Home » Latest » किसान आंदोलन से जुड़े लोगों पर एनआईए की कार्रवाई पर अमरिंदर सिंह ने पूछा- क्या ये किसान अलगाववादी और आतंकवादी दिखते हैं?
Punjab Chief Minister Captain Amarinder Singh. (File Photo: IANS)

किसान आंदोलन से जुड़े लोगों पर एनआईए की कार्रवाई पर अमरिंदर सिंह ने पूछा- क्या ये किसान अलगाववादी और आतंकवादी दिखते हैं?

किसान आंदोलन से जुड़े लोगों पर एनआईए की कार्रवाई पर अमरिंदर सिंह ने केंद्र पर साधा निशाना

नई दिल्ली, 18 जनवरी 2021. किसान आंदोलन से जुड़े लोगों पर एनआईए की कार्रवाई की निंदा करते हुए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह (Punjab Chief Minister Captain Amarinder Singh) ने कहा है कि इस तरह की रणनीति अपने अधिकारों और भविष्य के लिए लड़ रहे किसानों के संकल्प को कमजोर नहीं कर सकती।

Amarinder Singh targeted the centre on NIA’s action against those associated with the peasant movement

श्री सिंह ने कहा, “क्या ये किसान अलगाववादी और आतंकवादी दिखते हैं?”

पंजाब के मुख्यमंत्री ने राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की कार्रवाई पर केंद्र में भाजपा की अगुवाई वाली सरकार की जमकर आलोचना की। उन्होंने इसे किसानों की शांतिपूर्ण लड़ाई को शांत करने के लिए हताशा में तौर पर उठाया गया कदम करार दिया। सिंह ने कहा कि सरकार ने निंदनीय और दमनकारी रणनीति का सहारा लिया है।

इसके साथ ही सिंह ने यह भी कहा कि हालांकि ये उपाय किसानों के संकल्प को नष्ट करने में सफल नहीं होंगे।

अमरिंदर सिंह ने चेतावनी दी कि अगर हालात बेकाबू हो गए तो भाजपा नेतृत्व स्थिति को नियंत्रित नहीं कर पाएगा।

अमरिंदर सिंह ने कहा कि पंजाबी स्वभाव से फाइटर होते हैं। उन्होंने पंजाबियों को दुनिया के सर्वश्रेष्ठ योद्धाओं में शुमार करते हुए कहा कि केंद्र की इस तरह हरकतें केवल पंजाब के किसानों को नकारात्मक प्रतिक्रिया देने के लिए उकसाएंगी।

पंजाब के मुख्यमंत्री ने कहा कि निम्न स्तर की कार्रवाइयों से किसानों या उन लाखों भारतीयों की आवाज नहीं दबेगी, जो जीवित रहने की लड़ाई में ‘अन्नदाता’ का समर्थन कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ने अपनी मांग दोहराते हुए कहा कि केंद्र सरकार को तुरंत कृषि कानूनों को वापस लेना चाहिए।

बता दें इससे पूर्व सुप्रीम कोर्ट के अवकाशप्राप्त न्यायाधीश जस्टिस मार्कंडेय काटजू एनआईए को पिंजरे में बंद दूसरा तोता बता चुके हैं।

यह भी पढ़ें –Notice by NIA to people associated with farmers movement, Justice Katju says clearly illegal and mala fide.

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

noor

न झुकने और न रुकने की बात ‘नूर’ में

फ़िल्म रिव्यू – न झुकने और न रुकने की बात ‘नूर‘ में फ़िल्म – नूर …

Leave a Reply