बेहूदे समय के त्रासद प्रहसन : क्या सरकार ने चीतों के साथ कुछ भेड़िये भी छोड़ दिए हैं?

डकैत रमेश सिकरवार चीता मित्रों के महानायक बने. कहते हैं कि सियार का मुंह सियार सूंघ लेता है. रमेश सिकरवार डाकू था बागी नहीं.

Read More

आरएसएस के प्रति ममता बनर्जी के ममत्व पर हैरानी क्यों ? इसमें नया क्या है ?

बंगाल की समृद्ध साझी विरासत की जड़ों में तेज़ाब डालने की अपराधी हैं ममता बनर्जी ममता बनर्जी के आरएसएस प्रेम में पगे उदगारों को पढ़

Read More

हैरी पॉटर और चम्बल किसानों की जीत उसके चार सबक

क्या अब कभी सूर्योदय नहीं होगा? “अब कुछ नहीं हो सकता” का प्रभावी सिंड्रोम इन दिनों की ख़ास बात “क्या हो रहा है नहीं है”,

Read More

उदयपुर : बर्बरता की गला काट होड़

राजस्थान के उदयपुर में एक दर्जी कन्हैयालाल की दो उन्मादियों द्वारा अत्यंत बर्बरता के साथ की गयी हत्या (Kanhaiyalal, a tailor, was brutally murdered by

Read More