इलाहाबाद विवि को छात्राओं से लगता है डर, जारी किए निर्देश छात्राएं प्रदर्शनों में न हों शामिल

इलाहाबाद विवि को छात्राओं से लगता है डर, जारी किए निर्देश छात्राएं प्रदर्शनों में न हों शामिल

Allahabad University directed, girls should not be involved in demonstrations

इलाहाबाद/नई दिल्ली, 15 दिसंबर 2019. पूरब का ऑक्सफोर्ड कहे जाने वाले उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद विश्वविद्यालय (Allahabad University of Uttar Pradesh, called Oxford of the East) ने एक परिपत्र (सर्कुलर) जारी कर छात्रावास में रहने वाली छात्राओं से किसी धरना-प्रदर्शन में शामिल न होने का निर्देश दिया है। सर्कुलर कुलानुशासक और परिसर प्रभारी (महिला छात्रावास) डॉ. सरोज यादव ने 13 दिसंबर को जारी किया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सर्कुलर में कहा गया है,

“छात्रावास में रहने वाली सभी छात्राओं से अपेक्षा की जाती है कि वे अपनी सुरक्षा की दृष्टि से छात्रावास के नियमों का दृढ़ता से अनुपाल करेंगी। छात्राओं के लिए छात्रावास में प्रवेश और बाहर निकलने का समय दर्ज कर अपना हस्ताक्षर करना अनिवार्य है। अगर आपको परिसर में कोई अनुशासन का उल्लंघन करता या संदिग्ध गतिविधि में संलिप्त दिखाई दे तो इसकी सूचना परिसर प्रभारी को दें। बिना अनुमति किसी धरना या प्रदर्शन में भाग लेना प्रतिबंधित है।”

मीडिया रिपोर्ट्स में सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि विश्वविद्यालय ने यह सर्कुलर देश के कई हिस्सों में नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन के मद्देनजर जारी किया है।

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner