आजादी का अमृत महोत्सव : नव्य सामंतवाद, मध्यवर्ग और फासिज्म

आजादी का अमृत महोत्सव : नव्य सामंतवाद, मध्यवर्ग और फासिज्म

Azadi ka Amrit Mahotsav : Neo Feudalism, Middle Class and Fascism

तिरंगे के लिए क्या खतरे हैं?

मध्य वर्ग की निजी आर्थिक समस्याएं क्या हैं? मध्य वर्ग नरेंद्र मोदी से प्रभावित क्यों है?

मध्य वर्ग में नवसामंतवाद आ चुका है। मध्य वर्ग की बुनियादी विशेषता क्या है?

मध्य वर्ग के खाली समय को कैसे भरा जाए? मध्य वर्ग को अतीत क्यों भाता है?

देश क्षत विक्षत कब होता है? अतीत का आख्यान किसके लिए जरूरी होता है ?

मुझे नेहरू क्यों अच्छे लगते हैं? लोकतंत्र को क्या चाहिए? लोकतंत्र में असहमति का महत्व?

आज महंगाई और बेरोजगारी चरम पर क्यों है?

क्या भारत को फासिज्म और तानाशाही चाहिए या भारत को लोकतंत्र चाहिए?

इन सारे सवालों पर प्रोफेसर जगदीश्वर चतुर्वेदी का महत्वपूर्ण संवाद… सुनें, शेयर करें और चैनल सब्सक्राइब करें

आजादी का अमृत महोत्सव : नव्य सामंतवाद, मध्यवर्ग और फासिज्म | hastakshep | जगदीश्वर चतुर्वेदी

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner