देश की दूसरी आजादी के लिए काले अंग्रेजों से लड़ना होगा, बाराबंकी में सीएए विरोधी आंदोलन

बाराबंकी, 19 दिसंबर 2019. भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के राज्य परिषद सदस्य रणधीर सिंह सुमन ने कहा है कि देश व प्रदेश में अघोषित आपात काल चल रहा है प्रशासनिक तंत्र भाजपा कार्यकर्ता के रूप में काम कर रहा है। धारा-144 सीआरपीसी नाम पर काले कानूनों का विरोध करने वालों का दमन किया जा रहा है।

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी द्वारा एनआरसी व सीएबी जैसे काले कानूनों के विरोध में आयोजित धरने को सम्बोंधित करते हुए भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के राज्य परिषद सदस्य रणधीर सिंह सुमन ने कहा कि मोदी और अमित शाह को देश के नागरिकों की चिंता नहीं है लेकिन अपने मौसेरे भाई पाकिस्तान के नागरिकों की सबसे ज्यादा चिंता है।

धरनासभा को सम्बोधित करते हुए पार्टी के जिला सहसचिव डॉ. कौसर हुसैन ने कहा कि आजादी की पहली लड़ाई गोरे अंग्रेजो से लड़ी गयी थी और अब देश की दूसरी आजादी की लड़ाई काले अंग्रेजों से लड़नी पड़ेगी।

पार्टी के जिला सहसचिव शिवदर्शन वर्मा ने कहा कि पहले अंग्रेज काले कानूनों का निर्माण कर मजदूरों और किसानों को जेलों में निरूद्ध करते थे और अब यहाँ हिटलरी अन्दाज में देश को चलाने की कोशिश की जा रही है। 10 दिसम्बर से किसान आवारा पशुओं के खिलाफ क्रमिक भूंख हड़ताल पर थे और प्रशासन के कानो पर जूँ नहीं रेंग रही है।

पार्टी के जिला सचिव वृजमोहन वर्मा ने कहा कि एनआरसी व सीएबी कानून का कम्युनिस्ट पार्टी आखरी दमतक विरोध करेगी और इस कानून की रंगाबिल्ला की जोड़ी को वापस लेना पड़ेगा।

धरना कर्मियों को प्रवीन कुमार, विनय कुमार सिंह, भुनेश्वर, रमेश वर्मा, राम दुलारे यादव, दीपक पटेल आदि कम्युनिस्ट नेताओं ने भी सम्बोधित किया।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations