भाजपा नेताओं को अधीर रंजन ने ‘फर्जी हिंदू’ कहा, “सरकार गोलियों के माध्यम से आम जनता की आवाज को दबा नहीं सकती”

Adhir Ranjan called BJP leaders ‘fake Hindus’

नई दिल्ली, 3 फरवरी 2020. लोकसभा में कांग्रेस संसदीय दल के नेता अधीर रंजन चौधरी (Adhir Ranjan Chowdhury, leader of Congress Parliamentary Party in Lok Sabha) ने आज सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर निशाना साधते हुए भाजपा नेताओं को ‘फर्जी हिंदू‘ करार दिया और आरोप लगाया कि “सरकार गोलियों के माध्यम से आम जनता की आवाज दबाने का प्रयत्न कर रही है।”

Comment against the Citizenship Amendment Act (CAA)

नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के विरोध में यह टिप्पणी करते हुए चौधरी ने कहा कि कानून बनने के बाद से इसके चलते 9 दिसंबर, 2019 से पूरे भारत में व्यापक हिंसक प्रदर्शन शुरू हो गए हैं।

विवादास्पद अधिनियम से संबंधित विधेयक को शीतकालीन सत्र के दौरान लोकसभा में पारित किया गया था।

केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर के हालिया बयान ‘गोली मारो गद्दारों को‘ का हवाला देते हुए उन्होंने कहा,

सरकार गोलियों के माध्यम से आम जनता की आवाज को दबा नहीं सकती है।”

दिल्ली में आठ फरवरी को विधानसभा चुनाव के लिए मतदान होना है। चुनाव के मद्देनजर भाजपा की रैली में ठाकुर के इस बयान पर काफी बवाल मचा था और यह संबोधन सोशल मीडिया पर वायरल हुआ, जिसके बाद चुनाव आयोग ने राष्ट्रीय राजधानी में प्रचार करने को लेकर केंद्रीय मंत्री पर कुछ समय के लिए प्रतिबंध लगा दिया।

चौधरी ने शून्यकाल के दौरान इस मुद्दे पर चर्चा की मांग की और सरकार से सीएए पर पुनर्विचार करने को कहा।

चौधरी ने कहा,

“जब से नागरिकता संशोधन कानून लागू हुआ है, तब से लोग संविधान को बचाने के लिए प्रदर्शन कर रहे हैं। आम लोगों पर गोलिया चलाई जा रही हैं और वे मर रहे हैं। सरकार गोलियों के माध्यम से आम जनता की आवाज को दबाने का प्रयत्न कर रही है। वह (भाजपा) ऐसा नहीं कर सकती है। वे फर्जी हिंदू हैं।”

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने बीच में हस्तक्षेप कर कहा कि सीएए पर शीतकालीन सत्र में देर रात तक चर्चा आयोजित की गई थी।

इस बीच, संसदीय कार्य मंत्री प्रहलाद जोशी ने कहा कि राष्ट्रपति के अभिभाषण के धन्यवाद प्रस्ताव के बाद कांग्रेस इस मुद्दे को उठा सकती है।

उन्होंने कहा,

“मैं स्पीकर के माध्यम से आपसे अपील कर रहा हूं कि सदन को अपनी कार्यवाही जारी रखने दें।”

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations