Home » Latest » देश भर में थाली पिटवाने, ताली बजवाने के बाद मोदी बोले लॉकडाउन को अभी भी कई लोग गंभीरता से नहीं ले रहे हैं
PM Modi Speech On Coronavirus

देश भर में थाली पिटवाने, ताली बजवाने के बाद मोदी बोले लॉकडाउन को अभी भी कई लोग गंभीरता से नहीं ले रहे हैं

After beating the plate, clapping all over the country, Modi said that many people are still not taking the lockdown seriously.

नई दिल्ली, 23 मार्च 2020. जनता कर्फ्यू का आह्वान करने के बाद थाली पीटने और ताली बजाने का आव्हान कर पहले तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसे अपनी अति विराट उपलब्धि मान रहे थे, लेकिन कल जिस तरह देश भर में लोगों ने थाली पीटकर और इकट्ठे होकर जनता कर्फ्यू का मजाक बना डाला, उससे शायद प्रधानमंत्री को अपनी गलती का एहसास हो गया है, इसी लिए उन्होंने कहा है कि लॉकडाउन को अभी भी कई लोग गंभीरता से नहीं ले रहे हैं।

आज प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया,

“लॉकडाउन को अभी भी कई लोग गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। कृपया करके अपने आप को बचाएं, अपने परिवार को बचाएं, निर्देशों का गंभीरता से पालन करें। राज्य सरकारों से मेरा अनुरोध है कि वो नियमों और कानूनों का पालन करवाएं।“

 

मोदीजी ! जुमले नहीं बल्कि प्रबन्ध और संसाधन चाहिए.

ये मूर्खता का स्वर्णिम काल है। थाली पिटवाने और शंख बजवाने के लिए बिग थैंक्यू मोदी जी !

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

पलाश विश्वास जन्म 18 मई 1958 एम ए अंग्रेजी साहित्य, डीएसबी कालेज नैनीताल, कुमाऊं विश्वविद्यालय दैनिक आवाज, प्रभात खबर, अमर उजाला, जागरण के बाद जनसत्ता में 1991 से 2016 तक सम्पादकीय में सेवारत रहने के उपरांत रिटायर होकर उत्तराखण्ड के उधमसिंह नगर में अपने गांव में बस गए और फिलहाल मासिक साहित्यिक पत्रिका प्रेरणा अंशु के कार्यकारी संपादक। उपन्यास अमेरिका से सावधान कहानी संग्रह- अंडे सेंते लोग, ईश्वर की गलती। सम्पादन- अनसुनी आवाज - मास्टर प्रताप सिंह चाहे तो परिचय में यह भी जोड़ सकते हैं- फीचर फिल्मों वसीयत और इमेजिनरी लाइन के लिए संवाद लेखन मणिपुर डायरी और लालगढ़ डायरी हिन्दी के अलावा अंग्रेजी औऱ बंगला में भी नियमित लेखन अंग्रेजी में विश्वभर के अखबारों में लेख प्रकाशित। 2003 से तीनों भाषाओं में ब्लॉग

नरभक्षियों के महाभोज का चरमोत्कर्ष है यह

पलाश विश्वास वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं। आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की …