Home » Guest writer

Guest writer

जानिए कृषि में रोजगार के अवसर क्या हैं

farming

क्या आप भी जानना चाहते हैं कि एग्रीकल्चर से कौन कौन सी नौकरी मिल सकती है? बीएससी एग्रीकल्चर में करियर कैसे बनाएं? बीएससी एग्रीकल्चर (Bsc Agriculture in Hindi) क्या है कैसे करें? आइए बीएससी कृषि पाठ्यक्रम विवरण हिंदी में (Bsc Agriculture Course Details in Hindi) जानें और जानें कि कृषि में रोजगार के अवसर क्या हैं। कृषि में पेशेवर कैरियर …

Read More »

सिलगेर आंदोलन : कांग्रेस-भाजपा की सरकारों का असली चेहरा बेनकाब

silger movement

सिलगेर आंदोलन : कॉर्पोरेट लूट के खिलाफ आदिवासियों का प्रतिरोध आंदोलन Silger: Adivasi’s resistance movement against corporate loot छत्तीसगढ़ के दक्षिण बस्तर में बीजापुर-सुकमा जिले की सीमा पर स्थित सिलगेर गांव में उन पर हुए राजकीय दमन के खिलाफ चल रहे प्रतिरोध आंदोलन को एक साल, या ठीक-ठीक कहें तो 390 दिन, पूरे हो चुके हैं। बीजापुर-जगरगुंडा मार्ग पर पहले …

Read More »

जाति को नष्ट कैसे करें ?

jagdishwar chaturvedi

How to destroy caste? जितने बड़े पैमाने हम जाति-जाति चिल्लाते रहते हैं, उसकी तुलना में यदि आधा समय भी नागरिक चेतना अर्जित करने, जाति से नागरिक के रूप में तब्दील करने पर खर्च किया होता तो भारत का नक्शा ही बदल जाता। सामाजिक विकास में सबसे बड़ा रोड़ा है जाति चेतना जाति चेतना सामाजिक विकास में सबसे बड़ा रोड़ा है। …

Read More »

आपदा में अवसर : कोरोना काल में भारत में मात्र हर 11 दिन में एक नया व्यक्ति अरबपति बना !

updates on the news of the country and abroad breaking news

कोरोना महामारी के बाद आर्थिक गैर बराबरी बढ़ी (Economic inequality increased after the corona epidemic) एक भारतीय कहावत है कि ‘ महामारी कोई भेदभाव नहीं करती,वह अमीर-गरीब सबको अपना शिकार बनाती है ‘ लेकिन कोरोनावायरस के मामले में वैश्विक अर्थव्यवस्था के मंच पर यह कहावत पूरी तरह अनावृत्त होकर रह गई है। इस कोरोना वायरस द्वारा फैली बीमारी ने कुछ …

Read More »

भारत में मौत की जाति 

national news

Death caste in India! क्या मौत की जाति भी होती है? यह कहना अजीब लग सकता है कि भारत में पैदा हुआ आदमी कितना लंबा जीवन जिएगा, यह इससे तय हो जाता है कि उसने किस जाति में जन्म लिया है। लेकिन यही सच है। Adivasis, Dalits, Muslims have lowest mean age of death among Indians, reveals report चर्चित अर्थशास्त्री …

Read More »

अद्भुत औषधीय गुणों से भरपूर अमलतास का वृक्ष

nature meaning in hindi,nature news in Hindi,nature news articles,nature news and views, nature news latest,प्रकृति अर्थ हिंदी में, प्रकृति समाचार हिंदी में, प्रकृति समाचार लेख, प्रकृति समाचार और विचार, प्रकृति समाचार नवीनतम,

Amaltas tree full of amazing medicinal properties! जानिए अमलतास के औषधीय गुणों के बारे में भारतीय उपमहाद्वीप में अप्रैल से लेकर मई-जून तक की झुलसा देने वाली गर्मी से त्रस्त यहां के लोग इस प्राकृतिक आपदा से मुक्ति और राहत के लिए प्राचीन काल से ही सड़कों पर जगह-जगह घने छायादार वृक्षों, मिट्टी के घड़ों में भरे शीतल, स्निग्ध पेयजल, …

Read More »

फिलिस्तीन की शिरीन अबू अक्लेह की हत्या : निशाने पर निर्भीक पत्रकारिता

press freedom

Shireen Abu Akleh’s killing: fearless journalism on target गोलू-मोलू मीडिया से इतर वाली पत्रकारिता से जुड़ी तीन खबरें आयी हैं। 11 मई को फिलिस्तीन के जेनिन शहर में इजरायली फौजों द्वारा की जा रही जबरिया बेदखली को कवर कर रहीं अल जज़ीरा की वरिष्ठ और जानीमानी पत्रकार शिरीन अबू अक्लेह को गोली मार दी गयी (Shireen Abu Akleh: Al Jazeera …

Read More »

मनासा में “जागे हिन्दू” ने एक जैन हमेशा के लिए सुलाया

badal saroj

कथित रूप से सोये हुए “हिन्दू” को जगाने के “कष्टसाध्य” काम में लगे भक्त और उनके विषगुरु खुश तो बहुत होंगे आज? जिस हिन्दू को जगाने के काम में पूरा कुल कुटुंब लगा हुआ था वह अब जाग चुका है। कहते हैं हजारों साल बाद जागा है तो अब जगार की खबर दुनिया तक पहुंचा कर ही मानेगा। इतना ज्यादा …

Read More »

इस रात की सुबह नहीं! : गुलामी के प्रतीकों की मुक्ति का आन्दोलन !

opinion, debate

There is no end to this night! Movement for the liberation of the symbols of slavery! 16 मई को ज्यों ही वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद परिसर में शिवलिंग मिलने की जानकारी (Information about getting Shivling in Gyanvapi Masjid premises of Varanasi) प्रकाश में आई हर-हर महादेव के उद्घोष से वहां की सड़कें – गलियां गूंज उठीं, जिसकी अनुगूँज पूरे देश …

Read More »

ना करें बीमार होने का इंतज़ार, पहले ही करें रोकथाम

what should we do to stay healthy

Do not wait to get sick, do prevention in advance आजकल की भागदौड़ की जिंदगी व अनियमित दिनचर्या की वजह से हमें बीमारियों को आने से रोक पाना एक बहुत बड़ी चुनौती है. अपने स्वास्थ्य को शारीरिक, मानसिक, और सामाजिक तौर पर संतुलित रखना एक संपूर्ण  स्वस्थ व्यक्ति का द्योतक (sign of healthy person) है, जिसे संतुलित आहार (balanced diet), …

Read More »

हिन्दी की कब्र पर खड़ा है आरएसएस!

jagdishwar chaturvedi

RSS stands at the grave of Hindi! आरएसएस के हिन्दी बटुक अहर्निश हिन्दी-हिन्दी कहते नहीं अघाते। वे हिन्दी –हिन्दी क्यों करते हैं ॽ यह मैं आज तक नहीं समझ पाया। इन लोगों के हिन्दीप्रेम का आलम है कि ये अभी तक इंटरनेट पर रोमनलिपि में हिन्दी लिखते हैं। मेरे अनेक दोस्त हैं जो रोमनलिपि में हिन्दी लिखते हैं, मेरी उनसे …

Read More »

शहीद भगत सिंह के साथी देशभक्त क्रांतिकारी सुखदेव थापर

Shaheed Sukhdev in Hindi

Sukhdev Biography in Hindi | क्रांतिवीर सुखदेव का जीवन परिचय क्रांतिवीर सुखदेव का जन्मदिन 15 मई के सुअवसर पर (On the occasion of Krantiveer Sukhdev’s birthday 15th May) शहीद सुखदेव का जन्म कहाँ हुआ? स्वतंत्रता संग्राम के समय उत्तर भारत में क्रान्तिकारियों की दो त्रिमूर्तियाँ बहुत प्रसिद्ध हुईं थीं। पहली चन्द्रशेखर आजाद, रामप्रसाद बिस्मिल तथा अशफाक उल्ला खाँ की थी, …

Read More »

पहले उन्होंने मुसलमानों को निशाना बनाया अब निशाने पर आदिवासी और दलित हैं

badal saroj

कॉरपोरेटी मुनाफे के यज्ञ कुंड में आहुति देते मनु के हाथों स्वाहा होते आदिवासी First they targeted Muslims, now the target is Adivasis and Dalits दो तथा तीन मई 2022 की दरमियानी रात मध्य प्रदेश के सिवनी जिले के गाँव सिमरिया (Village Simaria in Seoni district of Madhya Pradesh) में जो हुआ वह भयानक था। बाहर से गाड़ियों में लदकर …

Read More »

साम्प्रदायिक ध्रुवीकरण के लिए ज्ञानवापी मस्जिद का मुद्दा

Dr. Ram Puniyani - राम पुनियानी

हिन्दी में डॉ. राम पुनियानी का लेख- ज्ञानवापी मस्जिद – क्यों उखाड़े जा रहे हैं गड़े मुर्दे? Dr. Ram Puniyani’s article in Hindi – Gyanvapi Masjid: Why are the dead bodies being uprooted? मीडिया में इन दिनों (मई 2022) ज्ञानवापी मस्जिद चर्चा में है. राखी सिंह और अन्यों ने एक अदालत में प्रकरण दायर कर मांग की है कि उन्हें …

Read More »

कामसूत्र में कामुकता के नि‍यमों का खेल

what is at the center of the kamasutra

The game of rules of sexuality in the Kamasutra in Hindi कामसूत्र के केंद्र में क्या है? (What is at the center of the Kamasutra?) आनंद में जब अविश्वास पैदा हो जाता है तो उसका सीधा असर शरीर और आत्मा पर पड़ता है। साथ ही वैवाहिक जीवन में कामुक सुख और वैवाहिक दायित्वों पर भी असर पड़ता है। कामसूत्र में …

Read More »

अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस : मानव समाज को देखभाल और स्नेह के बंधन से बांधती है नर्सिंग

international nurses day in hindi

Why do we celebrate International Nurses Day? | हम अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस क्यों मनाते हैं? अंतर्राष्ट्रीय नर्स दिवस (International Nurses Day in Hindi) प्रतिवर्ष 12 मई को मनाया जाता है। 12 मई को इस दिन को मनाने के लिए चुना गया था क्योंकि यह आधुनिक नर्सिंग के संस्थापक दार्शनिक फ्लोरेंस नाइटिंगेल की जयंती (Florence Nightingale’s Birthday) है। नर्सिंग मानव समाज …

Read More »

लघु पत्रिकाएँ : वैकल्पिक पत्रकारिता का स्वप्न

press freedom

वैकल्पिक मीडिया की आवश्यकता क्यों है? Small Magazines: The Dream of Alternative Journalism दिनेशपुर, उत्तराखंड में अखिल भारतीय लघु पत्र-पत्रिका सम्मेलन (All India Small Paper-Magazine Conference at Dineshpur, Uttarakhand) का आयोजन हो रहा है। कुछ समय पूर्व पलाश विश्वास ने पत्रकारिता और साहित्य के संपादन संबधों की चर्चा की थी जिसमें मूल बात यह थी कि रघुवीर सहाय और सव्यसाची …

Read More »

भाजपा की सफलता के लिए जातिगत अस्मितावादी आंबेडकराइट और लोहियावादी जिम्मेदार

BJP Logo

For the success of BJP, the caste identity Ambedkarite and Lohiaist are responsible. उत्तर प्रदेश में भाजपा इस समय जिस सियासी सिलेबस पर आगे बढ़ रही है, उसे विपक्ष की तरफ से कोई चुनौती ही नहीं मिल रही है. सब चुप हैं और ऐसा लगता है कि पूरा मैदान ही साफ़ है. यही नहीं, इस सियासी सिलेबस को आम जनता …

Read More »

हाँ! वो माँ ही तो थी

mona agarwal

वो माँ ही तो थी, जो तुरपती रहती थी, अपना फटा पल्लू बार-बार, ताकि हम पहन सकें, नया कपड़ा, हर त्यौहार। वो माँ ही तो थी, जो खा लेती थी, बासी रोटी चुपचाप, ताकि टिफ़िन हम ले जा सकें फ़र्स्ट क्लास॥ वो माँ ही तो थी, जो सो जाती थी गीले गद्दे पर हर बार, ताकि नींद हमारी ना टूटे …

Read More »

पंडित जवाहरलाल नेहरू और धर्मनिरपेक्षता की चुनौतियाँ

jawahar lal nehru

Pandit Jawaharlal Nehru and the challenges of secularism in Hindi लोकतंत्र बचाना है तो क्या करना होगा? साम्प्रदायिकता के औजार क्या हैं? भारत जब आजाद हुआ तो उसकी नींव साम्प्रदायिक देश-विभाजन पर रखी गयी। फलतः साम्प्रदायिकता हमारे लोकतंत्र में अंतर्गृथित तत्व है। लोकतंत्र बचाना है तो इसके खिलाफ समझौताहीन रवैया रखना होगा। साम्प्रदायिकता के औजार हैं आक्रामकता और मेनीपुलेशन। इसने …

Read More »