Home » Latest » आरोग्य सेतु एप लोगों की निजता पर हमला, सोशलिस्ट पार्टी इंडिया की मांग इस ऐप को तत्काल वापस ले सरकार
Socialist Party of India

आरोग्य सेतु एप लोगों की निजता पर हमला, सोशलिस्ट पार्टी इंडिया की मांग इस ऐप को तत्काल वापस ले सरकार

Arogya Sethu app attacked the privacy of people, demand of Socialist Party India to immediately withdraw this app government

इंदौर 04 मई 2020. सोशलिस्ट पार्टी इंडिया की मध्यप्रदेश इकाई के अध्यक्ष रामस्वरूप मंत्री एवं महासचिव दिनेश सिंह कुशवाह ने कहा है कि केंद्र सरकार ने Covid19 प्रचार-प्रसार की पृष्ठभूमि में केंद्र सरकार ने जो संपर्क ट्रेसिंग ऐप पेश किया है, वह नागरिकों की गोपनीयता को प्रभावित करता है, उसे तत्काल वापस लिया जाए।

श्री मंत्री ने कहा कि यह ऐप उपयोगकर्ता ब्लू टूथ के स्थान का उपयोग करके काम करता है। इस एप के जरिए नागरिक को हमेशा निगरानी में रखा जाता है। इस ऐप का खतरा यह है कि यह निजी हस्तक्षेप सहित नागरिक की किसी भी गतिविधि का उपयोग करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। यह ऐप केंद्र सरकार के साथ हर उस व्यक्ति का डेटा साझा करता है जिसने इसे अपने मोबाइल में डाउनलोड किया है।Socialist Party of India

आपने बताया कि  आरोग्य सेतू एप के माध्यम से व्यक्तिगत डेटा जैसे नाम, लिंग, आयु, व्यवसाय, जिन स्थानों पर यात्रा की गई है, उनका विवरण आदि पंजीकरण के लिए प्रदान किया जाता है। जो कि यह व्यक्ति का निजी और व्यक्तिगत मामला है। इसके अलावा, इस एप में व्यक्ति का स्वास्थ्य इतिहास भी प्रदान किया जाता है। शुरुआत में नागरिक द्वारा स्वेच्छा से उपयोग किए जाने वाले ऐप को बाद में केंद्र सरकार द्वारा सभी के लिए अनिवार्य कर दिया गया था। केंद्र ने यह स्पष्ट कर दिया है कि कंपनी के प्रमुख को जिम्मेदार ठहराया जाएगा यदि उसके सभी कर्मचारी अपने फोन पर इस ऐप का उपयोग नहीं करते पाए जाते हैं।

श्री मंत्री ने कहा कि इसके अलावा, यह एक निजी ऑपरेटर के उच्च डेटा सुरक्षा मुद्दे को प्रभावित करता है, जिससे इस ऐप को स्रोत बनाया जा सके, जिसके माध्यम से नागरिकों को बिना उनकी जानकारी के पता लगाया जा सके।

सोशलिस्ट पार्टी इंडिया की मध्यप्रदेश इकाई के अध्यक्ष रामस्वरूप मंत्री ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर मांग की कि यह ऐप नागरिक की गोपनीयता को कैप्चर और विपणन करता है, और जो नागरिक को पूर्ण निगरानी में रखता है। श्री रामस्वरूप मंत्री ने सरकार से इस एप को तुरंत वापस लिये जाने की मांग की है तथा विभिन्न राजनीतिक, सामाजिक और नागरिक अधिकार संगठनों को इस ऐप के खिलाफ आवाज़ उठाने की अपील की है।

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

Dr. Ram Puniyani - राम पुनियानी

हंसी सबसे अच्छी दवा है : मुनव्वर फारूकी

स्टेंडअप कॉमेडियन मुनव्वर फारूकी (Standup Comedian Munawwar Farooqui) बेंगलुरू में एक परोपकारी संस्था के लिए …