है। ऐसा लगता है कि यूपी के कार्यकारी प्राधिकारी स्वयं कानून निर्माता बन गए हैं।

उन्होंने कहा कि यह घटना मार्च 1933 के जर्मन रीचस्टैग (जर्मन संसद) द्वारा पारित सक्षम अधिनियम की याद दिलाता है, जिसने हिटलर सरकार को रीचस्टैग के अनुमोदन के बिना कानून बनाने के अधिकार दे दिए।

जस्टिस काटजू ने चेताया कि यदि यह गैर-कानूनी चलन, जो भारत में अभी रेंग रहा है, पर भारतीय न्यायपालिका द्वारा रोक नहीं लगाई जाती है, तो नाजी युग जल्द ही भारत में भी आ रहा है। लेकिन दुर्भाग्य से भारतीय सर्वोच्च न्यायालय ने संविधान के संरक्षक और लोगों के मौलिक अधिकारों के रूप में काम करने के बजाय, हाल ही में भीष्म पितामह की तरह व्यवहार किया है जिन्होंने द्रौपदी के सार्वजनिक रूप से छीन लिए जाने पर अपनी आँखें बंद कर ली थीं, जैसा कि इसके घृणित अयोध्या फैसले, न्यायमूर्ति कुरैशी के साथ शर्मनाक व्यवहार, कश्मीरी लोगों के लोकतांत्रिक अधिकारों की रक्षा करने से इनकार, और भीमा कोरेगांव के आरोपियों के खिलाफ आपराधिक कार्यवाही को रोकने के लिए ब्रैंडनबर्ग परीक्षण को लागू करने से इनकार करने में देखा जा सकता है।

कौन हैं मार्कंडेय काटजू?

अपने ऐतिहासिक फैसलों के लिए प्रसिद्ध रहे जस्टिस मार्कंडेय काटजू 2011 में सुप्रीम कोर्ट से सेवानिवृत्त हुए उसके बाद वह प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया के चेयरमैन रहे। आजकल वह अमेरिका प्रवास पर कैलीफोर्निया में समय व्यतीत कर रहे हैं और सोशल मीडिया पर खासे सक्रिय हैं और भारत की समस्याओं पर खुलकर अपने विचार व्यक्त कर रहे हैं।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations