मोदीजी के जन्मदिन पर राष्ट्रीय बेरोजगारी दिवस व जुमला दिवस मना रहे छात्रों पर लाठीचार्ज, गिरफ्तारियां

दमन नहीं रोजगार दे सरकार – युवा मंच

युवा मंच अध्यक्ष अनिल सिंह समेत गिरफ्तार युवाओं की अविलंब हो रिहाई

दमन से युवा आंदोलन रूकने वाला नहीं

Arrests, Lathi charge on students celebrating National Unemployment Day and Jumla Day on Modiji’s birthday

इलाहाबाद,17 सितम्बर 2020, मोदीजी के जन्मदिन के अवसर पर रोजगार बने मौलिक अधिकार नारे पर आयोजित राष्ट्रीय बेरोजगारी दिवस व जुमला दिवस युवा मंच ने पूरे प्रदेश में आयोजित किया. इलाहाबाद, सोनभद्र, चंदौली, शामली, सीतापुर, बांदा, आजमगढ़, जौनपुर, प्रतापगढ़, मिर्जापुर, मऊ, गाजीपुर, लखीमपुर आदि जगहों पर नौजवान बड़ी संख्या में सड़कों पर उतरे.

इलाहाबाद के बालसन चौराहे पर हजारों की संख्या में युवाओं ने युवा मंच के बैनर पर भर्ती में संविदा प्रथा खत्म करने, खाली पदों को भरने, रोजगार को मौलिक अधिकार बनाने, निजीकरण पर रोक लगाने जैसे सवालों को लेकर प्रदर्शन किया. जिस पर योगी सरकार की पुलिस ने बर्बर लाठीचार्ज किया और युवा मंच अध्यक्ष अनिल सिंह, अमरेन्द्र सिंह सहित ग्यारह युवाओं की गिरफ्तार कर लिया.

#राष्ट्रीय_बेरोजगारी_दिवस, #बेरोजगार_दिवस, #rashtriya_berojgar_diwas

आल इंडिया पीपुल्स फ्रंट के राष्ट्रीय प्रवक्ता व पूर्व आईजी एस. आर. दारापुरी, युवा हल्ला बोल के गोविन्द मिश्र, इलाहाबाद विश्वविद्यालय के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष लाल बहादुर सिंह, वर्कर्स फ्रंट के अध्यक्ष दिनकर कपूर,  युवा मंच के संयोजक राजेश सचान ने यह जानकारी देते हुए युवाओं पर हुए लाठीचार्ज व गिरफ्तारी की कड़ी निंदा करते हुए कहा कि मोदी-योगी सरकार को युवाओं पर दमन ढाने की जगह रोजगार के सवाल को हल करना चाहिए.

नेताओं ने सरकार से बिना शर्त अविलंब युवाओं की रिहाई की मांग करते हुए कहा कि वित्तीय पूंजी की सेवा में लगी सरकार ने देश की अर्थव्यवस्था को तबाह कर दिया है. इसलिए किसी भी दमन से युवा आंदोलन रूकने वाला नहीं है. बल्कि यदि सरकार ने रोजगार के सवाल को हल नहीं किया तो यह उसके लिए घातक साबित होगा.

नेताओं ने देश के सभी युवाओं व छात्र युवा संगठनों को रोजगार के सवाल पर सफल युवा आंदोलन के लिए बधाई भी दी.

युवा मंच के आलोक राजभर, नागेश गौतम, रूबी सिंह गोंड़, ज्ञानदास गोंड़, स्नेहा राय, विनोवर शर्मा, सतेंद्र सिंह, अनंत प्रताप सिंह, अंकित पटेल, शिवम तिवारी, प्रभाकर गुप्ता, कृष्ण कुमार दिवाकर, राकेश कुमार, अंकित अकेला, सुनील वर्मा शामिल रहे।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations