ps-1 movie review: सिंहासन के साए तले सांझ सरीखी ‘PS- 1’

मूवी रिव्यू ‘PS- 1’ मणि रत्नम के साथ मिलकर दिव्य प्रकाश दुबे का आकाश और विस्तृत हुआ है। यह फिल्म ठीक उसी सिंहासन के साए तले सांझ सरीखी नजर आती है जिसकी संध्या के घटाटोप में सब एक समान लगने लगते हैं।

Read More

बागबान की याद दिलाती है ‘औलाद रो रंग’

‘औलाद रो रंग’ में एक्टर्स तमाम अपना काम फिल्म के मुताबिक करते नजर आते हैं। निर्देशन कुलमिलाकर ठीक है। वहीं एडिटिंग काबिले गौर है तो इसका एकमात्र गाना आंखें नम करता है। बी जी एम, साउंड, म्यूजिक के मामले में ठीक रही इस फिल्म को देख लेना सार्थक होगा।

Read More

‘आटा साटा’ : सिनेमा की हत्या किसने की?

‘आटा साटा’ : राजस्थान के प्रेमचंद कहे जाने वाले चरणसिंह पथिक की लिखी इस अच्छी – भली कहानी की हत्या सिनेमा के रूप में किसने की है?

Read More

गहरे अवसाद में ले जाती ‘मट्टू की साइकिल’ अब देश भर में चल रही

वैसे क्या कारण है कि इतने साल गुज़र गए पर प्रेमचंद के गोदान का होरी अब भी मट्टू की साइकिल के रूप में ज़िंदा है।  इस फिल्म को देखने के बाद यह विचार जरूर कीजिएगा।

Read More

‘लाल सिंह चड्ढा’ देखनी चाहिए?… जो हुकुम

‘लाल सिंह चड्ढा’ रिव्यू –’Lal Singh Chaddha’ review in Hindi काफ़ी समय से विवादों में घिरी रहने तथा कोरोना के कारण देर से सिनेमाघरों में

Read More

वेब रिव्यू : सपनों की चादर में जिंदगी का ‘अखाड़ा’

हरियाणवी वेब-सीरीज अखाड़ा की समीक्षा Review of Haryanvi Web-series Akhada in Hindi हरियाणा पहलवानों और अखाड़े की धरती, देश के लिए सबसे ज्यादा मैडल लेकर

Read More

कमाठीपुरा बाज़ार में खड़ी ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’

Gangubai Kathiawadi Review in Hindi | गंगूबाई काठियावाड़ी समीक्षा हिंदी में ‘कहते हैं कमाठीपुरा में कभी अमावस की रात नहीं होती।’ यह संवाद सुनते हुए

Read More

Love Hostel Movie review : अपनी ही राह पर दौड़ती ‘लव हॉस्टल’

लव हॉस्टल कहानी | Love Hostel Bollywood Movie Story एक तरफ़ मुस्लिम जाट लड़का दूसरी ओर हिन्दू जाट लड़की। दोनों में प्यार हुआ। कैसे? कब?

Read More

एंटरटेनमेंट बोले तो ‘सूर्यवंशी’ बाकी खोखली

सूर्यवंशी रिव्यू : Sooryavanshi Movie Review in Hindi कोरोना के बाद थियेटर रिलीज में 100 करोड़ क्लब पार करने वाली पहली फ़िल्म बनी सूर्यवंशी Sooryavanshi

Read More

‘सरदार उधम सिंह’ : जानदार भी शानदार भी

‘सरदार उधम सिंह’ रिव्यू ‘आदमी को मारा जा सकता है। उसके विचारों को नहीं और जिस विचार का वक़्त आया हो उसे वक़्त भी नहीं

Read More

एक ‘छत्रसाल’ हम सबके भीतर है

Chhatrasal Web Series MX Player review छत्रसाल वेब सीरीज एमएक्स प्लेयर समीक्षा मादरे वतन हिंदुस्तान की धरती पर पांच बार घुटनों के बल होने वाले

Read More