Home » Latest » जानिए छिपकलियों के बारे में रोचक तथ्य
Amazing Facts About Lizards In Hindi

जानिए छिपकलियों के बारे में रोचक तथ्य

Amazing Facts About Lizards In Hindi

पूरी दुनिया में छिपकलियों की 6,000 से अधिक प्रजातियाँ पाई जाती हैं। छिपकलियाँ अन्टार्कटिका को छोड़कर सभी महाद्वीपों में पाई जाती हैं। ये गैको जैसी कुछ सेंटीमीटर की छिपकलियों से लेकर लगभग 10 फीट लम्बी विशालकाय कोमोडो ड्रैगन छिपकलियाँ होती हैं। ये शाकाहारी, मांसाहारी और सर्वाहारी सभी प्रकार की होती हैं। इनमें सामान्यता 4 पैर और बाहरी कान पाए जाते हैं।

प्रस्तुत है दुनिया की कुछ बहुत अलग खूबियों वाली छिपकलियों के बारे में रोचक जानकारी (Interesting information about lizards with some very different characteristics of the world)।

veiled chameleon
Photo by Egor Kamelev on Pexels.com

छिपकली का वर्गीकरण | lizards classification

अमेरिका में पाई जाने वाली हीलोडर्मा छिपकली | Heloderma lizard found in America | Is heloderma poisonous?

यह अमेरिका में पाई जाती हैं। दुनिया की सभी छिपकली प्रजातियों में से केवल हीलोड़र्मा नामक छिपकली ही जहरीली होती हैं। इसे बेडेड लीजार्ड या गीला मोनेस्टर (Gila monster) भी कहते हैं।

closeup photography of chameleon
Photo by Nandhu Kumar on Pexels.com

कैम्लियोन

इसे सामान्य भाषा में गिरगिट (chameleon in hindi) भी कहते हैं। इनकी बहुत सी प्रजातियों में रंग बदलने की क्षमता पाई जाती हैं। ये शिकार के नजदीक जाकर अपनी लचीली और चिपचिपी जीभ से उस पर वार करते हैं। इनकी जीभ बहुत तेजी से निकलकर वापस मुँह में आ जाती हैं। इनकी जीभ की रफ्तार लगभग 20 फीट प्रति सेकण्ड होती हैं।

अमेरिका में पाई जाने वाली पानी पर दौड़ने वाली छिपकली सामान्य बेसिलिस्क | american water lizard common basilisk in hindi | Is a basilisk a snake or Lizard ?

सामान्य बेसिलिस्क अमेरिका में पाई जाती हैं। यह पानी पर दौड़ने की अपनी काबिलियत (basilisk lizard runs across water) के लिए पूरे विश्व में मशहूर हैं। यह पानी पर 8.4 किलोमीटर प्रति घंटे की तेज रफ्तार से दौड़ती हैं जिसके कारण यह पानी में डूबती नही हैं। यह बहुत हल्की होती हैं जिसके कारण इसे पानी पर दौड़ने में कोई परेशानी नही होती हैं।

selective focus photography of chameleon
Photo by Egor Kamelev on Pexels.com

Frilled-neck lizard (फ्रिल्ड नैक लिज़र्ड)  (Chlamydosaurus kingii)

फ्रिल्ड नैक लिज़र्ड ऑस्ट्रेलिया और न्यू गिनी के टापुओं पर पाई जाती हैं। इसे मोनेस्टर लिज़र्ड (monster lizard in hindi) भी कहते हैं। इसके गर्दन के चारों ओर झालरनुमा संरचना पाई जाती हैं। छेड़े जाने पर यह अपनी झालर को फुला लेती हैं और छोटे शत्रुओं की ओर तेजी से भागती हैं जिससे यह बड़ी और डरावनी लगती हैं।

पालतू छिपकली हरी इगुआना | The green iguana (Iguana iguana), also known as the American iguana or the common green iguana.

यह उत्तरी और दक्षिणी अमेरिका महादीपों में पाई जाती हैं। यह अपने शांत और उज्ज्वल स्वभाव के कारण पालतू रूप में भी पाली जाती हैं। यह लगभग 5 से। फीट तक लम्बी हो सकती हैं। यह लगभग 20 वर्षों तक जीवित रह सकती हैं। इसे अमेरिकन इगुआना के नाम से भी जाना जाता हैं।

दुर्लभ कोमोडो ड्रैगन – सबसे बड़ी छिपकली

कोमोडो ड्रैगन (Komodo dragon) पर्यावरणीय रूप से भी बहुत ही महत्वपूर्ण और दुर्लभ हैं। क्योंकि यह केवल इंडोनेशिया के द्वीप समूहों पर ही पाई जाती हैं। यह जीवित छिपकलियों में से सबसे बड़ी छिपकली प्रजाति हैं। इनकी लम्बाई 3 मीटर या इससे भी अधिक हो सकती हैं। यह जहरीली नहीं होती। लेकिन इनकी लार में अनेक प्रकार के वायरस और जीवाणु पाये जाते हैं। जिसके कारण इसके काटने से मृत्यु का खतरा बना रहता है।

काँच छिपकली

इसे सामान्यता काँच छिपकली (Glass lizards) कहते हैं क्योंकि इसकी त्वचा बहुत ही चिकनी और मुलायम होती हैं। यह दुनिया के अधिकतर हिस्सों में पाई जाती हैं। खतरा महसूस होने पर यह अपनी पूँछ को तोड़कर वहाँ से भाग जाती हैं जिससे यह शिकारी जीवों से बच जाती हैं। यह 4 फीट तक लम्बी हो सकती हैं।

गैको

गैको नामक छिपकली मुलायम से मुलायम दीवार या काँच पर चढ़ सकती हैं। यह छिपकली अधिक बड़ी नही होती हैं। ये 1 इंच से भी कम लम्बाई की हो सकती हैं। यह दुनिया की सबसे छोटी छिपकलियों में से एक हैं। यह बहुत से रंगों में पाई जाती हैं। कम रोशनी में इनके रंग को देखने की क्षमता मनुष्य की तुलना में 350 गुना अच्छी होती हैं।

(स्रोत – देशबन्धु)

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

Pt. Jawahar Lal Nehru

पंडित नेहरू और शेख अब्दुल्ला के कारण ही कश्मीर बन सका भारत का हिस्सा

Kashmir became a part of India only because of Pandit Nehru and Sheikh Abdullah भारतीय …

Leave a Reply