Home » Latest » कोविड-19 : मत भूलना अच्छी स्वच्छता की ये मूल बातें
Do not take Corona lightly | हल्के में न लें कोरोना को, घर में रहें, खुद बचें-दूसरों को बचाएं। coronavirus in india, Coronavirus updates,Coronavirus India updates,Coronavirus Outbreak LIVE Updates, भारत में कोरोनावायरस, कोरोना वायरस अपडेट, कोरोना वायरस भारत अपडेट, कोरोना, वायरस वायरस प्रकोप LIVE अपडेट।

कोविड-19 : मत भूलना अच्छी स्वच्छता की ये मूल बातें

Don’t forget the basics of good hygiene in Hindi

नई दिल्ली, 15 अप्रैल 2021. देश में कोरोना वायरस (Corona virus In India, कोविड-19) महामारी का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है और पिछले 24 घंटों के दौरान देश के विभिन्न हिस्सों में करीब दो लाख (1.99 लाख से अधिक) नये मामले दर्ज किए गए गए। ऐसे में सामान्य सा प्रश्न है कि कोविड-19 के दौरान स्वच्छता का ख्याल कैसे रखें?

विश्व स्वास्थ्य संगठन की सलाह के मुताबिक कोविड-19 से बचाव के लिए स्वच्छता की ये मूल बातें नहीं भूलना चाहिए –

अपने हाथों को अल्कोहल-आधारित हाथ से नियमित रूप से और अच्छी तरह से साफ करें या उन्हें साबुन और पानी से धोएं। यह वायरस सहित कीटाणुओं को खत्म करता है जो आपके हाथों पर हो सकते हैं।

अपनी आंखों, नाक और मुंह को छूने से बचें। हाथ कई सतहों को छूते हैं और वायरस उठा सकते हैं। एक बार दूषित होने पर, हाथ वायरस को आपकी आंखों, नाक या मुंह में स्थानांतरित कर सकते हैं। वहां से, वायरस आपके शरीर में प्रवेश कर सकता है और आपको संक्रमित कर सकता है।

खांसी या छींक आने पर अपने मुंह और नाक को अपनी मुड़ी हुई कोहनी या ऊतक से ढक लें। फिर उपयोग किए गए ऊतक को तुरंत एक बंद डस्टबिन में डिस्पोज करें और अपने हाथों को धो लें।

अच्छे ‘श्वसन स्वच्छता’ का पालन करके, आप अपने आसपास के लोगों को उन वायरस से बचाते हैं, जो सर्दी, फ्लू और कोविड -19 का कारण बनते हैं।

यह भी पढ़ें –

कोविड-19 : जानिए मास्क कैसे पहनें, कैसे उतारें और मास्क क्यों है जरूरी

एयरोसोल द्वारा वायरस का संचरण रोकने में प्रभावी है मल्टीलेयर मास्क

लॉकडाउन : विश्व भर में बेस्ट हमारे पीएम बीच-बीच में मास्क पहनकर जुमलों की बरसात ही करते रहेंगे ?

वायरस को नष्ट कर सकते हैं नई तकनीक से बने मास्क

कोविड-19 से खुद को और दूसरों को सुरक्षित रखने के लिए क्या करें

कोविड-19 : मोदी सरकार की विफलताओं की दूसरी लहर

अगर बचाना है लाखों रुपये का हॉस्पिटल बिल तो एक मिनट तक हाथ धोएं

यूपी में कोरोना की स्थिति भयावह, अस्पताल की क्षमता बढ़ाने की जगह श्मशान घाट की क्षमता बढ़ा रही है सरकार : प्रियंका गांधी

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

gairsain

उत्तराखंड की राजधानी का प्रश्न : जन भावनाओं से खेलता राजनैतिक तंत्र

Question of the capital of Uttarakhand: Political system playing with public sentiments उत्तराखंड आंदोलन की …

Leave a Reply