Home » Latest » राजद के लंपट चरित्र का दस्तावेज है असिस्टेंट प्रोफेसर दिव्यानंद की पिटाई ?
dvyanand

राजद के लंपट चरित्र का दस्तावेज है असिस्टेंट प्रोफेसर दिव्यानंद की पिटाई ?

पिछले 26 मार्च को बिहार बंद के दौरान तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय, भागलपुर स्नातकोत्तर हिंदी विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर दिव्यानंद देव की छात्र राजद के लालू यादव व  कार्यकताओं सहित अंग क्रांति सेना के संयोजक शिशिर रंजन सिंह ने उस वक्त पिटाई कर दी, जब वे अपना क्लास ले रहे थे। इस बावत प्रोफेसर दिव्यानंद देव ने फोन पर बताया कि 26 मार्च को जो बिहार बंद था, उसका समर्थन हमारे एचओडी ने पहले से ही सोशल मीडिया पर कर रखा था। हमलोग इसके समर्थन में थे। लेकिन कुछ बच्चे आ गये थे, अत: 10.30 बजे से 11.30 का क्लास हमारे सीनियर प्राफेसर ने ली। सिस्टम से दूसरी क्लास 11.30 से 12.30 तक मेरी थी, जिसे मैं अपने हेड की सहमति से ले रहा था। मैं 11.30 बजे क्लास में गया, संयोग वश 26 मार्च को महादेवी वर्मा की जन्मतिथि भी थी, सो मैं उन्हीं पर बातचीत शुरू की। उस दिन हवा काफी तेज चल रही थी, इस कारण बाहर से हवा की तेज आवाज आ रही थी। डिस्टर्व नहीं हो इसलिए मैंने दरवाजा बंद करवा दिया था। वैसे आमतौर पर मैं दरवाजा लगवाता नहीं हूं। 12 बजे के करीब जोर—जोर से दरवाजा पीटा जाने लगा। बच्चे और हम घबड़ा गए कि क्या हुआ? मैंने जैसे ही दरवाजा खोला 10—12 लोग अंदर आ गए, वे सभी छात्र राजद और अंग क्रांति सेना के लोग थे। उन्होंने मुझे पकड़ा और बाहर गलीयारा की ओर ले गए और बिना कुछ बोले व बिना मेरी बात सुने मेरे साथ मारपीट शुरू कर दी। शोरगुल सुनकर प्रोफेसर, स्कॉलर सहित अन्य स्टाफ वहां आए और मुझे कवर करके वहां से ले गए। हल्ला होने के बाद विभाग के अध्यक्ष डॉ. योगेन्द्र पहुंचे, उनके सामने भी छात्र राजद के लालू यादव ने थप्पड़ मारा।

आप ऐसी स्थिति का स्वत: अंदाजा लगा सकते हैं कि मुझ पर क्या गुजर रही होगी? मैंने इस घटना पर एफआईआर दर्ज कराया है जिसे देखा जा सकता है।

बता दें कि इस घटना पर कोई भी स्थानीय अखबार अपना पत्रकारिता धर्म नहीं निभाया। इस घटना की जानकारी जब सोशल मीडिया पर आई, तब शिक्षण कार्य जुड़े लोगों में काफी उदासी और नाराजगी नजर आ रही हैं। ये सब ऐसे शिक्षक हैं जो वैचारिक और सैद्धांतिक रूप से समाजवादी और वामपंथी विचारधारा के करीब हैं। वे भी विपक्ष द्वारा बिहार बंद के साथ थे, उनका तरीका अलग था। वे विरोध करते हुए भी शिक्षण प्रशिक्षण का कार्य जारी रखना चाहते थे। जो राजद के लोगों को पसंद नहीं आई।

कई राजनीतिक समझदारों का आकलन यह है कि तेजस्वी यादव और राजद की राजनीति बदल रही है। अब देखना है कि तेजस्वी यादव भागलपुर के मामले में क्या करते हैं?

यह भी देखा जाना है कि विश्वविद्यालय के कुलपति कौन सा ठोस कदम उठाती हैं? जिससे कैंपस का बेहतर माहौल बने और ऐसे तत्वों पर शिकंजा कसा जाए।

बाकी यह भी दिखेगा कि नीतीश कुमार की पुलिस कितना बेहतर ढंग से अपनी जवाबदेही का पालन करती है? ताकि न निर्दोष फसें और न दोषी बचे….!

बताते चलें कि दिव्यानंद देव ओएनजीसी जैसे प्रतिष्ठित संस्थान की अच्छी खासी नौकरी छोड़कर बिहार में एकेडमिक्स की दुनिया में आए हैं, ताकि यहां का माहौल बदलने में अपनी भूमिका निभा सकें। अपनी मिट्टी के लिए कुछ योगदान दे सकें।

घटना के बाद विश्वविद्यालय के अन्य शिक्षकों ने विश्वविद्यालय प्रशासनिक भवन पहुंच कर कुलपति प्रो. नीलिमा गुप्ता को मामले की पूरी जानकारी दी। कुलपति ने मामले को अनुशासन समिति में हवाले कर तीन दिनों में रिपोर्ट मांगी। विश्वविद्यालय थाना में दिव्यानंद ने एफआईआर दर्ज करने के लिए आवेदन दिया।

वहीं अपने बचाव में दूसरे दिन 27 मार्च को अंग क्रांति सेना के विश्वविद्यालय सचिव गौतम कुमार पासवान ने विश्वविद्यालय थाना में हिंदी विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर दिव्यानंद और विभागाध्यक्ष डॉ. योगेंद्र पर जाति सूचक गाली देने एवं हिंसक व्यवहार के संबंध में आवेदन दिया। उसके बाद दूसरे दिन अखबारों में अंग क्रांति सेना के संयोजक शिशिर रंजन सिंह का शिक्षकों पर कार्रवाई करने की मांग करते हुए बयान आया।

जबकि घटना के दिन छात्र राजद और अंग क्रांति सेना के द्वारा मामले से संबंधित न तो कोई आवेदन दिया गया, न ही हिंदी विभाग में हुई घटना में बंद समर्थक छात्र के साथ शिक्षकों द्वारा हिंसा से संबंधित बयान अखबार को दिया गया और न ही सोशल मीडिया पर लिखा गया था।

लेकिन जब सोशल साईट पर हिंदी विभाग के अध्यक्ष डॉ. योगेंद्र ने घटना को लेकर पोस्ट किया, तब अपने बचाव में छात्र राजद और अंग क्रांति सेना के नेताओं व कार्यकताओं ने सोशल साईट पर प्रतिक्रिया देना शुरु की।

इसके बाद दलित छात्र गौतम कुमार पासवान के आवेदन को आधार बनाकर राजद के जिलाध्यक्ष चंद्रशेखर यादव ने कहा कि छात्र राजद कार्यकताओं पर लगाये गये मारपीट का आरोप पूर्णतः राजनीति से प्रेरित हैं। आरोप लगाने वाले शिक्षक ने ही प्रदर्शनकारी छात्रों के साथ दुव्यर्वहार किया व संगठन के विषय में अपशब्द कहा है। विश्वविद्यालय के कुछ शिक्षक बेवजह मामले को तूल दे रहे हैं। विश्वविद्यालय का माहौल बिगाड़ने की साजिश करवायी जा रही है। वहीं युवा राजद के प्रदेश महासचिव मो. मेराज अख्तर उर्फ चांद ने बयान दिया कि छात्र राजद कार्यकताओं पर लगाये गये आरोप मिथ्या एवं मनगढंत हैं।

बताया जाता है कि बंद के दौरान अपनी हिंसक हरकतों के कारण राजद के नेता ने पूर्व जिलाध्यक्ष व मो. मेराज अख्तर उर्फ चांद पर कार्रवाई की थी। उस दौरान भी इन दोनों की पूरी फजीहत हुई थी। वहीं अब तक छात्र राजद के तरफ से ना कोई अखबारों में बयान आया है ना ही कोई थाना में आवेदन दिया गया है।

लेकिन अंग क्रांति सेना के द्वारा घटना के दूसरे दिन एक दलित छात्र द्वारा विश्वविद्यालय थाना में आवेदन दिलवाया गया। उसके बाद दूसरे दिन इस संगठन के संयोजक शिशिर रंजन सिंह का बयान छपा। इसी मामले को आधार बनाकर राजद के जिलाध्यक्ष और युवा राजद के प्रदेश महासचिव का बयान अखबारों में आया है, लेकिन छात्र राजद की तरफ से कोई सफाई नहीं आया है।

बता दें कि प्रोफेसर दिव्यानंद ने विश्वविद्यालय थाना, भागलपुर में लालू यादव, चंदन यादव, दिलीप यादव, उमरताज, मिथुन कुमार यादव, शिशिर रंजन सिंह, प्रिंस कुमार, नीतीश कुमार एवं अन्य अज्ञात कार्यकर्ताओं पर एफआईआर (FIR) दर्ज कराया है। वहीं गौतम कुमार पासवान, पिता श्री बासुकी पासवान ने इसी थाना में जाति सूचक गाली एवं जान से मारने की धमकी देने के संबंध में असिसटेन्ट प्रोफेसर दिव्यानंद देव एवं उनके अन्य समर्थकों पर एफआईआर (FIR) दर्ज कराया है।

साफ है कि पूरे मामले में अपने कुकृत्यों पर पर्दा डालने और विपक्षी स्वर को दबाने के लिए एक दलित छात्र का उपयोग किया जा रहा है और एससी-एसटी एक्ट को औजार बनाया जा रहा है। यह घोर ब्राह्मणवादी व्यवहार है। दलित अस्मिता का मजाक उड़ाना है, एससी-एसटी एक्ट के खिलाफ ब्राह्मणवादी दुष्प्रचार का मौका मुहैया कराना है।

इस बावत सामाजिक कार्यकर्ता अंजनी विशू कहते हैं कि अगर विभाग में अध्यक्ष व शिक्षक के द्वारा बंद करवाने गये कार्यकताओं से कुछ भी बदसलूकी किया गया था, तो उसे उसी दिन थाना में आवेदन देना चाहिए था, न कि अपने कुकृत्यों को जायज ठहराने के लिए एक दलित लड़के का उपयोग करना चाहिए।

राजद समर्थक सोशल मीडिया सामाजिक न्याय की लड़ाई का दावा करते हुए छात्र राजद के हिंसक कार्रवाई को जायज ठहराने की कोशिश कर रहे हैं। क्या सामाजिक न्याय की लड़ाई लड़ने के कारण छात्र राजद को कुछ भी करने की छूट मिल जाती है? दूसरी तरफ वे दिव्यानंद देव की जाति पर बात कर रहे हैं। आखिर जाति देखने का मतलब क्या है? क्या दिव्यानंद ने कोई ब्राह्मणवादी उत्पीड़नकारी व्यवहार किया है?

शेष डॉ.योगेन्द्र की जाति क्या है? डॉ. योगेन्द्र तो पिछड़ी जाति से आते हैं। छात्र राजद की सामाजिक न्याय के साथ कैसी प्रतिबद्धता है कि सामाजिक न्याय के संघर्षों में सक्रिय भागीदारी करने वाले पिछड़ी जाति के एक बुद्धिजीवी के साथ घृणास्पद व्यवहार कर रहा है?

वे सवाल उठाते हुए कहते हैं कि छात्र राजद के सहयोग में सक्रिय अंग क्रांति सेना किस खास सवर्ण जाति का गिरोह है? उसके नेतृत्वकर्ता की जाति क्या है? अंग क्रांति सेना विश्वविद्यालय में भ्रष्टाचार के कई मामलों के आरोपी एक कॉलेज के वर्तमान प्राचार्य, जो एक खास सवर्ण जाति के हैं, के लिए काम करता है।

हकीकत यह है कि विधानसभा में लोकतंत्र की हत्या के खिलाफ राजद की राजनीतिक कार्रवाई तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय में असली चरित्र के साथ खड़ी है।

इस घटना पर पत्रकार पुष्यमित्र कहते हैं कि राजद का पतन इसी छवि के कारण हुआ है। वे लोग बातचीत कम, मारपीट ज्यादा करते हैं। पार्टी इस पहचान और अपने अंदर मौजूद हिंसक व अराजक तत्वों से मुक्त नहीं हो पा रही है। आज भी राजद में ऐसे तत्वों की प्रधानता है जो बातचीत के पहले लाठी चला देने में विश्वास रखते हैं। इसको लेकर पार्टी गंभीर रहने की बजाय बचाव में आ जाती है। इस घटना में भी ऐसा ही हुआ है, असिस्टेंट प्रोफेसर दिव्यानंद देव के साथ छात्र राजद के लोगों ने जिस तरह से मारपीट की, इसके बजाय कि उन पर पार्टी कार्यवाई करती, उनके बचाव में खड़ी हो गई है।

सोशलिस्ट पार्टी (इंडिया) के महासचिव गौतम कुमार प्रीतम कहते हैं कि छात्र राजद के छात्रों द्वारा शिक्षक के साथ मारपिटाई घटना की हम कड़ी निंदा करते हैं। सामाजिक न्याय की बात करने वाली पार्टी राजद के वरिष्ठ नेता को सामने आकर छात्र के गलत रवैया के प्रति माफी मांगनी चाहिए और उन सभी छात्र नौजवान पर अनुशासनात्मक कार्रवाई करनी चाहिए, जो इसमें शामिल हैं। इससे राजद के संगठन को राजनीतिक लाभ भी मिलेगा। अन्यथा इनकी छवि धूमिल होगी।

वहीं अपने उपर हुए हमले पर प्रो. दिव्यानंद की एक ही मांग है कि हमले में शामिल पंजीकृत छात्रों को निष्कासित किया जाय।

विभाग के अध्यक्ष डॉ. योगेन्द्र ने फोन पर हुई बातचीत में बताया कि दिव्यानंद जी के साथ जो घटना घटी है वह बहुत ही दुर्भग्यपूर्ण है, मेरे सामने उन्हें थप्पड़ मारा गया है, इसका मैं गवाह हूं। मेरी मांग हैं कि हमलावरों पर अनुशासनात्मक कार्यवाई हो। वैसे विभाग क्या फैसला लेता है? उसपर निर्भर है।

बता दें कि विश्वविद्यालय के अन्य शिक्षकों ने कुलपति प्रो. नीलिमा गुप्ता को मामले की पूरी जानकारी दी तो कुलपति ने मामले को अनुशासन समिति में हवाले कर तीन दिनों में रिपोर्ट मांगी। लेकिन घटना के दो दिन बाद होली के त्योहार सहित छुट्टियों के कारण अनुशासन समिति ने अभी तक कोई रिपोर्ट नहीं दे सकी है।

विशद कुमार

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

dr. bhimrao ambedkar

65 साल बाद भी जीवंत और प्रासंगिक बाबा साहब

Babasaheb still alive and relevant even after 65 years क्या सिर्फ दलितों के नेता थे …

Leave a Reply